शनिवार, 5 नवंबर 2011

भंवरी - डेमेज कंट्रोल की रणनीति पर टेपें सार्वजनिक कर रही सरकार


राजनीति का भंवरजाल नहीं समझ सकी भंवरी................
भंवरी - डेमेज कंट्रोल की रणनीति पर टेपें सार्वजनिक कर रही सरकार..............
भंवरीदेवी की टेपें तो राजस्थान सरकार की पुलिस भी बरामद कर सकती थी। मगर उसने बरामद नहीं कीं अब साबीआई के द्वारा यह टेपें बरामद करना बताया जा रहा है। मगर यह टेपें जिस तरह से उजागर की जा रहीं हैं या मीडिया को उपलब्ध करवाई जा रहीं हैं उससे लगता है कि अशेक गहलोत सरकार डेमेज (नुकसान की भरपाई ) कंट्रोल की रणनीति पर काम कर रही है और सीबीआई उसी क्रम में यह टेपें सार्वजनिक कर रही । मकसद यह है कि भंवरी को बदनाम करके उसे मारा जाना अपरोक्ष न्यायोचित ठहराया जा सके। अन्यथा इन टेपों को क्रमबार उजागर क्यों किया जा रहा है जबकि मामला उच्च न्यायालय की देख रेख में है ?
-----
लिंक
http://www.bhaskar.com
Source: bhaskar news   |   Last Updated 11:30(05/11/11)
सेक्‍स सीडी का भंवर: नई सीडी में भंवरी की धमकी- पैसे नहीं मिले तो सबकी पोल खोलूंगी
जयपुर/जोधपुर.इंद्रा-भंवरी के बाद एक और ऑडियो सीडी बाजार में है। इस दूसरी सीडी में बिचौलिए सोहनलाल और भंवरी में बातचीत हो रही है। भंवरी 7 सितंबर से पहले पैसे मांगती है। बताया जाता है कि इस बातचीत के कुछ दिन बाद भंवरी सोहनलाल के गांव गई थी और तभी से गायब है। बातचीत हूबहू..
भंवरी: कब तक पैसे मिलेंगे?
सोहनलाल: मैंने बात की है (मदेरणा से) और वो तैयार हैं।
भंवरी: पर..पैसे लेकर कौन आएगा?
सोहनलाल: आप इन सबमें मत पड़ो। मैं खुद उनसे पैसे लूंगा और लाकर दूंगा। अगर कोई और बीच में आएगा तो वो भी फायदा उठाएगा। कोई भी इतना सारा पैसा बिना किसी मकसद के नहीं देगा। चुनाव का वक्त भी नहीं है कि लगे फंड का पैसा है। एकाध लाख की बात हो तो समझ में आता है। इतनी बड़ी रकम नहीं।
भंवरी: कोई गड़बड़ ना हो, दो-तीन लोगों को शामिल करना चाहिए।
सोहनलाल: ठीक है। एक आदमी मेरी, एक आपकी तरफ से।
भंवरी: पर मेरे भरोसे के आदमी तो सिर्फ आप हो।
सोहनलाल: ठीक है। पैसे की बातचीत हम दोनों के बीच में ही रहेगी। बाद में मैं कुछ पैसे ले लूंगा।
भंवरी: ये दूसरी बात है।
सोहनलाल: अच्छा.. मुझे गांव जाना है। नौ बजे फोन करूंगा।
भंवरी: ठीक है। देसी घी लेते आना।
सोहनलाल: पक्का। छह-सात किलो घी अगले दिन भिजवा दूंगा।
भंवरी: वो इंद्रा है ना, मलखान की बहन, वो मुझे बदनाम कर रही है कि मैंने मलखान से पैसे लिए हैं। वो मेरा परिवार बर्बाद करवा देगी। वो ओसियां वाला एसएचओ लाखाराम कहां है आजकल?
सोहनलाल: लेकिन मैं उसे नहीं जानता..
भंवरी: लखाराम भरोसे का आदमी है..और बोरुंदा में है..
