बुधवार, 26 दिसंबर 2012

Shaheedi Jor Mela : Shahidii jori Baba Zorawar Singh ji and Baba Fateh Singh ji,




Shaheedi Jor Mela
From Wikipedia, the free encyclopedia
Shaheedi Jor Mela is organised every year in December at Gurdwara Fatehgarh Sahib, in the Fatehgarh Sahib district of Punjab to pay homage to the martyrdom of Baba Zorawar Singh ji and Baba Fateh Singh ji, the youngest of the tenth guru of sikhs Guru Gobind Singh's four sons.
 File:Fatehgarh Sahib Gurdwara, Punjab, India.jpg
                                    Fatehgarh Sahib, Punjab, IndiaContents

    1 Supreme sacrifice
    2 Gurudwara Fatehgarh Sahib
    3 Mela Schedule
    4 People participation

Supreme sacrifice
Both Sahibzada's defied all attempts of then Governor of Sirhind Wazir Khan's offers of treasure and easy lives if they would only convert to Islam. Holding steadfast in their will to die as Sikhs, they were first entombed alive by being bricked into a wall, but mere bricks and mortar could not hold the young Sahibzadas, for the wall collapsed and fell to the ground. Then, on 26 December 1705, Baba Fateh Singh ji was cruelly and mercilessly martyred at Sirhind along with his elder brother, Baba Zorawar Singh. He is probably the youngest recorded martyr in history, having knowingly and consciously laid down his life at the age of six years.

Gurudwara Fatehgarh Sahib
Gurudwara Fatehgarh Sahib, 5 km (3.1 mi) north of the Sirhind  marks the site of the live entombment of the two younger sons of the tenth Guru of the Sikhs, Sri Guru Gobind Singh by then Governor of Sirhind, Wazir Khan.

Mela Schedule
The first day of the Mela is observed purely in religious spirits. The mela in 2012 would begin from December 21 with Akhand Path of Guru Granth Sahib at gurdwara Jyoti Swarup. Political rallies & meetings would be held by various political parties next day, for which stages have been set up near gurdwaras. Mela will conclude on December 25 with nagar kirtan from gurdwara Fatehgarh Sahib to gurdwara Jyoti Swarup.

People participation
Lakhs of devotes pay their obeisance at Gurdwara Fatehgarh Sahib and Gurdwara Jyoti Swarup on this historic occasion every year during this three day Jor Mela. All nearby villagers organize langar for the devotees going to visit Gurdwara Fatehgarh Sahib for the Mela along all the roads leading to the gurdwara. During Mela days, the service of the people is exemplary with community kitchens serving tea, snacks and meals every mile on the way to Sirhind, whichever way you are coming from. People from far away places come to Sirhind to do karsewa and braving the chilly weather in tents out in the open.

Arrangements
Each year, the district administration would do special arrangements for devotees and people visiting the mela like parking areas, controlling flow of traffic by setting up special barricades and nakas, medical & emergency services and by deploying heavy police force for security.
The Shiromani Gurdwara Parbandhak Committee has been arranging deewan, where the Sikh preachers, ragis, dhadi jathas will present devotional songs and give the accounts of the Sikh history.
Although Jor Mela is a religious event, a heavy police force is normally deployed all around the Mela site.

वीर क्रांतिकारी शहीद ऊधम सिंह





http://bharatdiscovery.org
अमर शहीद ऊधम सिंह
भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
अमर शहीद ऊधम सिंह (जन्म- 26 दिसंबर, 1899, सुनाम गाँव, पंजाब; मृत्यु- 31 जुलाई, 1940, पेंटनविले जेल) जलियाँवाला बाग़ में निहत्थों को भूनकर अंग्रेज़ भारत की आज़ादी के दीवानों को सबक सिखाना चाहते थे, जिससे वह ब्रिटिश सरकार से टकराने की हिम्मत न कर सकें, किन्तु इस घटना ने स्वतंत्रता की आग को हवा देकर बढ़ा दिया।

जन्म
ऊधम सिंह का जन्म 26 दिसंबर 1899 में पंजाब के संगरूर ज़िले के सुनाम गाँव में हुआ। ऊधमसिंह की माता और पिता का साया बचपन में ही उठ गया था। उनके जन्म के दो साल बाद 1901 में उनकी माँ का निधन हो गया और 1907 में उनके पिता भी चल बसे। ऊधमसिंह और उनके बड़े भाई मुक्तासिंह को अमृतसर के खालसा अनाथालय में शरण लेनी पड़ी। 1917 में उनके भाई का भी निधन हो गया। इस प्रकार दुनिया के ज़ुल्मों सितम सहने के लिए ऊधमसिंह बिल्कुल अकेले रह गए।

    इतिहासकार वीरेंद्र शरण के अनुसार ऊधमसिंह इन सब घटनाओं से बहुत दु:खी तो थे, लेकिन उनकी हिम्मत और संघर्ष करने की ताक़त बहुत बढ़ गई। उन्होंने शिक्षा ज़ारी रखने के साथ ही आज़ादी की लड़ाई में कूदने का भी मन बना लिया। उन्होंने चंद्रशेखर आज़ाद, राजगुरु, सुखदेव और भगतसिंह जैसे क्रांतिकारियों के साथ मिलकर ब्रिटिश शासन को ऐसे घाव दिये जिन्हें ब्रिटिश शासक बहुत दिनों तक नहीं भूल पाए।
    इतिहासकार डा. सर्वदानंदन के अनुसार ऊधम सिंह 'सर्व धर्म सम भाव' के प्रतीक थे और इसीलिए उन्होंने अपना नाम बदलकर राम मोहम्मद आज़ाद सिंह रख लिया था जो भारत के तीन प्रमुख धर्मो का प्रतीक है।

