बुधवार, 29 फ़रवरी 2012

भारतीय नववर्ष की अनमोल वैज्ञानिकता :अरविन्द सीसौदिया



भारतीय नववर्ष की वैज्ञानिकता अनमोल
- अरविन्द सीसौदिया
ईश्वर प्रदतता,  नववर्ष व्यवस्था है ; भारतीय संवत्सर.....!
जब भारतीय नववर्ष चैत्र शुक्ला एकम की शुभ बेला आती है, तब भारतीय प्रायद्वीप का माहौल आनंदवर्द्धक हो जाता है। प्रातः का सम तापमान सभी ओर नई चेतना, नई शक्ति, नई उर्जा का संचार करता हेै। ऐसा प्रतीत होता है मानों, एक नया उल्लास, एक नई ललक प्राणी समूह में व्याप्त हो रही है। वृक्ष अपनी पुरानी पत्तियां गिरा कर नई कोंपलें ला रहे होते हैं, सागर में नऐ बादल आकाश का रूख करना प्रारम्भ करते हैं जो नई वर्षा के साथ पृथ्वी को पुनः एक वर्ष के लिए आनन्दित करने वाला वर्षक्रम होता हैं। शक्ति स्वरूपा देवी के नवों स्वरूपों की आराधना प्रारम्भ की जाती है। यह नौ दुर्गा पूजन भी नवदुर्गा पूजन कहलाता हैं। किसान अपनी फसल कोेे खलिहान से घर ला चुका होता है और अगले वर्ष की नई फसल योजनाओं के सपने बुन रहा होता है। नई खेती का शुभारम्भ करता है। खेतों की ग्रीष्मकालीन हंकाई-जुताई, खाद व कुडे-करकट को खेतों में डालना, नहरों, कुओं की सफाई तालाबों की खुदाई...... आदी आदी कार्यों के द्वारा नई शुरूआत, नया शुभारम्भ प्रारम्भ होता है।व्यापारी नये खाते खोलते हैं। उनका पुराना भुगतान होता है, गांवों में सालभर बर्तनों को देने वालेे प्रजापतियों को किसान अन्न दे कर हिसाब करता है, यही हाल धोबी, लुहार और बढ़ई को उसकी सालभर की मजदूरी प्रदान करने का होता है, चिकित्सक का हिसाब होता है। इसी तरह मुनाफा कास्त, बटाई कास्त एवं कृषि श्रमिकों के साल की तयपाई इसी समय होती है अर्थात भारतीय नववर्ष जिसे संवतसर कहा जाता है, भारती प्रायद्वीप ही नहीं पूरे एशिया महाद्वीप पर गम्भीर प्रभाव रखता है। सच यह है कि पहले ब्रिटेन में भी मार्च से नयासाल प्रारम्भ होता था, 25 मार्च नये साल के प्रारम्भ की तारीख रहा करती थी, बाद में इसमें परिवर्तन कर जनवरी से मनाने का फैसला किया गया है। जिसका कोई प्राकृतिक या सृष्टिगत आधार नहीं है। कुल मिला कर ऐसा लगता है जैसे ईश्वर की सृष्टी नवचेतना के संकल्प लिए मधुर बांसुरी बजा रही है,जिसकी मादक बेला हमें नई शक्ति, नई क्रियाशीलता से भर रहा है। मानो ऊर्जा की वर्षा हो रही हो। सच तो यह है कि भारतीय नव सम्वत्सर मानवीय न होकर प्राकृतिक नववर्ष है, इस समय आम वातावरण इस तरह का हो जाता है, मानों पुरानी बैटरी हटा कर नई बैटरी लगाई गई हो, जिसमें दमदार करेंट है। इस प्राकृतिक सत्य को, इस ईश्वरीय सत्य को भारतवासियों ने अनुभवों के द्वारा पहचाना उसमें अनुसंधान किये, सत्य की खोज की सनातन परम्परा के मार्ग पर चल कर कालचक्र के गहरे रहस्यों को जाना-समझा। इसी सारे ताने बाने को अपने में समेटे है भारतीय पंचांग। जो भारतीय जीवन पद्धती का एक अभिन्न अंग और भारतीय नववर्ष शुभारम्भ का महान दस्तावेज भी है। ......
23 मार्च शुक्रवार  से भारत्तीय  संवतसर विक्रमी 2069 का शुभारम्भ होने जा रहा है, इस अवसर पर हमारे बीच यह जिग्ज्ञासा सहज जाग उठती है कि संवतसर क्या है,कब से है..,क्यों है..,इसका एक संझिप्त विश्लेषण की कोशिश प्रस्तुत है।
भारत के द्वारा अंतरिक्ष में छोडा गया उपग्रह आर्यभट्ट, कालगणना व खगोल के महान भारतीय वैज्ञानिक का आर्यभट्ट का अभिनंदन है, सम्मान है। भारतीय वेदों के अनुसार पृथ्वी पर सृजन की उत्पती 197 करोड वर्ष पूर्व हुई है,आश्चर्य है कि आज की आधुनिकतम तमाम वैज्ञानिक भी इसी नतीजे पर पहुचे कि लगभग 2 अरब वर्ष पूर्व से सृजन अस्तित्व में आया,दानों गणनायें पूरी तरह एक दूसरे से मिल रहीं हैं, भारतीय गणना पर विश्व का वैज्ञानिक समाज अचम्भित है कि भारतीयों ने इतनी सटीक गणना कैसे की,ग्रहों की चाल कैसे जानी,सूर्यग्रहण-चंद्र ग्रहण को कैसे पहचाना...!
