सोमवार, 2 अगस्त 2010

सचिन को आराम, सिर्फ द्वेष माना जायेगा


चयनकर्ताओं ने सचिन को विश्राम दे कर,
 राष्ट्र के साथ विश्वास घात किया है ....!
- अरविन्द सीसोदिया
    श्रीलंका में त्रिकोणीय सीरीज़ के लिए शनिवार को 15 सदस्यीय भारतीय टीम का एलान कर दिया गया। मध्यक्रम के धुआंधार बल्लेबाज युवराज सिंह की जहां टीम में वापसी हुई है वहीं मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर, सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर और ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह को चयनकर्ताओं ने आराम देने का फैसला किया है।
   जब सचिन विश्व रिकार्ड से मात्र ३ मैच दूर हैं , तब उसे रोक कर देश के मान को बड़ाने वाली इस घटना में भारतीय किर्केट बोर्ड ने खलनायक की भूमिका निभाई है , आज वन डे के सबसे आधिक मैच खेलने का रिकार्ड श्रीलंका  के सनत जयसूर्या के नाम है  और यह भारत के नाम हो सकता था . सचिन  खेल भी बहुत ही बढिया रहे हैं . वन डे में और टेस्ट में हाल ही में दोहरे शतक लगाये हैं .  त्रिकोणीय सीरीज़ 10 अगस्त से आरंभ हो रही है। भारत और श्रीलंका के अलावा तीसरी टीम न्यूजीलैंड है। सचिन के नाम पर ९४ शतक हैं , शतकों का शतक बनानें बाले वे विश्व के पहले बल्लेबाज बनने बालें हैं, आप उन्हें रोक कर देश के साथ अपराध कर रहें  हैं . वन डे के ४६ शतक और टेस्ट के ४८ कुल , अब आप उन्हें शेष   ६ शतकों  तक नही रोकों यह देश की अपेक्षा है ..!! यदी आप रोकते हो तो देश के शत्रु हो..!!! देश का शुभ चिन्तक नही मना जा सकता . रिकार्ड धारी के नाम के आगे उसके देश का नाम लिखा जाता है , सचिन के नाम के आगे भारत लिखा जाता है.  , इससे  देश को गोरव  मिलता है . आपके किसी भी उतर को सिर्फ मुर्खता  या द्वेष  माना जायेगा . फार्म में चल रहे मास्टर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को श्रीलंका में 10 अगस्त से शुरू होने वाली त्रिकोणीय वनडे सीरीज के लिए विश्राम दिया गया है क्यों  ? यह हाल तब है जब सचिन ने हाल ही में हुई जिंबाब्वे सीरीज में भाग नहीं लिया था। लगता है क़ी कप्तान धोनी  विज्ञापन प्रतियोगिता से सचिन को बहार रखने के लिए यह षड्यंत्र कर रहे हैं . मगर बोर्ड को सावधान रहना चाहिए . यह पाप सहन योग्य नही है , कप्तान टीम का लीडर होता है , मालिक नही की जो चाहे वह खिलवाड़ देश से कर ले .   
     सचिन तेंदुलकर ने अब तक 442 वनडे खेले हैं और वह श्रीलंका के सनत जयसूर्या के 444 मैच के रिकार्ड से केवल दो मैच दूर हैं. उनके वनडे में 46 शतक और 17,598 रन हैं. वह वनडे में दोहरा शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज हैं.उन्होंने 168 टेस्ट में 56.08 के औसत से 13,742 रन बनाये हैं, जिसमें 48 शतक और 55 अर्धशतक शामिल हैं. इस 37 वर्षीय चैम्पियन बल्लेबाज के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बल्लेबाजी में लगभग सारे रिकार्ड हैं और  वह आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वा(168) को पीछे छोड़कर 169वां टेस्ट मैच खेलकर रिकार्ड 3 -08-2010 बना देंगे.
     युवाकाल मे तेंडुलकर घंटों अपने कोच के साथ अभ्यास करते थे। उनके कोच स्टम्प्स पर एक रुपये का सिक्का रख देते और जो गेंदबाज सचिन को आउट करता, वह् सिक्का उसी को मिलता था और यदि सचिन बिना आउट हुये पूरे समय बल्लेबाजी करने मे सफल हो जाते, तो ये सिक्का उन्हें मिलता था। सचिन के अनुसार उस समय उनके द्वारा जीते गये 13 सिक्के आज भी उन्हे सबसे ज्यादा प्रिय हैं।
   1988 मे स्कूल के एक हॅरिस शील्ड मॅच के दौरान साथी बल्लेबाज विनोद कांबली के साथ सचिन ने ऐतिहासिक 664 रनो की अविजित साझेदारी की। इस धमाकेदार जोडी के अद्वितीय प्रदर्शन के कारण एक गेंदबाज तो रो ही दिया और विरोधी पक्ष ने मैच आगे खेलने से इंकार कर दिया। सचिन ने इस मैच मे 320 रन और प्रतियोगिता मे हजार से भी ज्यादा रन बनाये।
सचिन प्रति वर्ष 200 बच्चों के पालन पोषण की जिम्मेदारी ‘अपनालय’, एक गैर सरकारी संगठन, से लेते हैं।

रिकार्डो के बादशाह
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में दोहरा शतक[200] जड़ने वाले पहले खिलाड़ी बने
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा रन (१७००० से अधिक)
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा ४६ शतक
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय के विश्व कप मुक़ाबलों में सबसे ज्यादा रन
टेस्ट क्रिकेट मे सबसे ज्यादा शतक (४८)
सचिन तेंडुलकर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 November 2009 को अपनी १७५ रन की पारी के दौरान एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में १७ हजार रन पूरे करने वाले पहले बल्लेबाज बने।
टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रनों का कीर्तिमान
टेस्ट क्रिकेट १३००० रन बनने वाले विश्व के पहले बल्लेबाज
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा मैन आफ् द सीरीज
एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा मैन आफ् द मैच
अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबलो मे सबसे ज्यादा ३०००० रन बनाने का कीर्तिमान्

    सचिन  को अब हर मैच में मोका  देना चाहिए जब तक की वे देश के नाम नजदीक चल रहे रिकार्ड ना करदें , धोनी ने देश का विश्वास सचिन के मामले में खोया है , मुझे यह महसूस हुआ है क़ी  वन डे की २०० रन की पारी भी पूरी ना हो यह धोनी चाहते  थे  यह उनके खेल ने तब साबित किया था....? १० खिलाडियों में आप कुक्ष भी करते रहो , १ सचिन  को मत छेड़ो....!!!
- राधाकृष्ण  मन्दिर रोड , डडवाडा कोटा 2 , राजस्थान .