रविवार, 15 सितंबर 2013

Ganesha Chaturthi Puja Vidhi



Ganesha Chaturthi Puja Vidhi
- Neena Sharma
Lord Ganesha is worshipped with all sixteen rituals along with chanting of Puranik Mantras during Ganesha Chaturthi Puja which is also known as Vinayaka Chaturthi Puja. Worshipping Gods and Goddesses with all 16 rituals is known as Shodashopachara Puja (षोडशोपचार पूजा).

Although Ganesha Puja can be done during Pratahakal, Madhyanakal and Sayanakal but Madhyanakal is preferred during Ganesha Chaturthi Puja. Madhyanakal Puja time for Ganesha Puja can be known at Ganesha Chaturthi Puja Muhurat.

All rituals which are prescribed during Ganesha Puja are given below and it also includes sixteen steps which are prescribed in Shodashopachara Puja. Deep Prajawalan (दीप प्रज्ज्वलन) and Sankalpa (संकल्प) are done before starting the Puja and these two are not part of core sixteen steps of Shodashopachara Puja.

If you have Lord Ganesha installed at your home and is worshipped daily then Avahana (आवाहन) and Pratishthapan (प्रतिष्ठापन) should be skipped as these two rituals are done for newly bought statues of Lord Ganesha either made of clay or made of metal. It should be noted that pre-installed statue of Lord Ganesha at home are not given Visarjan (विसर्जन) but given Utthapana (उत्थापन) at the end of Puja.

Avahana
(आवाहन) – invoking Lord Ganesha
Pratishthapan
(प्रतिष्ठापन) – installing Lord Ganesha into the statue
Aasan Samarpan
(आसन समर्पण) – offering seat to Lord Ganesha
Ardhya Samarpan
(अर्ध्य समर्पण) – offering scented water to Lord Ganesha
Aachaman
(आचमन)
Snan
(स्नान)
पञ्चामृत स्नानम्
पयः स्नानम्
दधि स्नानम्
धृत स्नानम्
मधु स्नानम्
शर्करा स्नानम्
सुवासित स्नानम्
शुध्दोदक स्नानम्
Vastra Samarpan
(वस्त्र समर्पण वं उत्तरीय समर्पण)
Yagyopavit Samarpan
(यज्ञोपवीत समर्पण)
Gandha
(गन्ध)
Akshata
(अक्षत) – unbroken rice for Puja
Pushpa Mala
(पुष्प माला)
शमी पत्र
दुर्वान्कुर
सिन्दूर
Dhoop
(धूप)
Deep Darshan
(दीप दर्शन)
Naivedhya Nivedan
(नैवेद्य निवेदन)
चन्दन
Tambula Arpana
(ताम्बुल अर्पण) – offering Paan made of betal nut and leaves
नारिकेल अर्पण
दक्षिणा समर्पण
Neeranajan
(नीरानजन/आरती) – Lord Ganesha Aartiजय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ x2

एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी
माथे पर तिलक सोहे मूसे की सवारी । x2
(माथे पर सिन्दूर सोहे, मूसे की सवारी)
पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा
(हार चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा)
लड्डुअन का भोग लगे सन्त करें सेवा ॥ x2

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥

अँधे को आँख देत कोढ़िन को काया
बाँझन को पुत्र देत निर्धन को माया । x2
'सूर' श्याम शरण आए सफल कीजे सेवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ x2
(दीनन की लाज राखो, शम्भु सुतवारी )
(कामना को पूर्ण करो, जग बलिहारी ॥)

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ x2

Biography : Narendra Damodardas Modi






http://www.narendermodi.co.in/

Narendra Damodardas Modi

The leading controversial Indian politician, Narendra Damodardas Modi (born 17 Sept 1950) is the present primary reverend of the Indian condition of Gujarat. Renowned Narendra Damodardas Modi was created in reverse category (OBC) middle-class close relatives at Vadnagar; he was the third of six kids created to simple Damodardas Mulchand Modi and his spouse Maa Heeraben. He has been a participant of the popular Rashtriya Swayamsevak Sangh or also called as RSS since child years, having a new in state policies since puberty. He maintains a master’s level in archaeology. In the year of 1998, he was selected by giant politician L. K. Advani, the head of the renowned political party Bharatiya Janata Celebration (or also called BJP), to immediate the selection strategy in state Gujarat as well as state Himachal Pradesh.
He became the primary reverend of Gujarat state  in Oct 2001, marketed to the workplace at one time when his forerunner Keshubhai Patel had reconciled, following the beat of BJP in the by-elections. His period as primary reverend started on 7 Oct 2001. In the month of September 2007, he became the greatest providing Chief Minister in Gujarat's record when he had been in energy for 2063 times consistently. He was selected again for a third phrase on 23 Dec 2007 in the condition elections, which he had thrown as a referendum at his regulation.
Politician Modi is a questionable determine both within Native Indian and worldwide. His management obtained warmed critique around the year of 2002 Gujarat assault. However, he loves significant assistance in his house condition and is acknowledged with the great financial development in Gujarat under his government

