गुरुवार, 10 नवंबर 2011

राजस्थानी एलबमों की अभिनैत्री भवंरीदेवी






आज दिनांक १० नवम्बर २०११ की , 
अभी ई टीवी राजस्थान पर, राजस्थानी एलबमों की अभिनैत्री भवंरीदेवी और राजस्थान सरकार में मंत्री रहे महीपाल मदेरणा की सीडी के अंश दिखाये जा रहे हैं और सीडी के सार्वजनिक होने की खबर दी जा रही है।  
भंवरी को सिर्फ मामूली नर्स बिकाऊ मीडिया के द्वारा प्रचारित करवाया जा रहा है जो की गलत है वह राजस्थानी फिल्मों / एलवमों की अभिनेत्री भी थी और प्रशिद्ध थी ....


लिंक http://hindi.webdunia.com/news-regiona

भंवरी देवी के 'एलबम' की मांग बढ़ी
बाडमेर/जयपुर, रविवार, 18 सितंबर 2011
सूर्यनगरी जोधपुर से नर्स भंवरी देवी के संदिग्ध परिस्थितियों में लापता होने और उससे जुड़ी चर्चाओं की वजह से हाल के दिनों में जहां एक ओर राजस्थान की राजनीति में हलचल मची हुई है वहीं दूसरी ओर लोक संगीत के बाजार में यकायक उनके एलबम की मांग बढ़ गई है।
बाडमेर के म्यूजिक स्टोर विक्रेता कन्हैयालाल खोसाणी ने बताया कि बाडमेर में पहले भंवरी के वीडियो एलबम की कोई खास मांग नहीं थी, लेकिन पिछले कुछ दिनों से ग्राहक उसके वीडियो एलबम मांगने लगे हैं और मांग इतनी बढ़ी है कि इन वीडियो एलबम का स्टाक खत्म हो गया है।
उन्होंने कहा कि ग्राहकों की मांग को देखते हुए जोधपुर से भंवरी देवी के एलबम भेजने का ऑर्डर दिया गया लेकिन वहां से पता चला है कि उनके पास भी स्टाक खत्म हो गया है।
ऑडियो और वीडियो सीडी के एक विक्रेता ने बताया कि लोगों में भंवरी देवी प्रकरण को लेकर खासी उत्सुकता है। यही कारण है कि लोग भंवरी देवी के एलबमों की मांग कर रहे है।
उन्होंने बताया कि कुछ माह पहले तक लोक संस्कृति पर बनी भंवरी देवी की सीडी के खरीदार कभी कभार आते थे पर अब तो भंवरी देवी के एलबम खरीदने वालों की भीड़ लग गई है।
जोधपुर के बिलाडा गांव की लापता नर्स भंवरी देवी के पति द्वारा अपनी पत्नी के लापता होने में राज्य के एक काबिना मंत्री का हाथ होने की बात कहे जाने के बाद राजस्थान की राजनीति के गलियारों में जबरदस्त हलचल है।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा के अनुरोध पर इस मामले की जांच केन्द्रीय जांच ब्योरा को सौप दी है। मदेरणा ने लापता नर्स भंवरी देवी प्रकरण में मीडिया में खुद का नाम सामने आने पर गृहमंत्री शान्ति धारीवाल से मामले की सीबीआई से जांच करवाने का अनुरोध किया था।
जोधपुर के बिलाडा की भंवरीदेवी ने लोक संगीत से जुडे कई वीडियों एलबमों में काम किया है। भंवरी के लापता होने के बाद से उसके एलबम भी सुखिर्यों में है। पश्चिमी राजस्थान के इस इलाके में लोक देवताओं पर बने वीडियो एलबमों का बड़ा क्रेज है।
एक म्यूजिक स्टोर पर भंवरीदेवी का वीडियो एलबम खरीदने आए खियाराम ने कहा पिछले कई दिनो से अखबरों मे भंवरीदेवी के बारे में छप रहा है। ऐसे में, मैं भी एलबम खरीदने आया ह्रूं। खियाराम के मुताबिक उसने भंवरी देवी के दो-तीन एलबम के बारे में सुना था लेकिन बाडमेर में एक ही मिला है।
जोधपुर पुलिस संदिग्ध परिस्थितियों में लापता भंवरी देवी के पति की ओर से दर्ज करवाई गई गुमशुदगी रिपोर्ट पर अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।
पुलिस के कई दल उत्तरप्रदेश, हरियाणा, दिल्ली समेत अन्य कई राज्यों में भंवरी देवी की तलाश में गए हुए हैं, लेकिन अभी तक उनका सुराग नहीं लगा है।
इधर, राजस्थान के जन स्वास्थ्य मंत्री महिपाल मदेरणा से इस बारे में सम्पर्क करने के कई प्रयास करने के बावजूद उनसे बातचीत नहीं हो सकी। हालांकि उन्होंने गत गुरुवार को जारी लिखित बयान में कहा कि राजनीतिक कारणों से मुझे इस मामले में फंसाने का षड़यंत्र रचा जा रहा है। (भाषा)