ऋग्वेद के प्रथम अध्याय के 130 वें सूक्त में चंद्रमा को नक्षत्रेश कहा गया है,वेदों को पाश्चात्य विश्लेषक भी 10-15 हजार वर्ष पूर्व रचित मानते है। हमारे महाभारत में भी आया है कि वेदों का पुनःलेखन वेदव्यासजी ने किया है।इस प्रकार इतना तो स्पष्ट है कि विश्व को कालगणना का प्रथम कार्य व विचार भारत ने ही किया व दिया...।
जिस सूर्य सिद्यांत पर अंग्रेजी सन चल रहा है,उस सबसे पहले पटना में जन्में आर्यभट्ट ने परिष्कृत किया,उन्होने घोषित किया था कि पृथ्विी सूर्य का चक्कर लगाती है। वर्षमान 365.8586805 दिन भी उन्होने ही तय किया व त्रिकोणमिति का अविष्कार किया था, इसी प्रकार उज्जैन में जन्में वराह मिहिर ने खगोल पिण्डों की गहन छानबीन की,भास्कराचार्य ने सबसे पहले गुरूत्वाकर्षण के सिद्यांत को स्थापित करते हुए बताया कि सारा बृम्हांण्ड एक दूसरे के गुरूबल अंतरो पर अबलंवित व गतिशील है।
इसलिये सबसे पहले हमें यह जानना चाहिये कि हमारी पृथ्वी के निवासियों को पूर्व दिशा से दो महान अनुभूतियां पश्चिम को जाती हैं,पहला सूर्य का प्रकाश जो पूर्व से प्रारम्भ हो कर पश्चिम की ओर जाता है दूसरा सनातन संस्कृति (सत्य का नूतनतम ज्ञान जानने वाली संस्कृति)के ज्ञान का प्रकाश जिसने पश्चिम को कदम दर कदम मार्गदशर््िात किया। यहां में इतना स्पष्ट करना चाहूगा कि पश्चिम ने भी जब सत्य को पहचानने की कोशिश की तभी से वह विज्ञान मे। आगे बड पाया है।
भारतीय संस्कृति विलक्षण प्रतिभा के मनीषियों की एक येशी श्रृंखला है जिसने सत्य की खोज में घोर परिश्रम किया और समाज की व्यवस्था को व्यवस्थित किया। भारतीय अनुशंधानकर्ताओं के विश्व स्तरीय ज्ञान के रूप में कालगणना व खगोल सम्बंधी वैज्ञानिकता आज तक प्रमाणिकता से अपना सीना ताने खडी है।
कई बार अंग्रेजी सन की संवत से तुलना की जाने लगती है वह गलत है,सन महज एक सुविधाजनक केलेंडर है जिससे दैनिक राजकार्यो को निर्धारित करने व मजदूरी आदी के भुगतान के लिये काम में लिया गया, इसे सूर्य पर आधारित वर्षगणना मानी जा सकती है,हिसाब - किताब की व्यवस्था की एक विधा मानी जा सकती है मगर इसे कालचक्र का गणित नहीं माना जा सकता। मगर यह खगोल पिण्डों की स्थिती,गती, प्रभाव सहित भारतीय व्रत-त्यौहार आदी में अंग्रेजी सन बहुत ही बौना साबित है न कॉफी व उसकी कोई उपयोगिता नहीं होती है।
हजारो वर्षाे से व्रत, त्यौहार, विवाह, जन्म, पूजा-अर्चना,शुभाशुभ कार्य आदी में भारतीय संवत्सर ही अपनी विशेष भूमिका निभाता है। चाहे दीपावली हो, चाहे होली हो, चाहे कृष्ण जन्माष्टमी हो अथवा रामनवमी हो, संवतसर से ही इनकी गणना होती है। विवाह, जन्मपत्री बनाने, मुण्डन, भविष्यवाणी करने, उद्घाटन, शिलान्यास, शुभ महुर्त अथवा किसी भी प्रकार के शुभ कार्य आदी में महती भूमिका भारतीय कालगणना की है।
सृष्टि की उत्पति, उसके विविध स्वरूपों की व्यवस्था और उनकी निरतरतम गतिविधियों और अन्त (प्रलय) के संदर्भ में जब अध्ययन प्रारम्भ होता है तो सबसे पहला प्रश्न यही उत्पन्न होता है कि खगोल क्या है, कब से है, कब तक रहेगा? हमारे पूर्वजों की इसी जिज्ञासा और सामाजिक व्यवस्थापन की आवश्यकताओं ने कालगणना को जन्म दिया ।
सनातन ऋषियों ने सबसे पहले यह महसूस किया कि पृथ्वी पर होने वाले दिन व रात का समय घटता-बढ़ता रहता है मगर दिन और रात का संयुक्त समय एक ही रहता है, चन्द्रमा का रात्रि दर्शन लगभग निश्चित क्रम में बढ़ता और घटता है एवं लगभग निश्चित अंतर से रात्री में पूर्ण प्रकाश (पूर्णिमा) और अप्रकाश (अमावश्या) आता है। यह भी सामने आया कि पूर्णिमा या अमावश्या भी एक निश्चित समय के पश्चात पुनः आते है जो माह से जाना गया। इतना ही नही जब अन्य क्षैत्रों पर ध्यान दिया गया तो पाया कि वर्षा, सर्दी, गर्मी के तीनों मौसम निश्चित अंतर से पुनः आते हैं। सभी 6 ऋतुओं का भी सुनिश्चित चक्र है और इसी चक्र से अन्ततः स्थापित हुआ वर्ष, क्योंकि यह महसूस किया गया कि बारह पूर्णिमाओं के बाद हम ठीक उसी स्थिति में होंगे हैं जिस स्थिति में इस समय हैं। इसी कारण 12 माह कि एक इकाई के रूप में वर्ष शब्द आया और इस वर्ष के शुभारम्भ को वर्ष प्रतिपदा कहा गया।