 

Biography

The renowned Indian politician Modi was luckily born to a lower middle-class close relatives in Vadnagar in Mehsana region of what was then Bombay Condition, Indian. Modi is a veggie. During the Indo-Pak war in the mid 1960s, even as a younger boy, he offered to provide the military on the road at train programs. As a younger man, he signed up with the renowned political organization Akhil B. Vidyarthi Parishad or abvp. As a university student company and was engaged in the anti-corruption or in Hindi Nav Nirman Activity. After operating as a full-time planner for the company, he was later selected as its associate in the renowned political organization Bharatiya Janata Celebration. As a youngster, Modi used to run a tea wait with his sibling. Modi finished his education in Vadnagar. He gained an experts level in archaeology from Gujarat popular university.  
Early activism and politics
The renowned Indian politician and chief minister of one of the Indian states Modi was a pracharak (or campaigner) in the renowned organization RSS during his university decades. He took up the complicated process of energizing the party cadres in right serious. In collaboration with popular S. singh Vaghela, Modi set about developing a powerful cadre platform in Gujarat. In the preliminary interval, politician Vaghela was seen as a huge head, while Modi was acknowledged as an expert strategist.
The party began getting governmental usage and established a coalition government at the center in Apr 1990 year. This collaboration dropped apart within a few several weeks, but the BJP came to energy with a two-thirds greater aspect on its own in Gujarat in the year of 1995. During this interval, Modi was given with the liability of planning two essential nationwide activities. The sacred journey started from holy Somnath to sacred Ayodhya Ratha Yaatra. It was a governmental move through Indian on a transformed Chevy van. He went along with L.K. Advani and an identical goal from popular Kanyakumari, which is the most southern aspect of landmass Indian, most southern factor of Indian being Indira factor of Andaman and Nicobar islands to renowned Kashmir in the Northern. After the quit of politician Shankarsingh Vaghela from the political party BJP, K. Patel was created Primary Reverend while Narendra Modi was sent to New Delhi as a Common Assistant of the Celebration.
In the year of 1995, Modi was hired the National Assistant of the party and given the cost of five significant declares in Indian. In the year of 1998, he was marketed as the Common Assistant (renowned Organization), a publish he organized until Oct 2001. In the year of 2001, Narendra Modi was selected by the party to be the Primary Reverend of Gujarat after the elimination of chief minister Keshubhai Patel.

---------------------

Political Career

The popular Indian politician Modi was only a pracharak (in English language campaigner) in the renowned RSS during his school decades. He took up the complicated process of energizing the celebration cadres in right serious. In collaboration with politician S. Vaghela, Modi set about developing a powerful cadre platform in Gujarat state. In the preliminary interval, great politician Vaghela was seen as a huge head, while Modi was acknowledged as an expert strategist. The celebration began getting governmental usage and established a coalition government at the center in Apr 1990.
This collaboration dropped apart within a few several weeks, but the renowned political party BJP came to energy with a two-thirds greater aspect on its own in Gujarat state in the year of 1995. During this interval, Modi was given with the liability of planning two essential nationwide activities. Some of them are renowned Somnath to city of Ayodhya Rathaa Yastrra, which was a governmental move through Indian on a transformed Chevy van. He went along with politician L.K. Advani and an identical goal from area of Kanyakumari, which was the most southern aspect of landmass Indian, most southern factor of Indian being Indira factor of Andaman as well as Nicobar islands to state of Kashmir in the Northern.
After the quit of renowned Indian politician S. Vaghela from the political party  BJP, Keshubhai  was created Primary Reverend while Narendra Modi was sent to New Delhi as a Common Assistant of the Party. In the year of 1995, Modi was hired the National Assistant of the celebration and given the cost of five significant declares in Indian. In the year 1998, he was marketed as the Common Assistant (political Organization), a publish he organized until Oct 2001. In the year of 2001, Narendra Modi was selected by the celebration to be the Primary Reverend of Gujarat state after the elimination of chief minister Keshubhai.

