शुक्रवार, 6 मई 2011

अमरीकी देन है मुस्लिम आतंकवाद

- अरविन्द सिसोदिया 
   अमरीका को भी समझना चाहिए की बबूल बो कर  गुलाब के फूल  प्राप्त नहीं किये जा सकते ..! आतंकवाद का जन्म अमरीका ने ही दिया ,सोवियत संघ की सेनाएं अफगानिस्तान में उसकी मदद कर रहीं थीं | यह अमरीका को नागवार गुजरा और उसनें अफगानिस्तान में मुस्लिम आतंकवाद खड़ा किया ..! अमरीकी धन, तकनिकी  और हथियारों के बल पर यह खड़ा हुआ | पाकिस्तान को अमरीका  ने मध्यस्थ बनाया ! उसनें भी खूब  मुनाफा बटोर और भारत में भी आतंकवाद का आक्रमण करवाया !! सोवियत तो अफगानिस्तान से चले गए .., यह शैतान फिर अमरीका को खानें लगा ओरों  को भी नुकसान पहुचने लगा !! लादेन इसी फसल की उत्पत्ति थी !! अमरीका जो दुनिया भर में शैतानी हरकतें कर अपना बर्चस्व और व्यापार बनाये रखनें का खेल खेल रहा है , उसे बंद करना चाहिए || 


पाकिस्तान 


आतंकवादी राष्ट्र घोषित हो ..


भारतीय मूल के ब्रितानी लेखक सलमान रश्दी ने पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से अलग-थलग करने की मांग करते हुए कहा है कि वक्त आ गया है कि इस देश को आतंकवादी राष्ट्र घोषित कर दिया जाए।
सैटेनिक वर्सेज जैसी विवादास्पद पुस्तक लिखकर पूरी दुनिया में चर्चा का केंद्र बने सलमान रश्दी ने कहा कि लादेन के बारे में हुऐ घटनाक्रम से पता चलता है कि पाकिस्तान में सत्ता के शिखर पर बैठे लोग मौजूदा समय में उचित कदम नहीं उठाएंगें। लादेन का एबटाबाद में बना घर इस बात को और पुख्ता करता है कि पाकिस्तान एक खतरनाक खेल खेल रहा है।
रश्दी ने कहा कि पूरी दुनिया में इस बात को लेकर चिंता है कि आतंकवादी अपने सरगना की मौत का बदला लेगें। पाकिस्तान को लोगो के मुश्किल सवालों का संतोषजनक जवाब देना होगा। भारत में जन्मे इस लेखक ने कहा कि शायद वक्त आ गया है कि पाकिस्तान को आतंकवादी मुल्क घोषित कर दिया जाए और उसे अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से बाहर का रास्ता दिखा जाए।

अमरीका व चीन से संयुक्त रोमांस ,महँगा पड़ेगा पाकिस्तान को

ओसामा
-अरविन्द सिसोदिया 
पाकिस्तान की स्थिति पति और प्रेमी  के बिच फंसी स्त्री की तरह से है ! क्यों की उसने अपने जन्म १४ अगस्त १९४७ के दिन से ही अमरीका से सैन्य संधि कर विवाह किया हुआ है !!अब उसे चीन भा गया है ..! आजकल वह अमरीका से पैसा प्राप्त करता है और चीन के साथ हनीमून मनाता है .! अमरीका छोड़ने तैय्यार नहीं है , वह अपनी रखैलों में से एक कम नहीं करना चाहता ..!! चीन इसे हर हालत में अपनी बना कर रखना चाहता है !! सो युद्ध भूमि अब पाकिस्तान अगले अनेकों वर्षों तक रहने वाला है | अब अमरीका पाकिस्तान की परमाणु चाबी को भी इसी तरह प्राप्त करेगा !!!