काल व्यस्थापन की आवश्यता व रोजमर्रा की भूमिका बढ़ती गई और इसी क्रम में अध्ययन भी बढ़ता गया और मनुष्य की आयु के कारण आया शताब्दि ! फिर अपनी निशानियों को याद रखने और वंश की श्रृंखला निश्चित करने या किसी विशेष घटना को याद रखने के क्रम मे नाम वाले संवत आये। इस तरह के संवतों में विक्रमी संवत नवीनतम है। जो विक्रमादित्य द्वारा विदेशियों पर विजय प्राप्त कर, उन्हे भारत से बाहर खदेड देने की स्मृति में है।
किन्तु इन सभी कृत्यों के चलते हुए भी काल की सही गणना, उसके वैज्ञानिक विश्लेषण, घटित होने वाले प्रभावों से लेकर मानव जीवन तक पर पडने वाले प्रभावों का गहन अध्ययन हुआ, जांचा परखा और खरा पाया गया तत्व संग्रहीत किया गया। उससे किसी ने छेडछाड नहीं की और वह निरंतर चलता रहा, ज्योतिष के रूप में निरंतर परीक्षा की कसौटी पर कसा जाता रहा। यह सारा गणित शुद्ध रूप से वैज्ञानिक अनुसंधान की वह विधा है जो निरंतर नई खोजों में व्याप्त है।
समय के लघु, मध्यम, वृहद और वृहदेत्तर स्थितियों को लेकर सनातन अनुसंधानों में कई इकाईयों और सिंद्धातों को स्थापित किया। लघु क्षैत्र में एक दिन और रात्री का संयुक्त समय 60 घटी अथवा 24 होरा में विभाजित हुआ, उसमें पल, विपल,  वलिप्त, पर और तत्पर का भी अन्तर विभाजन हुआ। भास्कराचार्य ने जिस त्रुटि को समय की इकाई का अंश माना वह सेकेंड का 33750वां हिस्सा है। वहीं काल की महानतम इकाई महाकल्प घोषित की जो कि वर्तमान ब्रह्माण्ड की सम्पूर्ण आयु अर्थात 31,10,40,00,00,00,000 वर्ष है।
समय की छोटी इकाईयों में -
1 पूर्ण दिन (दिन व रात्री) = 60 घटी = 24 होरा
1 घटी = 60 पल = 24 मिनिट
1 पल = 60 विपल = 24 सेकेंड
1 विपल = 60 वलिप्त
1 वलिप्त = 60 पर
1 पर   = 60 तत्पर
समय की दैनिक इकाईयां-
7 दिन = 1 सप्ताह
15 दिन = 1 पक्ष /कृष्णपक्ष /शुक्लपक्ष
2 पक्ष = 1 माह
2 माह = 1 ऋतु
6 ऋतु = 1 वर्ष
2 आयन = 1 वर्ष /
100 वर्ष = 1 शताब्दी
समय की बडी इकाईयों में -
सतयुग  = 17,28,000 वर्ष , त्रेतायुग= 12,96,000 वर्ष
द्वापरयुग= 8,64,000 वर्ष,   कलयुग= 4,32,000 वर्ष
इन चारों युगों के जोड को महायुग कहा जाता है।
महायुग =43,20,000वर्ष, 71 महायुग = 1 मनवंतर
14 मनवंतर व संधिकाल = 1000
1000महायुग = 1 कल्प
1000 महायुग  = 1 कल्प = 432 करोड वर्ष
1 ब्रह्मदिवस  = 2 कल्प (1 कल्पदिन व 1 कल्परात)
   = 864 करोड वर्ष
360 बह्म दिवसों (720 कल्प) का एक ब्रह्म वर्ष
1000 ब्रह्म वर्षों, ब्रम्हा की आयु मानी जाती है।
कुल मिलाकर ब्रह्माण्ड और उसमें व्याप्त उर्जा अनंत है, न तो उसका प्रारम्भ ज्ञात हो सकता न अंत हो सकता। यह सतत व निरंतर है, मगर वर्तमान ब्रह्माण्ड संदर्भ में जो पूर्वजों द्वारा खोजी गई आयु और अंत की वैज्ञानिक खोज है, उसी का नाम संवत्सर की कालगणना है।
भारत में नववर्ष संवतसर चैत्रशुक्ला एकम रविवार से  प्रारम्भ होता है। 1752 ई.तक इग्लैंड में भी नववर्ष 25 मार्च से ही प्रारम्भ होता था। बाद में इसे जनवरी से प्रारम्भ किया गया। संवत पहले दिन से ही पूर्ण व्यवस्थित रहा मगर सन में कई बार सुधार हुए, यहां तक की यह पहले मात्र 10 महीने का ही था।
अंग्रेज सुविधाभोगी अधिक रहे, इससे  कुछ विसंगतियां हैं। हमारे  ऋषिवर जटिलताओं व कठिनाईयों से घबराते नहीं थे वे गूढ़ रहस्यों को भी खोज कर स्पष्टता से सामने लाते थे। चुनौतियों को स्वीकार करते थे और सत्यता को स्थापित करने की कोशिश होती थी। इसी कारण हमारा कालचक्र व उससे जुडे विविध उपयोग मौसम और भविष्यवाणियां अधिक सटीक  हैं।
सौर एवं चन्द्र वर्ष:-
भारत में वर्ष गणना दो प्रकार की स्वीकारी गई है। चन्द्रमा के पृथ्वी परिभ्रमण काल को आधार मानकर जो गणना की जाती है, उसे चन्द्र वर्ष का निर्धारण होता है एवं पृथ्वी के सूर्य परिभ्रमण को आधार मान कर जो गणना की जाती है उसे सौर वर्ष का निर्धारण होता है।
चन्द्रमा पृथ्वी का परिभ्रमण जितने समय में पूरा कर लेता है, सामान्यतः वह समय एक चान्द्रमास कहलाता है। मास के जिस पक्ष में चन्द्रमा घटता है, उसे कृष्ण पक्ष एवं जिस पक्ष में बढ़ता है, उसे शुक्ल पक्ष कहते है। सम्पूर्ण गोल 360 अंशो में समाहित है। इन 360 अंशो में व्याप्त गोल 30-30 अंश के 12 भाग है। 12 राशियॉ एक-एक राशि में  2 नक्षत्र आते है, (एक नक्षत्र 13 अंश 20 कला का होता है।)