जय कृष्ण कृष्ण



भजन–श्री कृष्ण –भजन—

कोई पीवे… कोई पीवे… कोई पीवे… कोई पीवे…
कोई पीवे संत सुझान, नाम रस मीठा रे ॥
राजवंश की रानी पी गयी, एक बूँद इस रस का।
हो भैया रे… एक बूँद इस रस का।
आधी रात महल तज चलदी, रहू न मनवा बस का।
हो भैया रे… रहू न मनवा बस का।
हो गिरिधर की दीवानी मीरा, ध्यान छूटा अप्यश का।
बन बन डोले श्याम बांवरी लगेओ नाम का चस्का॥
लगेओ नाम का चस्का… हो लगेओ नाम का चस्का…
नाम रस मीठा रे… नाम रस मीठा रे… नाम रस मीठा रे…
नामदेव रस पीया रे अनुपम, सफल बना ली काया।
नरसी का… एक तारा कैसे जगतपति को भाया।
हो भैया रे… कैसे जगतपति को भाया।
तुलसी सूर फिरे मधुमाते, रोम रोम रस छाया।
भर भर पी गयी ब्रज की गोपिका, जिन सुन्दरतम पी पाया॥
ऐसा पी गया संत कबीर, मन हरी पाछे ढोले,
हो भैया रे… मन हरी पाछे ढोले,
कृष्ण कृष्ण जय कृष्ण कृष्ण, नस नस पार्थ की बोले।
चाख हरी रस मगन नाचते शुक नारद शिव भोले।
कृष्ण नाम कह लीजे, पढ़िए सुनिए भागती भागवत, और कथा क्या कीजे।
गुरु के वचन अटल कर मानिए, संत समागम कीजे।
हो भैया रे… संत समागम कीजे।
कृष्ण नाम रस बहो जात है, तृषावंत होए पीजे।
सूरदास हरी शरण ताकिये, वृथा काहे जीजे॥
वह पायेगा क्या रस का चस्का, नहीं कृष्ण से प्रेम लगाएगा जो।
अरे कृष्ण उसे समझेंगे वाही, रसिकों के समाज में जाएगा जो।
ब्रिज धूलि लपेट कलेवर में, गुण नित्य किशोर के गायेगा जो।
हसता हुआ श्याम मिलेगा उसे निज प्राणों की बाजी लगाएगा जो…
हसता हुआ श्याम मिलेगा उसे निज प्राणों की बाजी लगाएगा जो॥
नाम रस मीठा रे… मीठा रे… मीठा रे…
नाम रस मीठा रे… नाम रस मीठा रे…

बंशी वाले तेरी बंशी कमाल कर गई ,



कमाल कर गई,कमाल कर गई ,
बंशी वाले तेरी बंशी कमाल कर गई ,
मुरली तेरी कमाल कर गई , तेरे ग्वालों की टोली धमाल कर गई ,
तेरी बंशी कमाल कर गई ,
कमाल कर गई बंशी वाले तेरी बंशी कमाल कर गई।
राधा - माधव भी नाचे , मस्ती तेरी बेहाल कर गई ॥
बंशी वाले तेरी बंशी कमाल कर गई  ॥॥

-------------------
कन्हैया कन्हैया तुझे आना पड़ेगा,
आना पड़ेगा .
वचन गीता वाला निभाना पड़ेगा ..

गोकुल में आया मथुरा में आ
छवि प्यारी प्यारी कहीं तो दिखा .
अरे सांवरे देख आ के ज़रा
सूनी सूनी पड़ी है तेरी द्वारिका ..

जमुना के पानी में हलचल नहीं .
मधुबन में पहला सा जलथल नहीं .
वही कुंज गलियाँ वही गोपिआँ .
छनकती मगर कोई झान्झर नहीं .
---------------------
कभी राम बनके कभी श्याम बनके चले आना प्रभुजी चले आना....

तुम राम रूप में आना, तुम राम रूप में आना
सीता साथ लेके, धनुष हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना...

तुम श्याम रूप में आना, तुम श्याम रूप में आना,
राधा साथ लेके, मुरली हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना...

तुम शिव के रूप में आना, तुम शिव के रूप में आना..
गौरा साथ लेके , डमरू हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना...

तुम विष्णु रूप में आना, तुम विष्णु रूप में आना,
लक्ष्मी साथ लेके, चक्र हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना...

तुम गणपति रूप में आना, तुम गणपति रूप में आना
रीधी साथ लेके, सीधी साथ लेके ,
चले आना प्रभुजी चले आना....

