गुरुवार, 12 जनवरी 2012

दिग्विजय सिंह को ही यह मालूम क्यों होता है कि यह फर्जी एनकाउंटर हो रहा है...



- अरविन्द सिसोदिया
यूँ तो .., वोट कि खातिर कितना गिरा जा सकता हे ...इस के उदहारण कोंग्रेस और दिग्विजय सिंह हैं...खैर ...   दिग्विजय सिंह को यह जानकारी रहती हे की देश में कहाँ फर्जी एनकाउंटर हो रहा है | मुम्बई में हुए आतंकवादी हमले में एक बड़े पुलिस अधिकारी की आतंवादियों से सामना करते हुए हुई शहादत को भी उन्होंने प्रश्न चिन्हीत किया था .. वे बटला हॉउस मुठभेड़ को लेकर प्रश्न उठा रहे हैं .., देखने वाली बात यह है कि इनकाउंटरो के समय जो पुलिस काम कर रही थी वह कोंग्रेस कि ही रही हैं ...सवाल यह है कि दिग्विजय सिंह को ही यह मालूम क्यों होता है कि यह फर्जी एनकाउंटर हो रहा है..........जांच तो माननीय दिग्विजय सिंह जी कि होनी चाहिए..

  
‘बटला हाउस घटना पर तोड़ें चुप्पी सोनिया-राहुल’
Thursday, January 12, २०१२
            नई दिल्ली : भाजपा ने गुरुवार को सरकार और कांग्रेस की आलोचना करते हुए कहा कि ये दोनों बटला हाउस मुठभेड़ को लेकर दो तरह की बातें कर रहे हैं। उसने कहा कि एक ओर गृह मंत्री पी. चिदंबरम उसे सही मुठभेड़ बता रहे हैं तो कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह इसे फर्जी कह रहे हैं। 
भाजपा प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने यहां कहा कि अगर गृह मंत्री के रूप में चिदंबरम बटला हाउस मुठभेड़ को असली मुठभेड़ कह रहे हैं तो कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की उपस्थिति में दिग्विजय इसे आजमगढ़ में फर्जी मुठभेड़ क्यों बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में लोग किसकी बात पर यकीन करें। प्रसाद ने कहा कि मामले को स्पष्ट करने के लिए क्या सोनिया गांधी या राहुल गांधी अपने मुंह खोलेंगे या फिर वोट बैंक की राजनीति के लिए वह इस बारे में चुप्पी साधे रखेंगे। 
           सियासी रणनीति के तहत बटला हाउस घटना को लेकर कांग्रेस और सरकार पर दो मुंही बातें करने का आरोप लगाते हुए प्रसाद ने कहा कि यह देश को अस्वीकार्य है और ऐसा खेल बंद होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर दिग्विजय राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड कर रहे हैं तो सोनिया को उन्हें पार्टी के महासचिव पद से तुरंत इस्तीफा देने को कहना चाहिए या बर्खास्‍त करना चाहिए।
(एजेंसी)

==============
बाटला हाउस मामला फिर खोलने की जरूरत नहीं : चिदंबरम
Bhasha , Last Updated: जनवरी 12, 2012 07:57 IST
 एनडीटीवी खबर
http://khabar.ndtv.com
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह द्वारा दिल्ली के बटला हाउस में हुई मुठभेड को फर्जी करार दिये जाने के बयान को सिरे से खारिज करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने गुरुवार को कहा कि वह असल मुठभेड थी और इस मामले को फिर से खोलने की कोई गुंजाइश नहीं है।
चिदंबरम ने इस बारे में संवाददाताओं द्वारा सवाल करने पर कहा कि शुरूआत से ही दिग्विजय सिंह का यही नजरिया रहा है। ‘मैं उनके नजरिये का सम्मान करता हूं लेकिन हमारा निष्कर्ष यही है कि यह असली मुठभेड थी।’
उन्होंने कहा, ‘हर अधिकारी इस बात से सहमत था कि यह असल मुठभेड थी।’ गृह मंत्री ने कहा कि नजरियों में मतभेद हो सकता है लेकिन इस मामले को फिर से खोलने की कोई गुंजाइश नहीं है।
उल्लेखनीय है कि बटला हाउस मुठभेड मसले पर आजमगढ में राहुल गांधी को विरोध का सामना करना पड़ा। उनकी मौजूदगी में दिग्विजय कह गये कि मुठभेड फर्जी थी। उन्होंने कहा कि उनका हमेशा से मानना रहा है कि वह मुठभेड फर्जी थी और उन्होंने सरकार तथा गृह मंत्रालय से मामले की जांच कराने की दिशा में कोशिश की लेकिन नाकाम रहे।
भाजपा ने इस विषय पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सरकार के अलग अलग मत को दो मुंही राजनीति करार देते हुए मांग की है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी इस बारे में अपनी चुप्पी तोड़ें और स्पष्टीकरण दें कि दिग्विजय सही हैं या चिदंबरम।

==============

      दिग्विजय ने बाटला हाऊस एनकाऊंटर को दी हवा
स्टार न्यूज़ ब्यूरो Thursday, 12 January 2012 
http://star.newsbullet.in/india
     नई दिल्ली: यूपी चुनाव करीब आते ही बाटला हाउस एनकाउंटर का मामला फिर गर्म हो उठा है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने फिर दावा किया वो एनकाउंटर फर्जी था. हालांकि उनके दावे को गृहमंत्री पी चिदंबरम ने ही गलत बता दिया. अब विपक्षी दल इस मुद्दे पर कांग्रेस और सरकार से सवाल पूछ रहे हैं.
       कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा कि मारे गए लड़कों के सिर पर गोली लगी थी, जबकि किसी भी एनकाऊंटर में सिर पर पांच गोलियां नहीं लग सकतीं. हालांकि दिग्विजय सिंह इस बात को वो पहले भी कई बार अलग-अलग तरीकों से कह चुके हैं लेकिन यूपी चुनाव से ठीक पहले उन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर के जिन्न को फिर बाहर निकाला है. 
        चिदंबरम ने कहा है कि,"मैं उनकी राय का  सम्मान करता हूं लेकिन गृहमंत्री बनने के बाद मैंने मामले की छानबीन की तो इसी नतीजे पर पहुंचा कि वो एनकाउंटर सही था. सभी जांच एजेंसियां भी इसी नतीजे पर पहुंची हैं कि बाटला हाउस एनकाउंटर सही था. मुझे नहीं लगता है कि इस केस को दोबारा खोलने की जरा भी जरुरत है."
      दिग्विजय सिंह शुरु से बाटला हाउस एनकाउंटर को फर्जी बताते आए हैं लेकिन गृहमंत्री पी चिदंबरम दिग्जिवय सिंह की राय से जरा भी इत्तेफाक नहीं रख रहे हैं. समाजवादी पार्टी कांग्रेस को उसी के चाल से मात देने की कोशिश कर रही है. आजम खां ने दिग्विजय सिंह की बात का समर्थन करते हुए जांच को शीला दीक्षित तक ले जाने की मांग की है.
      बीजेपी को दिग्विजय सिंह और पी चिदंबरम के तकरार की खबर मिली तो उसने लगे हाथों कांग्रेस औऱ सरकार से कुछ सुलगते सवाल पूछ लिए. बीजेपी के तेवर से साफ है कि दिग्विजय सिंह की ये बात यहीं नहीं थमने जा रही है. यूपी चुनाव से ठीक पहले उन्होंने जो बाटला हाउस एनकाउंटर के जिन्न को बोतल से बाहर निकाला है वो चुनाव के दौरान काफी गुल खिला सकता है.