पृथ्वी, चंद्र, सूर्य, ग्रह, धूमकेतु, आकाशगंगायें, निहारिकायें सबके सब घूम रहे है, घूमते हुए परिक्रमा कर रहे है, ऐसी स्थिति में स्थिर चिन्हों की खोज हुई, ताकि दिशाओं का निश्चित निर्धारण हो सके, परिणाम स्वरूप ब्राह्मण के 27 स्थिर तारा समूह नक्षत्र के रूप पाये गये जिनका नाम अश्रिवनी, भरणी, कृतिका, रोहिणी, मृगशिरा, आद्वा, पुर्नवसु, पुष्य, आश्लेषा, माघ, पू.फाल्गुनी, उ.फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाती, विशाखा, अनुराधा, ज्येष्ठ, मूल, पूर्वाषाढा, उत्तरा आषाढा़, श्रवण, श्रविष्ठा, शतभिषक, पूर्व भाद्रपद, उत्तर भाद्रपद, रेवती ।
इसी प्रकार सम्पूण ब्राह्मण को निश्चित 12 भागों में बांटा गया ये भाग राशी कहलाते हैं, मेष,  वृष,  मिथुन, कर्क,  सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुम्भ, मीन आदी 12 राशियां हैं। नक्षत्रों एवं राशियों से ही ग्रहों की गत्यात्मक स्थिति की जानकारी प्राप्त होती है। ग्रह गतिशील ज्योतिर्पिण्ड है, जो निरन्तर सूर्य की परिक्रमा करते रहते है। पृथ्वी अन्य ग्रहों की भांति सूर्य की परिक्रमा करती है एवं चन्द्रमा पृथ्वी की परिक्रमा करता है ।
एक चन्द्र मास लगभग 29 दिन का होता है। सूक्ष्म गणनानुसार चन्द्रमा के बारह महीनों को वर्ष सौर वर्ष से 11 दिन 3 घटि 48 पल छोटा है। इस प्रकार 32 माह (लगभग तीन वर्षो) में चन्द्र वर्ष; सौर वर्ष से लगभग एक माह पिछड जाता है, चन्द्र वर्ष एवं सौर वर्ष में गणना में संगति अथवा सामंजस्य बनाये रखने के लिए हर 32 माह के बाद एक अधिमास आता है जिसे मल मास भी कहा जाता है।
शुक्ल पक्ष में चन्द्रमा बढ़ते बढ़ते जिस नक्षत्र में जाकर पूर्ण होता है उसी नक्षत्र के नाम के आधार पर मास का नाम होता है, इसे यो समझें के किसी मास में पूर्णिमा के दिन यदि चन्द्रमा चित्रा नक्षत्र में है तो वह माह चैत्र होगा। यदि विशाखा में है तो वह माह वैशाख होगा। पूर्णिमा की इन नाक्षत्रिक स्थितियों के आधार पर बारह माहों का नाम निर्धारण किया गया है। चैत्र, वैशाख, जेष्ठ, आषाढ, साबन, भादों, आश्विन, कार्तिक, मार्गशीष, पौष, माघ, फाल्गुन आदी बारह माह हैं।भारतीय मासों के नाम किसी हीरों अथवा देवता के नाम पर न होकर शुद्व खगोलीय स्थिति पर आधारित है, प्रत्येक पूर्णिमा की संन्ध्या को पूर्व क्षितिज में विद्यमान नक्षत्र को पहचान कर चन्द्र स्थिति से इस सत्य की पुष्टि की जा सकती है।
नक्षत्रों के सापेक्ष सूर्य एक दिन में एक अंश चलता है एवं चन्द्रमा लगभग 13 अंश। अमावस्या को सूर्य एवं चन्द्र साथ होने से उनके बीच अन्तर शून्य अंश हो जाता है। आगामी 24 घण्टें में सूर्य एक अंश चलता है एवं चन्द्र 13 अंश। परिणामतः इन दोनों के बीच (13-1) याने 12 अंश का अन्तर हो जाता है। चन्द्रमा एवं सूर्य के बीच 12 अंश को अन्तर होने की जो समयाविधि होती है उसे ही तिथि कहतें है। जब कोई तिथि दो क्रमागत सूर्योदयों तक रहती है तो तिथि की वृद्वि कहलाती है अर्थात दोनों दिन एक ही तिथि मानी जाती है क्योंकि सूर्योदय के दिन जो तिथि होती है वही तिथि सारे दिन मानी  जाती है। दो क्रमागत सूर्योदयों के बीच जब कोई तिथि पड़ती है तब उस तिथि का क्षय माना जाता है ऐसी तिथि की अवधि प्रायः 60 घडी से भी कम होती है। प्रत्येक तिथि क्रम से प्रतितिथि सूर्य एवं चन्द्रमा का अन्तर 12-12  अंश करके बढ़ता जाता है। पूर्णिमा को यह अन्तर 15 गुणा 12=180 अंश हो जाता है। पूर्णिमा को सूर्य एवं चन्द्र पृथ्वी से आमने सामने दिखाई देते है। पूर्णिमा की आगामी तिथि (कृष्ण पक्ष प्रतिपदा) से सूर्य एवं चन्द्रमा का अन्तर 12 अंश घटते घटते लगभग 15 दिन में यह शून्य हो जाता है तब अमावस्या की स्थिति आ जाती है । अर्थात चन्द्रमास में तिथियों को क्रम मनमाने आधार पर नही है यह क्रम चन्द्रमा एवं सूर्य की गति एवं उनकी दूरी पर निर्भर करता है । जो लोग भारतीय तिथियों में मनमानापन बताते है उन्हे भारतीय कालगणना का ज्ञान नही है। तिथि गणना साधार एवं वैज्ञानिक है