कभी राम बनके कभी श्याम बनके चले आना प्रभुजी चले आना...

प्रबल प्रेम के पाले पड़ कर प्रभु को नियम बदलते देखा


श्री कृष्ण भजन
राधे राधे राधे ,  श्री राधे श्री राधे श्री राधे !
राधे रानी , महारानी , कृपा करो ठकुरानी !!
राधे राधे गोविन्द , गोविन्द  राधे ,
मेरा जीवनधन गोविन्द राधे !!
-----------
प्रबल प्रेम के पाले 
प्रबल प्रेम के पाले पड़ कर प्रभु को नियम बदलते देखा . 
अपना मान भले टल जाये भक्त मान नहीं टलते देखा .. 

जिसकी केवल कृपा दृष्टि से सकल विश्व को पलते देखा . 
उसको गोकुल में माखन पर सौ सौ बार मचलते देखा .. 

जिस्के चरण कमल कमला के करतल से न निकलते देखा . 
उसको ब्रज की कुंज गलिन में कंटक पथ पर चलते देखा .. 

जिसका ध्यान विरंचि शंभु सनकादिक से न सम्भलते देखा . 
उसको ग्वाल सखा मंडल में लेकर गेंद उछलते देखा .. 

जिसकी वक्र भृकुटि के डर से सागर सप्त उछलते देखा . 
उसको माँ यशोदा के भय से अश्रु बिंदु दृग ढ़लते देखा ..
-----------------
मुकुन्द माधव गोविन्द 
मुकुन्द माधव गोविन्द बोल 
केशव माधव हरि हरि बोल .. 

हरि हरि बोल हरि हरि बोल . 
कृष्ण कृष्ण बोल कृष्ण कृष्ण बोल .. 

राम राम बोल राम राम बोल . 
शिव शिव बोल शिव शिव बोल . 

भज मन गोविंद गोविंद 
भज मन गोविंद गोविंद गोपाला .. 
------------
 
श्री राधा कृष्णाय नमः ..
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

चन्द्रमुखी चंचल चितचोरी, जय श्री राधा
सुघड़ सांवरा सूरत भोरी, जय श्री कृष्ण
श्यामा श्याम एक सी जोड़ी
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

पंच रंग चूनर, केसर न्यारी, जय श्री राधा
पट पीताम्बर, कामर कारी, जय श्री कृष्ण
एकरूप, अनुपम छवि प्यारी
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

चन्द्र चन्द्रिका चम चम चमके, जय श्री राधा
मोर मुकुट सिर दम दम दमके, जय श्री कृष्ण
जुगल प्रेम रस झम झम झमके
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

कस्तूरी कुम्कुम जुत बिन्दा, जय श्री राधा
चन्दन चारु तिलक गति चन्दा, जय श्री कृष्ण
सुहृद लाड़ली लाल सुनन्दा
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

घूम घुमारो घांघर सोहे, जय श्री राधा
कटि कटिनी कमलापति सोहे, जय श्री कृष्ण
कमलासन सुर मुनि मन मोहे
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

रत्न जटित आभूषण सुन्दर, जय श्री राधा
कौस्तुभमणि कमलांचित नटवर, जय श्री कृष्ण
तड़त कड़त मुरली ध्वनि मनहर
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

राधा राधा कृष्ण कन्हैया जय श्री राधा
भव भय सागर पार लगैया जय श्री कृष्ण .
मंगल मूरति मोक्ष करैया
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

मन्द हसन मतवारे नैना, जय श्री राधा
मनमोहन मनहारे सैना, जय श्री कृष्ण
जटु मुसकावनि मीठे बैना
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

श्री राधा भव बाधा हारी, जय श्री राधा
संकत मोचन कृष्ण मुरारी, जय श्री कृष्ण
एक शक्ति, एकहि आधारी
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

जग ज्योति, जगजननी माता, जय श्री रा्धा
जगजीवन, जगपति, जग दाता, जय श्री कृष्ण
जगदाधार, जगत विख्याता
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

राधा, राधा, कृष्ण कन्हैया, जय श्री रा्धा
भव भय सागर पार लगैया, जय श्री कृष्ण
मंगल मूरति, मोक्ष करैया
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

सर्वेश्वरी सर्व दुःखदाहनि, जय श्री रा्धा
त्रिभुवनपति, त्रयताप नसावन, जय श्री कृष्ण
परमदेवि, परमेश्वर पावन
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

त्रिसमय युगल चरण चित धावे, जय श्री रा्धा
सो नर जगत परमपद पावे, जय श्री कृष्ण
राधा कृष्ण 'छैल' मन भावे
श्री राधा कृष्णाय नमः ..

