शुक्रवार, 20 मई 2011

कांग्रेस : भ्रष्टाचार की जय हो



- अरविन्द सिसोदिया 
   सवाल यह नहीं है की ए राजा किस पार्टी के हैं ..,सवाल यह है की उन्हें किसनें बनाया था और उनसे किसने इतना बड़ा भ्रष्टाचार करवाया ..! इसमें शक नहीं होना चाहिए की कांग्रेस में छोटी छोटी बातों का फैसला हाई  कमान उर्फ़ सोनिया गाँधी जी पर ही छोड़ा जाता है ..! चाहे मनमोहन सिंह जी हों या ए राजा हों .., नियुक्ति किसनें की ..उसकी पार्टी को ही ये अपयश जाएगा की भारत  सत्ता का दुरुपयोग कर व्यक्तिगत संपत्ति बनाने वाले शीर्ष-10 लोगों की सूची में दूसरे क्रम पर रखा है।

    2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में फंसे पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा को अमेरिकी मैगजीन 'टाइम' ने सत्ता का दुरुपयोग कर व्यक्तिगत संपत्ति बनाने वाले शीर्ष-10 लोगों की सूची में दूसरे क्रम पर रखा है। मैगजीन के मुताबिक ए, राजा की वजह से भारत में सरकारी खजाने को अब तक की सबसे बड़ी चपत लगी है।

टाइम मैगजीन की इस सूची में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन पहले क्रम पर हैं। चर्चित वाटरगेट कांड में महाभियोग झेल चुके निक्सन ने अपने विरोधियों के खिलाफ सत्ता का गलत इस्तेमाल किया था। लीबिया के तानाशाह मुअम्मर गद्दाफी इस सूची में चौथे और इटली के प्रधानमंत्री सिल्वियो बलरुस्कोनी छठे स्थान पर हैं। सातवीं पायदान पर उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग इल का नाम है।

कांग्रेस सरकार : देश की इज्जत की कोई चिता है..?

- अरविन्द सिसोदिया 
इस समय कांग्रेस सरकार चलाना भूल गई है .., उसके सरकारी कामकाज देश को अन्दर तो लम्बे समय से ही विफलता की इबारत लिख रहे हैं ..मगर अब उसने विदेश स्तर पर भी देश की नाक कटाना शिरू  कर दिया है ..! पाकिस्तान को सोंपी गई मोस्ट वांटेड सूची को न तो अपडेट किया गया न ही पुनर्निरीक्षण  की जरुरत समझी गई | उस सूची में से दो मोस्ट वांटेड ठाणें और मुम्बई में ही निकल आये  | तारीख  निकला वारंट लेकर सीबीआई की टीम पुरुलिया मामले के मास्टर माइंड किम डेवी के प्रत्यर्पण के लिए डेनमार्क के कोपनहेगन जा पहुंची, सीबीआई के पास डेवी की गिरफ्तारी के लिए जो वॉरंट था, उसकी समय सीमा पहले ही खत्म हो चुकी थी। 
-------
पाकिस्तान को सौंपी गई भारत के 50 ‘मोस्ट वांटेड’ भगोड़ों की सूची का एक अपराधी मुंबई की आर्थर रोड जेल में है। इस खुलासे होने के बाद सीबीआई ने एक इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया है और एक एसपी व एक डीएसपी स्तर के अधिकारी का तबादला कर दिया है।

भारत की पाकिस्तान को सौंपी गई ‘मोस्ट वांटेड’ सूची में 24वें स्थान पर फिरोज अब्दुल खान उर्फ हमजा (51) का नाम है, जो 1993 के मुंबई ब्लास्ट मामले का आरोपी है। सीबीआई ने उसे पिछले साल अपनी हिरासत में लिया था। इसके बाद भी सीबीआई ने 1994 में खान के खिलाफ जारी इंटरपोल का रेड कार्नर नोटिस वापस नहीं लिया था।

क्या है आरोप: खान पर मुंबई बम धमाके का आरोप है। विस्फोट की घटना के बाद वह विदेश भाग गया था। 2004 में वह वापस लौटा। 5 फरवरी 2010 को मुंबई क्राइम ब्रांच ने उसे नवी मुंबई के एक गांव से गिरफ्तार कर किया।

पहला नहीं है मामला: भगोड़ों की सूची में वजाहुल कमर खान का नाम शामिल होने की गलती उजागर हुई थी। वजाहुल ठाणे के वागले इस्टेट में पत्नी, मां और बच्चों के साथ रह रहा है। अदालत में सुनवाई के दौरान नियमित तौर पर हाजिर भी हो रहा है। इसके बावजूद उसका नाम सर्वाधिक वांछित भगोड़ों की सूची में शामिल था।