गुरुवार, 4 अगस्त 2011

अब कांग्रेस हरियाणा में जमीन घोटाला




- अरविन्द सिसोदिया    
उत्तर प्रदेश में किसानों का मसीहा बनाने का नाटक करने वाली कोंग्रेस हरियाणा में जमीन घोटाला करते हुए रंगे हाथों पकड़ी गई है ..! गुडग़ांव में राजीव गांधी ट्रस्ट को 40 कनाल 3 मरला जमीन रिलीज करके ट्रस्ट को अरबों रुपए का फायदा पहुंचाया है। अदालत ने सरकार से इस ट्रस्ट को रिलीज की गई जमीन का ट्रस्टियों के नाम सहित सारा रिकॉर्ड भी तलब किया है। बताया जाता है कि राजीव गांधी ट्रस्ट के ट्रस्टियों में यूपीए अध्यक्षा सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी व वडेरा परिवार भी शामिल है। उन्होंने कहा कि एक अन्य डेंटल सर्जन को भी नौ कनाल जमीन रिलीज की गई। इस प्रभावशाली डेंटल सर्जन का संबंध पूर्व प्रधानमंत्री व राष्ट्रप्रति के साथ रहा है।  ----
   
नई दिल्ली। हरियाणा में भूमि अधिग्रहण घोटाले से जुडे विवाद को लेकर भाजपा सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही बुधवार को एक बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।
भाजपा सदस्य आरोप लगा रहे थे कि हरियाणा की काग्रेस नीत राज्य सरकार ने अन्य जमीन तो अधिग्रहीत की लेकिन राजीव गाधी चैरिटेबल ट्रस्ट के नाम वाली एक संस्था की जमीन को जानबूझकर अधिग्रहीत नहीं किया गया।
-----------------------
चंडीगढ़। हुड्डा सरकार द्वारा राजीव गांधी ट्रस्ट को गुडग़ांव में भूमि रिलीज करने के मामले में गांधी परिवार को अरबों रुपए का फायदा पहुंचाने के मामले में इनेलो ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुडडा से त्यागपत्र की मांग की है। इनेलो के प्रधान महासचिव व विधायक डॉ. अजय सिंह चौटाला ने कहा कि पिछले छह सालों के दौरान हुड्डा सरकार द्वारा किसानों की अधिग्रहण की गई सभी जमीनें किसानों को वापिस लौटाने के साथ-साथ सरकारी दबाव में किसानों द्वारा भू-माफिया को बेची गई जमीनें भी उन्हें वापिस दिलाई जाएं।

उन्होंने कहा कि डीएलएफ व रिलायंस समेत बड़े-बड़े औद्योगिक घरानों को दी गई जमीनों में किए गए घोटालों की सर्वोच्च न्यायालय के कार्यरत न्यायाधीश से उच्चस्तरीय जांच करवाई जाये। हुड्डा सरकार के भूमि अधिग्रहण घोटालों की सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट में यह बात सामने आई कि हुड्डा सरकार ने गुडग़ांव में राजीव गांधी ट्रस्ट को 40 कनाल 3 मरला जमीन रिलीज करके ट्रस्ट को अरबों रुपए का फायदा पहुंचाया है। अदालत ने सरकार से इस ट्रस्ट को रिलीज की गई जमीन का ट्रस्टियों के नाम सहित सारा रिकॉर्ड भी तलब किया है। बताया जाता है कि राजीव गांधी ट्रस्ट के ट्रस्टियों में यूपीए अध्यक्षा सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी व वडेरा परिवार भी शामिल है। उन्होंने कहा कि एक अन्य डेंटल सर्जन को भी नौ कनाल जमीन रिलीज की गई। इस प्रभावशाली डेंटल सर्जन का संबंध पूर्व प्रधानमंत्री व राष्ट्रप्रति के साथ रहा है।

इनेलो विधायक ने कहा कि कर्नाटक खनन घोटाले में हरियाणा के एक कांग्रेसी सांसद और विधायक के परिवार की कंपनी पर 324 करोड़ रुपए का सरकारी खजाने को चूना लगाने, तत्कालीन मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के परिवार को करोड़ों रुपए रिश्वत देने व खनन चोरी करने के आरोप हैं। उन्होंने कहा कि कर्नाटक के लोकायुक्त जो सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश रहे हैं, ने हरियाणा के इस कांग्रेसी सांसद व विधायक के परिवार की कंपनी के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर कार्रवाई किए जाने की सिफारिश की है। इसके बावजूद अभी तक इस मामले में कांग्रेस नेतृत्व की चुप्पी यह साबित करती है कि इन सभी घोटालों में कांग्रेस आलाकमान व प्रदेश नेतृत्व भी पूरी तरह से संलिप्त है।

चौटाला ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री हुड्डा हरियाणा की भूमि अधिग्रहण नीति को देश में सर्वश्रेष्ठ बताते हैं तो उन्हें अब तक उनके कार्यकाल में हुए भूमि घोटालों की जांच सर्वोच्च न्यायालय के सेवारत न्यायाधीश से करवाने में गुरेज क्यों है? उन्होंने कहा कि रिलायंस को सेज के नाम पर दी गई भूमि में एक लाख करोड़ रुपए का घोटाला किया गया है और डीएलएफ को वजीराबाद में जमीन देने में 1700 करोड़ रुपए का घोटाला उजागर होने के बाद अब राजीव गांधी ट्रस्ट को जमीन रिलीज करने के मामले में अरबों रुपए का घोटाला सामने आया है।

ईसाई राज्य ऑस्ट्रेलिया में 103 भारतीय मारे गए अथवा घायल हुए

- अरविन्द सिसोदिया 
    ईसाई राज्य आस्ट्रेलिया का भारत विरोधी चेहरा .....

ऑस्ट्रेलियाई हमलों में 103 भारतीयों की जान गई
Thursday , Aug 04,2011, 12:43:08 AM

नई दिल्ली !   प्रवासी भारतीय मामलों के मंत्री वायलार रवि ने बुधवार को कहा कि पिछले वर्ष ऑस्ट्रेलिया में हुए हमलों में करीब 103 भारतीय मारे गए अथवा घायल हुए। उन्होंने कहा कि ऐसे हमलों को रोकने के लिए कदम उठाए गए हैं।
रवि ने लोकसभा को बताया, ''यह ऑस्ट्रेलिया की सरकार को बता दिया गया है कि वहां रहने वाले सभी भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित कराना ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों की जिम्मेदारी है।''
उन्होंने कहा कि वर्ष 2009 में ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर हुए हमलों में 52 नागरिकों को या तो अपने जीवन से हाथ धोना पड़ा अथवा वे घायल हुए जबकि वर्ष 2008 में इस तरह की 11 घटनाएं वहां हुईं।
ज्ञात हो कि भारतीयों पर हुए हमलों ने कूटनीतिक विवाद को जन्म दिया। भारत ने खासकर छात्रों पर हुए हमलों के लिए नस्लवाद को जिम्मेदार ठहराया। जबकि ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने कहा कि वे हमले रोकने के लिए कदम उठा रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2009 में ऑस्ट्रेलिया में शिक्षा प्राप्त करने के लिए 150,000 से अधिक भारतीय छात्रों ने दाखिला लिया था। भारतीयों पर लगातार हमलों को देखते हुए कई छात्र वापस लौट आए।