यूपीए की अल्पमत सरकार को बचाने के लिए सांसदों को खरीदा गया -आडवाणी




जोधपुर। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की जनचेतना यात्रा का आगाज राजस्थान में बुधवार को मारवाड़ आंचल के केन्द्र जोधपुर से हुआ। इस अवसर पर हुई जनसभा में आडवाणी व प्रतिपक्ष की नेता वसुन्धरा राजे से लेकर अनेक भाजपा नेताओं ने  कांग्रेस की आलोचना की और जन  भावना जताई कि महंगाई, भ्रष्टाचार व कालेधन जैसे मुद्दों पर अब जनता कांग्रेस से त्रस्त है और परिवर्तन चाहती है। यहां गांधी मैदान में हुई आम सभा में आडवाणी ने जहां प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह व कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी को ललकारते हुए कालेधन पर श्वेतपत्र जारी करने की मांग की।
जोधपुर व बाद में जैतारण, ब्यावर व अजमेर में सभाओं में आडवाणी ने  कहा कि संसद के आगामी सत्र में सरकार ने काले धन पर श्वेत पत्र जारी नहीं किया तो जनता परिवर्तन करने में देर नहीं लगाएगी। उन्होंने सांसद खरीद फरोख्त काण्ड का जिक्र करते कहा कि कांग्रेस ने पूरे लोकतंत्र को कलूषित किया है।
पूर्व उप प्रधानमंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने बुधवार को गांधी मैदान से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को चुनौती देते हुए कहा कि हिम्मत है तो दोनों देश की जनता को सच बताएं कि 2008 में यूपीए की अल्पमत सरकार को बचाने के लिए कैसे व कितने करोड़ रु. में  सांसदों को खरीदा गया।आडवाणी राजस्थान में जनचेतना यात्रा की शुरुआत के अवसर पर जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह देश को कलुषित करने वाला कांड था। इस अपराध के लिए देश उनको माफ नहीं कर सकता।

आडवाणी ने दोनों को चुनौती देते हुए कहा, ‘वे जानते हैं कि यह कैसे किया, लेकिन दोनों ने चुप्पी साध ली। यह तो भाजपा के तीन सांसद थे, जिन्होंने सारी दुनिया के सामने टेलीविजन पर दिखाया कि विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में यह क्या हो रहा है।
राष्ट्रपति ने सोनिया व मनमोहन सिंह से कह दिया था कि बहुमत प्रमाणित किए बिना आगे सरकार नहीं चल सकती। इसके बाद तारीख तय हो गई कि किस दिन बहुमत का प्रस्ताव रखा जाएगा। फिर कांग्रेस सक्रिय हो गई।’ आडवाणी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के लोगों व कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा गया कि विपक्ष के सांसद जितने पैसों में खरीदे जा सकते हैं, उन्हें दो, चार, पांच या दस करोड़ रुपए देक खरीदो। 

भ्रष्टाचार में घिरे कांग्रेस के सभी मंत्रियों को दंडित नहीं किया जाएगा तब तक देशवासियों को संतुष्टि नहीं मिलेगी। कालाधन देश में वापस आएगा तो भारत के सभी गांवों का विकास होगा।
सभा को प्रतिपक्ष की नेता वसुन्धरा राजे . प्रदेशाध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी, पूर्व वित्त मंत्री जसवंत सिंह जसोल, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश माथुर, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार सहित कई अन्य पदाघिकारियों ने संबोघित किया।