रविवार, 16 अक्तूबर 2011

मंत्री मदेरणा की मुक्ति में विलम्ब क्यों....?





- अरविन्द सिसोदिया 

आज तक के चैनल ” तेज “ पर सूचना आ रही है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने , जल संशाधन मंत्री महीपाल मदेरणा से भंवरी गुमसुदगी प्रकरण के चलते पद से इस्तीफा मांगा है...नैतिकता तो यह कहती है कि जिस दिन श्री मदेरणा का नाम आया था तभी उन्हे इस्तीफा देकर निष्पक्ष जांच की बात कहनी चाहिये थी। और राजधर्म यह कहता है कि जानकारी आते ही एक दो दिन की फोरी जांच के बाद स्वंय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मंत्रीमण्डल से उन्हे मुक्त कर देना चाहिये था। मुख्यमंत्री और मंत्री दोनों ही जांच प्रभावित करने के दोषी तो हैं ही ...,अब डेढ माह बाद....पूरे मामले के सबूत मिटवा कर.... गहलोत उन्हे मंत्री पद से हटातें हैं तो भी अर्थहीन है और वे अब हटते भी है तो अपना काम तो वे पूरी सफाई से कर ही चुके.....!!!! अब जेल में भी जाना पडे और वहां आराम करने का मौका मिले तो क्या हर्ज ....
---
भंवरी देवी के मामले में : मंत्री महिपाल मदेरणा को मंत्रिमंडल से हटाया जा सकता ..
जयपुर। राजस्थान के जोधपुर जिले के बिलाड़ा कस्बे की नर्स भंवरी देवी के लापता होने के मामले में फंसे जन स्वास्थ्य अभियात्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा को किसी भी वक्त मंत्रिमंडल से हटाया जा सकता है। सूत्रों ने आज यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लापता नर्स भंवरी देवी के मामले की जांच 14 सितम्बर को केन्द्रीय जांच ब्यूरो को सौंपने के साथ ही जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा को इस्तीफा देने की सलाह दी थी।
लेकिन मदेरणा ने अपने पद से इस्तीफा नहीं दिया। उन्होंने बताया कि कैबिनेट मंत्री महिपाल मदेरणा कल रात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिले थे। मुख्यमंत्री ने फिर से मदेरणा को मामले की सीबीआई जांच को देखते हुए अपने पद से इस्तीफा देने की सलाह दी। सूत्रों के अनुसार, लापता भंवरी देवी मामले में फंसे जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा द्वारा करीब एक माह से अधिक समय बाद भी इस्तीफा नहीं दिये जाने को देखते हुए उन्हें राज्य मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने का फैसला किया गया है। इस मामले में मदेरणा का हाथ होने का आरोप है।
मालूम हो कि लापता नर्स भंवरी देवी के पति ने महिपाल मदेरणा पर यह आरोप लगाया था वे उन्‍हें काफी दिनों से ब्‍लैकमेल कर रहे थे। इसके अलाव वे भंवरी देवी को ग्रुप सेक्‍स करने के लिए भी मजबूर करते थे। भंवरी द्वारा सीडी की बात सामने आने के बाद मंत्री ने उनसे दूरी बना ली थी। भंवरी देवी के पति का कहना है कि मेरी पत्‍नी के पास मंत्री मदेरणा के साथ संबंधों की सीडी है।

आज तक के चैनल ” तेज “ पर सूचना आ रही है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने , जल संशाधन मंत्री महीपाल मदेरणा से भंवरी गुमसुदगी प्रकरण के चलते पद से इस्तीफा मांगा है...नैतिकता तो यह कहती है कि जिस दिन श्री मदेरणा का नाम आया था तभी उन्हे इस्तीफा देकर निष्पक्ष जांच की बात कहनी चाहिये थी। और राजधर्म यह कहता है कि जानकारी आते ही एक दो दिन की फोरी जांच के बाद स्वंय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मंत्रीमण्डल से उन्हे मुक्त कर देना चाहिये था। मुख्यमंत्री और मंत्री दोनों ही जांच प्रभावित करने के दोषी तो हैं ही ...,अब डेढ माह बाद....पूरे मामले के सबूत मिटवा कर.... गहलोत उन्हे मंत्री पद से हटातें हैं तो भी अर्थहीन है और वे अब हटते भी है तो अपना काम तो वे पूरी सफाई से कर ही चुके.....!!!! अब जेल में भी जाना पडे और वहां आराम करने का मौका मिले तो क्या हर्ज ....
---
भंवरी देवी के मामले में : मंत्री महिपाल मदेरणा को मंत्रिमंडल से हटाया जा सकता ..
जयपुर। राजस्थान के जोधपुर जिले के बिलाड़ा कस्बे की नर्स भंवरी देवी के लापता होने के मामले में फंसे जन स्वास्थ्य अभियात्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा को किसी भी वक्त मंत्रिमंडल से हटाया जा सकता है। सूत्रों ने आज यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लापता नर्स भंवरी देवी के मामले की जांच 14 सितम्बर को केन्द्रीय जांच ब्यूरो को सौंपने के साथ ही जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा को इस्तीफा देने की सलाह दी थी।
लेकिन मदेरणा ने अपने पद से इस्तीफा नहीं दिया। उन्होंने बताया कि कैबिनेट मंत्री महिपाल मदेरणा कल रात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिले थे। मुख्यमंत्री ने फिर से मदेरणा को मामले की सीबीआई जांच को देखते हुए अपने पद से इस्तीफा देने की सलाह दी। सूत्रों के अनुसार, लापता भंवरी देवी मामले में फंसे जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा द्वारा करीब एक माह से अधिक समय बाद भी इस्तीफा नहीं दिये जाने को देखते हुए उन्हें राज्य मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने का फैसला किया गया है। इस मामले में मदेरणा का हाथ होने का आरोप है।
मालूम हो कि लापता नर्स भंवरी देवी के पति ने महिपाल मदेरणा पर यह आरोप लगाया था वे उन्‍हें काफी दिनों से ब्‍लैकमेल कर रहे थे। इसके अलाव वे भंवरी देवी को ग्रुप सेक्‍स करने के लिए भी मजबूर करते थे। भंवरी द्वारा सीडी की बात सामने आने के बाद मंत्री ने उनसे दूरी बना ली थी। भंवरी देवी के पति का कहना है कि मेरी पत्‍नी के पास मंत्री मदेरणा के साथ संबंधों की सीडी है।