पृथ्वी से सबसे निकट ग्रह चन्द्र है उसके पश्चात बुध,  शुक्र,  सूर्य, मंगल, बृहस्पति एवं शनि है। यदि निकटता एवं दूरी को ध्यान में रखकर इनकी गणना सूर्य से आरंभ करे तो एक वृत्ताकार क्रम बनता है सूर्य, शुक्र, बुध, चन्द्र, शनि, गुरू एवं मंगल। प्रत्येक अहोरात्र (रात दिन) में 24 होरा (घण्टे ) होते है एवं प्रत्येक होरा एवं प्रत्येक होरा पर किसी ग्रह का अधिपत्य होता है। सूर्योदय के समय पर प्रथम होरा पर जिस ग्रह का अधिकार होता है वह दिन उसी ग्रह के नाम से माना जाता है। सृष्टि के आरंभ के दिन चैत्र, शुक्ला प्रतिपदा थी एवं रविवार था, अतः दिन की गणना रविवार से एवं होरा गणना रवि (सूर्य) से की जाती है। पूर्वाेक्त क्रम से 24 होरा के मध्य सातों ग्रहों का प्रभाव क्रमशः होता है एवं 25वां होरा आगामी दिन का प्रथम होरा होता है। रविवार के प्रथम होरा से गणना करे तो सूर्य, शुक्र, बुध, चन्द्र, शनि, गुरू, मंगल इस क्रम से गणना करने पर 25वां होरा चन्द्र का होता है। अतः रविवार से आगामी वार चन्द्रवार है, चन्द्रवार से गणना, प्रथम होरा से चन्द्रमा से आरंभ करेगें तो 25 वॉ होरा अर्थात आगामी दिन का प्रथम होरा मंगल को आयेगा अतः सोमवार से आगामी वार मंगल हुआ। स्पष्ट है कि वारों के क्रम निर्धारण में एक व्यवस्थित आधार को लेकर चला गया है और आज विश्व के लगभग सभी पंचाग भारत के इसी वार क्रम को अपना रहे है । यह वार क्रम भी वैज्ञानिक है, साधार है ।
सूर्य सिद्धान्त के अनुसार पृथ्वी सूर्य का परिभ्रमण करने में 365 दिन 15 घडी 31 पल 31 विपल एवं 24 प्रतिविपल का समय लेती है । वस्तुतः यही एक वर्ष का मान है । ईस्वी सन का दिनांक मध्य रात्री 12 से आरंभ होता है अर्थात रात्री के 12 बजे के पश्चात् अगला दिन वहां आरंभ हो जाता है, इसका सीधा सा अर्थ है कि उस समय भारत में सूर्योदय हो रहा होता है, इस तरह से इतना तो स्पष्ट है कि पाश्चात्य कालगणना भारतीय कालगणना से अत्याधिक प्रभावित है।
हमारा राष्ट्रीय संवत्, शक संवत् है जो सौर गणना पर आधारित है। शकों को पराजित करने वाले प्रतिष्ठानपुर के राजा शलिवाहन की स्मृति में शक-शालिवाहन संवत् आरंभ हुआ । इसमें एवं विक्रमी संवत् में 135 वर्षो का अन्तर है। सम्राट विक्रमादित्य इनसे पूर्व के है उन्होने सिन्धु तट पर शको को निर्णायक रूप से परास्त किया था। उन्होने शाकारि की उपाधि     धारण की थी एवं विक्रमी संवत् आरंभ किया था। यह चान्द्र वर्ष है एवं हमारे सभी पर्वों एवं सांस्कृतिक उत्सवों का आधार है। वस्तुतः चान्द्र वर्ष एवं सौर वर्ष दोनों ही हमारी संस्कृति की अभेद्य कालगणनाएं है एवं दोनो को ही आधार मानकर  भारतीय जनजीवन निरन्तर विकास की ओर अग्रसर रहा है । ऋतु निर्धारण,  उत्तरायण, दक्षिणायण, लग्न, आनयन आदि में सौर गणना मुख्य है। वृत्त उत्सव, यज्ञ, देवार्चन, विवाह आदि एवं अन्यान्य मुहूर्त प्रकरणों में चन्द्रगणना का विशेष महत्त्व हैं।  

नए चित्र भारतीय नव वर्ष विक्रम संवत २०६९
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/03/blog-post_20.html
----
गुड़ी पड़वा : हिन्दू नववर्ष : चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/03/blog-post_15.html
-----
भारतीय काल गणना सृष्टि की सम्पूर्ण गति, लय एवं प्रभाव का महाविज्ञान है
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/03/blog-post_7839.html
-----
भारतीय नववर्ष की अनमोल वैज्ञानिकता :अरविन्द सीसौदिया
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/02/blog-post_4169.html
----
वैज्ञानिक और प्रमाणिक : भारतीय काल गणना का महासत्य
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/02/blog-post_29.html
----
विक्रमी संवत 2069 : भारतीय नव वर्ष
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/02/22-march-2012-2069-1-97-39-49-110-2-3-4.html

वैज्ञानिक और प्रमाणिक : भारतीय काल गणना का महासत्य











- अरविन्द सिसोदिया
महर्षि दयानन्द सरस्वती ने ऋग्वेद के सृष्टि संदर्भ ऋचाओं का भाष्य करते हुए ‘‘कार्य सृष्टि’’ शब्द का प्रयोग किया है, अर्थात् सृष्टि अनंत है,वर्तमान सृष्टि की उत्पत्ति से पूर्व भी सृष्टि थी। जो सृष्टिक्रम अभी काम कर रहा है वह कार्य सृष्टि है।
बृम्हाण्ड सृष्टि का पूर्व ज्ञान...