सोहनलाल: ठीक है। लाखाराम को बोलना कि वो बनिए, कैलाश महेश्वरी..को इस खेल में मत मिलाना..वो मदेरणा का करीबी है..
भंवरी: ठीक है..लेकिन मैं 7 सितंबर के खेजड़ली मेले से पहले सबकी पोल खोल दूंगी..इतना बदनाम कर दिया है मुझे..
सोहनलाल: मैंने तो सुना है कि तुमने डेढ़ करोड़ रुपए लिए हैं..
भंवरी: नहीं मैंने तो अभी तक एक पैसा भी नहीं लिया है
सोहनलाल: इलाके में तो खबर है कि तुमने काफी पैसा लिया है..
भंवरी: नहीं..पर वो मदेरणा जी नहीं आ रहे हैं..
सोहनलाल: मैंने उनसे बात की थी..उनको जोधपुर आना है..वो अन्ना के अनशन की वजह से मीटिंग कर रहे हैं..
भंवरी: ठीक है उनको दो दिन का वक्त दे देते हैं..मैं आपको कुछ बताना चाहती हूं पर भूल गई..
सोहनलाल: क्या कुछ जरूरी था..
भंवरी: याद आएगा तो बता दूंगी.. सोहनलाल: मेरा गैंग पावरफुल होता जा रहा है..  
भंवरी: कौन सा गैंग..
सोहनलाल: बंटी गैंग।
भंवरी: मैं लीला (मदेरणा की पत्नी) और कुसुम (मलखान के भाई की पत्नी) से मिली थी..मैंने उनको बताया कि मेरी कोई गलती नहीं है..
सोहनलाल: अच्छा। पर अकेले किसी से मिलने मत जाया करो..पीछे बच्चे अकेले होते हैं..दूसरा ये भरोसे के आदमी नहीं हैं..अच्छा तुम बाबू को उनके जयपुर वाले पते पर एक चिट्ठी और सीडी की एक कॉपी भेजो..बाबू अभी जयपुर में हैं..इसमें मुझे भी बदनाम किया जा रहा है क्योंकि मेरा काफी पैसे का नुकसान हुआ है..
भंवरी: ये सब इंद्रा का किया-धरा है..पर आप चिन्ता ना करो..
सोहनलाल: नहीं। मुझे कोई चिंता नहीं है..कितनी सीडी हैं? चार?
भंवरी: सिर्फ दो सीडी हैं..दोनों अजमेर के लॉकर में हैं..मैं लॉकर का कोड बता दूंगी। मुझे कुछ हो जाए तो वो सीडी निकाल लेना..
सोहनलाल: पर राजू भाई कह रहे थे कि चार सीडी हैं?
भंवरी: नहीं। सिर्फ दो ही है..और अगर वो समझौते के लिए तैयार हो जाते हैं तो दोनों सीडी उन्हें सौंप दूंगी..नहीं तो एक, दो, तीन..अगर वो दोनों (मदेरणा और मलखान) हाथ मिला रहे हैं तो मैं क्यों ना फायदा उठाऊं..
सोहनलाल: हां ये ठीक है..मैं या तो आज शाम को या फिर कल सुबह तुमसे मिलने आऊंगा...

कौन है सोहनलाल  
सोहनलाल विश्नोई पीएचईडी में ठेकेदार है। बिलाड़ा तहसील के तिलवासनी गांव में रहने वाले सोहनलाल को लापता एएनएम भंवरी देवी ने धर्म भाई बना रखा था। सोहनलाल राज्य के बर्खास्त मंत्री महिपाल मदेरणा का करीबी और लूणी विधायक मलखानसिंह का फुफेरा भाई है।
बताया जाता है कि महिपाल मदेरणा का करीबी होने के कारण ही वह भंवरी देवी का मदेरणा से समझौता करवाना चाहता था। वह करीब तीन साल से भंवरी देवी के संपर्क में था। भंवरी अपहरण मामले में उसे सबसे पहले गिरफ्तार किया गया था। वह अभी जेल में है।