शनिवार, 27 अक्तूबर 2012

फर्जी कंपनिया चला रहे सोनिया-राहुल : सुब्रमण्यम स्वामी

यह आरोप है जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी के दम हो तो इन पर कांग्रेस मानहानी का दाबा  करके दिखाए।



http://in.jagran.yahoo.com/news
फर्जी कंपनिया चला रहे सोनिया-राहुल
Oct 27, 06:36 pm
अहमदाबाद [शत्रुघ्न शर्मा]। जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी ने काग्रेस और गाधी परिवार पर एक बार फिर हमला बोला है। स्वामी ने राहुल गांधी के स्विट्जरलैंड के ज्यूरिख के पिक्टेट बैंक में खाता होने का सनसनीखेज खुलासा करने के साथ ही आरोप लगाया है कि गांधी खानदान ने विभिन्न देशों में दर्जनों फर्जी कंपनियों बनाई। अरबों का धन बटोरा फिर कंपनी बंद कर दी। कांग्रेस के धन से दिल्ली का हेराल्ड हाउस कौड़ियों के भाव खरीदा जिसकी बाजार कीमत 6 हजार करोड़ से अधिक है। सोनिया और राहुल आरोपों का जवाब देने की खुली चुनौती देते हुए स्वामी ने कहा, मां-बेटे अपने पदों से इस्तीफा दें। ऐसा न किया तो अदालत का दरवाजा खटखटाउंगा।

इस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट द्वारा भ्रष्टाचार विषय पर आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करने अहमदाबाद आए सुब्रमण्यम स्वामी ने शनिवार को पत्रकार वार्ता में कहा, सोनिया,राहुल और प्रियंका के नाम पर 27 कंपनिया है। गांधी खानदान ने अरबों के घपले के बाद इन कंपनियों को बंद कर दिया। बेकऑप्स और एसोसिएट्स जर्नल का उदाहरण देते हुए कहा, बेकऑप्स का पता लोधी रोड़ स्थित प्रियंका-रॉबर्ट वाड्रा के सरकारी बंगले का दिया गया है जो कंपनी कानून का उल्लंघन है। यह सब भ्रष्टाचार सोनिया के प्रश्रय से हो रहा है। मुझे तो सोनिया की देशभक्ति पर भी शक है,उनकी कंपनियों में कई विदेशी व संदेहास्पद लोग भी सदस्य है जो हवाला व कालेधन की देखरेख करने वाले हो सकते है।

स्वामी ने कहा, गाधी परिवार ने काग्रेस के 90 करोड़ रुपए यंग इडियन नामक संस्था में लगाए और फिर इन्हीं रुपयों से दिल्ली का हेराल्ड हाउस खरीदा जहा से आजादी के पहले से हेराल्ड और कौमी आवाज नाम अखबार निकला करते थे। नेहरु जी द्वारा स्थापित इस एतिहासिक भवन का इस्तेमाल अब काग्रेस कार्यालय के रूप में होने लगा है।

स्वामी ने घोटालों के आरोपों में घिरे भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी को पाक साफ बताते हुए कहा,घोटालों के आधार पर उन्हें अध्यक्ष पद से इस्तीफा नहीं देना चाहिए,वह कोई सरकार या मंत्री पद पर नहीं है जो जाच को प्रभावित कर सकते है। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को बेदाग बताते हुए कहा, वह मोदी के साथ हैं और एक साल से उनका प्रचार कर रहे है। भाजपा को 182 में से 140 सीटें प्राप्त होंगी। पार्टी को विस की सभी सीटें जीत कर कांग्रेस को पाठ पढ़ाना चाहिए। गुजरात में जनता पार्टी के प्रत्याशी उतारने के बारे में पूछे जाने पर कहा,मोदी से 4 टिकट मांगे हैं,यदि टिकट नहीं मिले तो भी वह भाजपा के खिलाफ प्रत्याशी नहीं उतारेगे। राजग के पीएम इन वेटिंग के बारे में कहा, इस पद के लिए कई उम्मीदवार है। नीतीश और मोदी वर्षो पुराने साथी है। इसलिए किसी एक का पक्ष नहीं ले सकता।

11 days are simply missing from the month:Interesting History of September 1752

Interesting History of September 1752
Hi everyone.
Here are two interesting historical facts that you probably didn't know, (I sure didn't).
Just have a look at the calendar for the month of September 1752 >>>
cid:image003.gif@01CB6536.A3EBA580
(If you think I'm joking, you may search it on Google and see it for yourself.)

In case you haven't noticed, 11 days are simply missing from the month. Here's the explanation:
This was the month during which England shifted from the Roman Julian Calendar to the Gregorian Calendar. A Julian year was 11 days longer than a Gregorian year. So the King of England ordered 11 days to be wiped off the face of that particular month. (A King could order anything, couldn't he?) So the workers worked for 11 days less that month, but got paid for the whole month. That's how the concept of "paid leave" was born. Hail the King!!!
In the Roman Julian Calendar, April used to be the first month of the year; but the Gregorian Calendar observed January as the first month. Even after shifting to the Gregorian Calendar, many people refused to give up old traditions and continued celebrating 1st April as the New Year's Day. When simple orders didn't work, the King finally issued a royal dictum; which stated that those who celebrated 1st April as the new year's day would be labled as fools. From then on, 1st April became April Fool's Day.
History is really interesting, isn't it?