- 5150 वर्ष पूर्व ,महाभारत का युद्ध, कौरवों की विशाल सेना के सेनानायक ‘भीष्म’..., कपिध्वज अर्थात् हनुमान जी अंकित ध्वज लगे रथ पर अर्जुन गाण्डीव (धनुष) हाथ में लेकर खड़े हैं और सारथी श्रीकृष्ण (ईश्वरांश) घोड़ों की लगाम थामें हुए है। रथ सेनाओं के मध्य खड़ा है।
- अर्जुन वहां शत्रु पक्ष के रूप में, चाचा-ताऊ, पितामहों, गुरूओं, मामाओं, भाईयों, पुत्रों, पौत्रों, मित्रों, श्वसुरों और शुभचिंतकों को देख व्याकुल हो जाता है। भावनाओं का ज्वार उसे घेर लेता है, वह सोचता है, इनके संहार करने से मेरे द्वारा मेरा ही संहार तो होगा...! वह इस ‘अमंगल से पलायन’ की इच्छा श्रीकृष्ण से प्रगट करता है।
- तब श्रीकृष्ण कहते हैं ‘‘ऐसा कभी नहीं हुआ कि मैं न रहा होऊं या तुम न रहे तो अथवा ये समस्त राजा न रहे हों और न ऐसा है कि भविष्य में हम लोग नहीं रहेंगे।’’ उन्होंने कहा ‘‘जो सारे शरीर में व्याप्त है, उसे ही तुम अविनाषी समझो । उस अव्यय आत्मा को नष्ट करने में कोई भी समर्थ नहीं है अर्थात् आत्मा न तो मारती है और न मारी जाती है।’’
- अंत में योगेश्वर श्रीकृष्ण को अपना विराट स्वरूप दिखाना पड़ता है, इस विराट रूप में विशाल आकाश, हजारों सूर्य और तेज अर्जुन को दिखता है।
‘‘दिवि सूर्य सहस्रस्य भवेद्युगपदुल्पिता।
यदि भाः सदृशी सा स्याभ्दासस्तस्य।।12।।
  - श्रीमद्भगवतगीता (अध्याय 11)
-अर्जुन ने ‘‘एक ही स्थान पर स्थित हजारों भागों में विभक्त ब्रह्माण्ड के अनन्त अंशों को देखा’’
‘‘तत्रैकस्थं जगत्वृत्सनं प्रविभममनेकधा।
अपश्यद्देवदेवस्य शरीरे पाण्डवस्तदा।।13।।
  - श्रीमद्भगवतगीता (अध्याय 11)
-अर्जुन आश्चर्यचकित होकर कहता है ‘‘हे विश्वेश्वर, हे विश्वरूप, आपमें न अंत दिखता है, न मध्य और न आदि।’’
-तब अर्जुन आगे कहता है ‘‘यद्यपि आप एक हैं, किंतु आप आकाश तथा सारे लोकों एवं उनके बीच के समस्त अवकाश में व्याप्त हैं।’’
‘‘द्यावापृथिव्योरिदमन्तरं हि व्याप्तं त्वयैकेन दिशष्च सर्वाः।
दृष्टाभ्दुतं रूपमुग्रं तवेदं लोकत्रयं प्रव्यथितं महात्मन्।।20।।
  - श्रीमद्भागवतगीता (अध्याय 11)
-भयातुर अर्जुन परम् ईश्वर को अपने ऊपर कृपा करने की प्रार्थना करता है। तब भगवान कहते हैं ‘‘समस्त जगत को विनष्ट करने वाला काल मैं हूं।’’
  ‘‘कालोऽस्मि लोकक्षयकृत्प्रवृद्धो’’
    - श्रीमद्भागवतगीता (अध्याय 11)
- ब्रह्माण्ड दर्शन की दूसरी बड़ी घटना, इससे पूर्व की है और वह भी श्रीकृष्ण से जुड़ी हुई है, जिसका वर्णन हमें श्रीमद्भागवत के दशम् स्कन्ध में मिलता है ।
   एक दिन बलराम जी आदी ग्वाल-बाल श्रीकृष्ण के साथ खेल रहे थे। उन लोगों ने माता यशोदा के पास आकर कहा ‘‘मां ! कन्हैया ने मिट्टी खायी।’’ हितैषिणी यशोदा ने श्रीकृष्ण का हाथ पकड़ लिया और मिट्टी खाने की बात पर डांटा। तब श्रीकृष्ण ने कहा आरोप झूठा है, तो यशोदा ने मुंह खोलकर दिखाने को कहा। श्रीकृष्ण ने मुंह खोल कर दिखाया। यशोदा जी ने देखा कि श्रीकृष्ण के मुंह में चर-अचर सम्पूर्ण जगत विद्यमान है। आकाश, दिशायें, पहाड़, द्वीप और समुद्रों के सहित सारी पृथ्वी, बहने वाली वायु, वैद्युत, अग्नि, चन्द्रमा और तारों के साथ सम्पूर्ण ज्योतिर्मण्डल,जल, तेज, पवन, वियत्, वैकारिक अहंकार के देवता, मन-इन्द्रिय, पञ्चतन्मात्राएं और तीनों गुण श्रीकृश्ण के मुख में दीख पड़े। यहां तक कि स्वयं यशोदा ने अपने आपको भी श्रीकृष्ण के मुख में देखा, वे बड़ी शंका में पड़ गई.....!
- आज भी वह स्थान ‘‘ब्रह्माण्ड’’ के नाम से बृज में तीर्थ रूप में स्थित है।
इसका सीधा सा अर्थ इतना ही है कि जिस ब्रह्माण्ड को आज वैज्ञानिक खोज रहे हैं, वह हजारों-लाखों वर्ष पूर्व हिन्दूओं को मालूम थे।
  जीवसŸाा के विनाश का ज्ञान.
‘‘ततो दिनकरैर्दीप्तै सप्तभिर्मनुजाधिय।
पीयते सलिलं सर्व समुद्रेशु सरित्सु च।।’’
  -महाभारत (वन पर्व 188-67)
   इसका अर्थ है कि ‘‘एक कल्प अर्थात् 1 हजार चतुर्युगी की समाप्ति पर आने वाले कलियुग के अंत में सात सूर्य एक साथ उदित हो जाते हैं और तब ऊष्मा इतनी बढ़ जाती है कि पृथ्वी का सब जल सूख जाता है। हमारी कालगणना से एक कल्प का मान 4 अरब 32 करोड़ वर्ष है।