स्वतंत्रता आंदोलन में भाग
स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में सन् 1919 का 13 अप्रैल का दिन आँसुओं में डूबा हुआ है, जब अंग्रेज़ों ने अमृतसर के जलियाँवाला बाग़ में सभा कर रहे निहत्थे भारतीयों पर अंधाधुंध गोलियाँ चलायीं और सैकड़ों बेगुनाह लोगों को मौत के घाट उतार दिया। मरने वालों में माँओं के सीने से चिपके दुधमुँहे बच्चे, जीवन की संध्या बेला में देश की आज़ादी का सपना देख रहे बूढ़े और देश के लिए सर्वस्व लुटाए को तैयार युवा सभी थे।

इस घटना ने ऊधमसिंह को हिलाकर रख दिया और उन्होंने अंग्रेज़ों से इसका बदला लेने की ठान ली। हिन्दू, मुस्लिम और सिख एकता की नींव रखने वाले 'ऊधम सिंह उर्फ राम मोहम्मद आज़ाद सिंह' ने इस घटना के लिए जनरल माइकल ओ डायर को ज़िम्मेदार माना जो उस समय पंजाब प्रांत का गवर्नर था। गवर्नर के आदेश पर ब्रिगेडियर जनरल रेजीनल्ड, एडवर्ड हैरी डायर, जनरल डायर ने 90 सैनिकों को लेकर जलियांवाला बाग़ को चारों तरफ से घेर कर मशीनगन से गोलियाँ चलवाईं।

विदेश की यात्राएं
इस के बाद घटना ऊधमसिंह ने शपथ ली कि वह माइकल ओ डायर को मारकर इस घटना का बदला लेंगे। अपने मिशन को अंजाम देने के लिए ऊधमसिंह ने अलग अलग नामों से अफ्रीका, नैरोबी, ब्राजील और अमेरिका की यात्राएँ की। सन् 1934 में ऊधमसिंह लंदन गये और वहाँ 9 एल्डर स्ट्रीट कमर्शियल रोड़ पर रहने लगे। वहाँ उन्होंने यात्रा के उद्देश्य से एक कार ख़रीदी और अपना मिशन पूरा करने के लिए छह गोलियों वाली एक रिवाल्वर भी ख़रीद ली।

प्रतिशोध
भारत का यह वीर क्रांतिकारी माइकल ओ डायर को ठिकाने लगाने के लिए सही समय का इंतज़ार करने लगा। ऊधमसिंह को अपने सैकड़ों भाई बहनों की मौत का बदला लेने का मौक़ा 1940 में मिला। जलियाँवाला बाग़ हत्याकांड के 21 साल बाद 13 मार्च 1940 को 'रॉयल सेंट्रल एशियन सोसायटी' की लंदन के 'कॉक्सटन हॉल' में बैठक थी जहाँ माइकल ओ डायर भी वक्ताओं में से एक था। ऊधमसिंह उस दिन समय से पहले ही बैठक स्थल पर पहुँच गए। उन्होंने अपनी रिवाल्वर एक मोटी सी किताब में छिपा ली। उन्होंने किताब के पृष्ठों को रिवाल्वर के आकार में इस तरह से काट लिया, जिसमें डायर की जान लेने वाले हथियार को आसानी से छिपाया जा सके।

आत्मसमर्पण
बैठक के बाद दीवार के पीछे से मोर्चा संभालते हुए ऊधमसिंह ने माइकल ओ डायर पर गोलियाँ चला दीं। दो गोलियाँ डायर को लगीं, जिससे उसकी तुरन्त मौत हो गई। गोलीबारी में डायर के दो अन्य साथी भी घायल हो गए। ऊधमसिंह ने वहाँ से भागने की कोशिश नहीं की और स्वयं को गिरफ़्तार करा दिया। उन पर मुक़दमा चला। अदालत में जब उनसे सवाल किया गया कि 'वह डायर के साथियों को भी मार सकते थे, किन्तु उन्होंने ऐसा क्यों नहीं किया।' इस पर ऊधमसिंह ने उत्तर दिया कि, वहाँ पर कई महिलाएँ भी थीं और भारतीय संस्कृति में महिलाओं पर हमला करना पाप है। अपने बयान में ऊधमसिंह ने कहा- 'मैंने डायर को मारा, क्योंकि वह इसी के लायक़ था। मैंने ब्रिटिश राज्य में अपने देशवासियों की दुर्दशा देखी है। मेरा कर्तव्य था कि मैं देश के लिए कुछ करूं। मुझे मरने का डर नहीं है। देश के लिए कुछ करके जवानी में मरना चाहिए।'

मृत्यु
4 जून 1940 को ऊधमसिंह को डायर की हत्या का दोषी ठहराया गया और 31 जुलाई 1940 को उन्हें 'पेंटनविले जेल' में फाँसी दे दी गयी। इस प्रकार यह क्रांतिकारी भारतीय स्वाधीनता संग्राम के इतिहास में अमर हो गया। 31 जुलाई 1974 को ब्रिटेन ने उनके अवशेष भारत को सौंप दिए थे। ऊधमसिंह की अस्थियाँ सम्मान सहित भारत लायी गईं। उनके गाँव में उनकी समाधि बनी हुई है।