देखिये आज का विज्ञान क्या कहता है ‘‘नोबल पुरूस्कार से सम्मानित चन्द्रशेखर के चन्दशेखरसीमा सिद्यांत के अनुसार यदि किसी तारे का द्रव्यमान 1.4 सूर्यों से अधिक नहीं है, तो प्रारम्भ में कई अरब वर्ष तक उसका हाईड्रोजन, हीलियम में संघनित होता रहकर, अग्नि रूपी ऊर्जा उत्पन्न करता रहेगा। हाईड्रोजन की समाप्ति पर वह तारा फूलकर विशाल लाल दानव (रेड जायन्ट) बन जायेगा। फिर करीब दस करोड़ साल तक लाल दानव की अवस्था में रहकर तारा अपनी शेष नाभिकीय ऊर्जा को समाप्त कर देता है और अन्त में गुठली के रूप में अति सघन द्रव्यमान का पिण्ड रह जाता है। जिसे श्वेत वामन (व्हाईट ड्वार्फ) कहा जाता है। श्वेत वामन के एक चम्मच द्रव्य का भार एक टन से भी  अधिक होता है। फिर यही धीरे-धीरे कृष्ण वामन (ब्लेक हॉल) बन जाता है।
   लगभग 5 अरब वर्ष में हमारा सूर्य भी लाल दानव बन जायेगा, इसके विशाल ऊष्मीय विघटन की चपेट में बुध और शुक्र समा जायेंगे। भीषण तापमान बढ़ जाने से पृथ्वी का जीवन जगत लुप्त हो जायेगा और सब कुछ जलकर राख हो जायेगा।
   महाभारत युग में यह कल्पना कर लेना कितना कठिन था मगर इस पुरूषार्थ को हमारे पूर्वजों ने सिद्ध किया।
वैज्ञानिक गणना
मूलतः सूर्य सिद्धांत ग्रंथ सत्युग में लिखा माना जाता है, वह नष्ट भी हो गया, मगर उस ग्रन्थ के आधार पर ज्योतिष गणना कर रहे गणनाकारों के द्वारा पुनः सूर्य सिद्धान्त गं्रथ लिखवाया गया, इस तरह की मान्यता है।
अस्मिन् कृतयुगस्यान्ते सर्वे मध्यगता ग्रहाः।
बिना तु पाद मन्दोच्चान्मेषादौ तुल्य तामिताः।।
इस पद का अर्थ है ‘कृतयुग’ (सतयुग) के अंत में मन्दोच्च को छोड़कर सब ग्रहों का मध्य स्थान ‘मेष’ में था। इसका अर्थ यह हुआ कि त्रेता के प्रारम्भ में सातों ग्रह एक सीध में थे। मूलतः एक चतुर्युगी में कुल 10 कलयुग होते हैं, जिनमें सतयुग का मान 4 कलयुग, त्रेतायुग का मान 3 कलयुग, द्वापरयुग का मान दो कलयुग और कलयुग का मान एक कलयुग है।
वर्तमान कलियुग,महाभारत युद्ध के 36 वर्ष पश्चात प्रारम्भ हुआ,  (२२ मार्च २०१२ संध्या ७ बज कर १० मिनिट   से)  ५११४  कलि संवत् है। (अर्थात् ई.पू. 3102 वर्ष में 20 फरवरी को रात्रि 2 बजकर 27 मिनिट, 30 सेकेण्ड पर कलियुग प्रारम्भ हुआ।)
‘संवतसर बहुत पुराना’’
-ऋग्वेद के 7वें मण्डल के 103वें सूक्त के मंत्र क्रमांक 7 में संवतसर की चर्चा है।
‘‘ब्राह्मणासो अतिरात्रे ने सोमे सरो न पूर्णमभितो वदन्तः।
संवत्सरस्य तदहः परिष्ठः यन्मण्डूका प्रावृषीणं बभूव।।
गणित से ही गणना
- काल को कितना ही जानने समझने के बाद भी उसका इकाई निर्धारण करना और गिनना एक अत्यंत कठिन कार्य था। यह शून्य और दशमलव के बिना सम्पन्न नहीं था।
- आधुनिक गणित के मूर्धन्य विद्वान प्रो. जी.पी. हाल्स्टेंड ने अपनी पुस्तक ‘गणित की नींव तथा प्रक्रियाएं’ के पृष्ठ 20 पर लिखा है कि ‘‘शून्य के संकेत के आविष्कार की महत्ता कभी बखानी नहीं जा सकती। ‘कुछ नहीं को न केवल एक नाम तथा सत्ता देना वरन् एक शक्ति देना, हिंदू जाति का लक्षण है, जिनकी यह उपज है। यह निर्वाण को डायनमों की शक्ति देने के समान है। अन्य कोई भी एक गणितीय आविष्कार बुद्धिमता तथा शक्ति के सामान्य विकास के लिए इससे अधिक प्रभावशाली नहीं हुआ।’’
- इसी प्रकार हिंदुओं के द्वारा गणित क्षैत्र में दूसरी महान खोज दशमल का आविष्कार था, जिसने सोच और समझ के सभी दरवाजे खोल दिये।
‘हिन्दू गणना में बहुत आगे रहे...’
(क) प्राचीन ग्रीक में सबसे बड़ी ज्ञात संख्या ‘‘मीरीयड’’ अर्थात् 10,000 थी।
(ख) रोमन की सबसे बड़ी ज्ञात संख्या 1000 थी।
(ग) यजुर्वेद संहिता में सबसे बड़ी ज्ञात संख्या 10 ऊपर 12 (दस खरब) थी।
(घ) ईसा पूर्व पहली शताब्दी में ‘ललित विस्तार’ बौद्ध ग्रंथ में 107 संख्या बोधिसत्व कोटी के नाम से बताई गई और इसके आगे प्रारम्भ कर, १० के ऊपर 53 (तल्लक्षण) तक सामने आती है।
(ङ) जैन ग्रन्थ ‘अनुयोग द्वार’ में ‘असंख्येय’ का मान 10 ऊपर 140 तक सामने आता है।
- अंकगणित, बीजगणित की भांति ही रेखागणित का जन्म भी भारत में ही हुआ। पाई का मान हमार आर्यभट्ट ने बताया।
- ऋग्वेद में नक्षत्रों की चर्चा है, राशी चक्र को आरों के रूप में सम्बोधित किया गया है। कुछ नक्षत्रों के नाम भी मिलते हैं।,अर्थववेद में ,जैन ग्रन्थों में 28 नक्षत्रों के नाम आये हैं, इनमें से एक अभिजित नक्षत्र हमारी आकाशगंगा का नहीं होने से गणना में 27 नक्षत्र ही रखे जाते है। जो आज भी वैज्ञानित तथ्यों पर खरे है।
और अनंत की कालगणना...
- श्रीराम को 14 वर्षों का वनवास हुआ था,श्रीराम का समय 17 लाख 50 हजार वर्ष पूर्व का गणना से बैठता है। अर्थात तब काल गणना थी। सबसे बडी बात तो यह है कि रामेश्वरम सेतु जो समुद्र में डूबा हुआ है की आयु अमरीकी वैज्ञानिकों ने भी लगभग इतनी ही आंकी है।
- विराट नगर की चढ़ाई के समय कृष्णपक्ष की अष्टमी को जब अर्जुन,अज्ञातवास त्यागकर प्रगट हुए व कौरवों को ललकारा ,तो समस्या यह खडी हुई कि अज्ञातवास का समय पूरा हुआ अथवा नहीं, तब कर्ण और दुर्योधन ने ‘अभी तो तेरहवां वर्ष चल रहा है, अतएव पाण्डवों का तेरह वर्ष का प्रण पूर्ण नहीं हुआ और प्रतिज्ञानुसार उन्हें पुनः12 वर्ष वन में ओर रहना चाहिये । इस प्रकार की मांग करते हुए, भीष्मपितामह समय-निर्णय के लिए व्यवस्था देने को कहा, तब भीष्म ने कला-काश्ठादि से लेकर संवत्सर पर्यन्त के कालचक्र की बात कहकर व्यवस्था दी कि ‘ज्योतिष चक्र के व्यतिक्रम के कारण वेदांगज्योतिष की गणना से तो 13 वर्ष, 5 महीने और 12 दिन होते हैं; किंतु पाण्डवों ने जो प्रण की बातें सुनी थी, उनको यथावत् पूर्ण करके और अपनी प्रतिज्ञा की पूर्ति को निश्चयपूर्वक जानकर ही अर्जुन आपके समक्ष आया है।’ अर्थात तब संवतसर भी था और काल गणना भी थी।
-काल की छोटी गणनाओं के बारे में तो बहुत आता रहता है मगर बडी गणनायें,जिनका यूरोपवाले मजाक उडाते थे ,मगर हिन्दू ऋषिओं की जानकारी ने आश्चर्य से मुंह में उंगली दबाने पर मजबूर कर दिया है।
- जब हमारे सामने 71 चतुर्युगी का मान 4,32,0000000 वर्ष यानि ‘कल्प’ 4 अरब 32 करोड़ वर्ष। कल्प अहोरात्र यानि 4 अरब 32 करोड़ वर्ष का दिन और इतने ही मान की रात्रि यानि कि 8 अरब 64 करोड़ वर्ष।
-ब्रह्मवर्ष: 31 खरब 10 अरब 40 करोड़ वर्ष
-ब्रह्मा की आयु: 31 नील 10 खरब 40 अरब वर्ष
- आकाशगंगा की एक परिक्रमा में लगभग 25 से 27 करोड़ वर्ष का अनुमान है। संध्यांश सहित एक मन्वन्तर का काल खण्ड भी 30 करोड़ 84 लाख 28 हजार वर्ष का है।
   यूरोप के प्रसिद्ध ब्रह्माण्डवेत्ता ‘कार्ल वेगन’ ने उनकी पुस्तक“COSMOS” में लिखा है कि ‘‘विश्व में हिन्दू धर्म एक मात्र ऐसा धर्म है, जो इस विश्वास पर समर्पित है कि इस ब्रह्माण्ड में उत्पत्ति और लय की एक सतत प्रक्रिया चल रही है और यही एक धर्म है जिसने समय के सूक्ष्मतम से लेकर वृहदतम नाप, जो सामान्य दिन-रात से लेकर 8 अरब 64 करोड़ वर्ष के ब्रह्मा के दिन-रात तक की गणना की है, जो संयोग से आधुनिक खगोलीय नापों के निकट है।’’
-इस संदर्भ में,नई खोजों से बहुत स्पष्टता से सामने आ रही है कि ब्रह्माण्ड में 100 से अधिक बहुत ही शक्तिशाली ”क्वासर“ स्रोत हैं जिनका नीला प्रकाश हमारे पास अरबों प्रकाश वर्ष दूर से चल कर आ रहा है। जिसका सीधा गणितीय अर्थ यह है कि वह प्रकाश इतने ही वर्ष पूर्व अपने स्रोत से हमारी ओर चला..., अर्थात् हमें मिल रही किरणों की आयु मार्ग में लगे प्रकाषवर्ष जितनी है।
- ‘‘‘क्वासर’3 सी 273’’ से 3 अरब वर्ष, ‘‘क्वासर’3 सी 47’’ से 5 अरब वर्ष और ‘‘क्वासर ओएच 471’’ से 16 अरब वर्ष पूर्व चलीं किरणें प्राप्त हो रही हैं। अर्थात् आकाश में जो कुछ हो रहा है, उसके मायनों में हमारे कल्पों की गणना, ब्रह्मा के वर्ष, ब्रह्मा की आयु की गणना ! ब्रह्मा की आयु जो विष्णु के पलक झपकने (निमेष) मात्र होती है तथा फिर विष्णु के बाद रूद्र का प्रारम्भ होना आदी आदी सच के कितने करीब खडे है।
-इसी प्रकार वैदिक ऋषियों के अनुसार वर्तमान सृष्टि पंचमण्डल क्रम वाली हैः-1.चन्द्र मण्डल 2.पृथ्वी मण्डल 3. सूर्य मण्डल 4.परमेष्ठी मण्डल (आकाशगंगा का ) 5.स्वायम्भू मण्डल (आकाशगंगाओं से परे )..! आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि यह सभी मण्डल वास्तविक तौर पर हैं ,पूरी गति व लय के साथ गतिशील हैं,चलायमान हैं..!!
बृम्हांण्ड,गणित और काल की विश्व में इतनी विशाल प्रमाणिक जानकारी हिन्दूओं के अलावा कोई नहीं कर सका...! और आज विज्ञान उन बातों की बेमन से ही सही मगर हां भरने को मजबूर है।

अरविंद सीसौदिया
-राधाकृष्ण मंदिर रोड़,
डडवाड़ा, कोटा जं. ( राजस्थान )
 
---

नए चित्र भारतीय नव वर्ष विक्रम संवत २०६९
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/03/blog-post_20.html
----
गुड़ी पड़वा : हिन्दू नववर्ष : चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/03/blog-post_15.html
-----
भारतीय काल गणना सृष्टि की सम्पूर्ण गति, लय एवं प्रभाव का महाविज्ञान है
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/03/blog-post_7839.html
-----
भारतीय नववर्ष की अनमोल वैज्ञानिकता :अरविन्द सीसौदिया
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/02/blog-post_4169.html
----
वैज्ञानिक और प्रमाणिक : भारतीय काल गणना का महासत्य
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/02/blog-post_29.html
----
विक्रमी संवत 2069 : भारतीय नव वर्ष
http://arvindsisodiakota.blogspot.in/2012/02/22-march-2012-2069-1-97-39-49-110-2-3-4.html