नरेन्द्र मोदी : जीवन परिचय




नरेन्द्र मोदी
भारत डिस्कवरी प्रस्तुति

नरेन्द्र दामोदरदास मोदी (जन्म 17 सितंबर, 1950) 7 अक्टूबर, 2001) भारतीय जनता पार्टी के प्रसिद्ध नेता और वर्तमान में गुजरात के मुख्यमंत्री हैं। 'केशुभाई पटेल' के इस्तीफे के बाद नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने। नरेंद्र मोदी गुजरात के सबसे ज़्यादा लंबे समय तक राज करने वाले मुख्यमंत्री हैं। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के अनुसार गुजरात में 'भारतीय जनता पार्टी' के वर्चस्व की मूल वजह वही हैं। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने दिसम्बर 2002 और फिर दिसम्बर 2007 और 2012   में विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत हासिल किया।

जीवन परिचय

नरेंद्र मोदी को अपने बाल्यकाल से कई तरह की विषमताओं एवं विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ा है किन्तु अपने उदात्त चरित्रबल एवं साहस से उन्होंने तमाम अवरोधों को अवसर में बदल दिया, विशेषकर जब उन्‍होने उच्च शिक्षा हेतु कॉलेज तथा विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया। उन दिनों वे कठोर संद्यर्ष एवं दारुण मन:ताप से घिरे थे, परन्तु् अपने जीवन- समर को उन्होंने सदैव एक योद्धा-सिपाही की तरह लड़ा है। आगे क़दम बढ़ाने के बाद वे कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखते, साथ-साथ पराजय उन्हें स्वीकार्य नहीं है। अपने व्‍यक्‍तित्‍व की इन्‍हीं विशेषताओं के चलते उन्होंने राजनीति शास्त्र विषय के साथ अपनी एम.ए की पढ़ाई पूरी की

राजनीतिक जीवन

1984 में देश के प्रसिद्ध सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आर.एस.एस) के स्वयं सेवक के रूप में उन्होंने अपने जीवन की शुरुआत की। यहीं उन्हें निस्वार्थता, सामाजिक दायित्वबोध, समर्पण और देशभक्‍ति के विचारों को आत्म सात करने का अवसर मिला। अपने संघ कार्य के दौरान नरेंद्र मोदी ने कई मौकों पर महत्त्वपूर्ण भूमिकाएं निभाई हैं। फिर चाहे वह 1974 में भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ चलाया गया आंदोलन हो, या 19 महीने (जून 1975 से जनवरी 1977) चला अत्यंत प्रताडि़त करने वाला 'आपात काल' हो।

भाजपा में प्रवेश
1987 में भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) में प्रवेश कर उन्होंने राजनीति की मुख्यधारा में क़दम रखा। सिर्फ़ एक साल के भीतर ही उनको गुजरात इकाई के प्रदेश महामंत्री (जनरल सेक्रेटरी) के रूप में पदोन्नत कर दिया गया। तब तक उन्होंने एक अत्यंत ही कार्यक्षम व्यवस्थापक के रूप में प्रतिष्ठा हासिल कर ली थी। पार्टी को संगठित कर उसमें नई शक्ति का संचार करने का चुनौतीपूर्ण काम भी उन्होंने स्वीकार कर लिया। इस दौरान पार्टी को राजनीतिक गति प्राप्त होती गई और अप्रैल, 1990 में केन्द्र में साझा सरकार का गठन हुआ। हालांकि यह गठबंधन कुछ ही महीनो तक चला, लेकिन 1995 में भाजपा अपने ही बलबूते पर गुजरात में दो तिहाई बहुमत हासिल कर सत्ता में आई।

व्यक्तित्व
नरेन्द्र मोदी की छवि एक कठोर प्रशासक और कड़े अनुशासन के आग्रही की मानी जाती है, लेकिन साथ ही अपने भीतर वे मृदुता एवं सामर्थ्य की अपार क्षमता भी संजोये हुए हैं। नरेन्द्र मोदी को शिक्षा-व्यवस्था में पूरा विश्वास है। एक ऐसी शिक्षा-व्यवस्था जो मनुष्य के आंतरिक विकास और उन्नति का माध्यम बने एवं समाज को अँधेरे, मायूसी और ग़रीबी के विषचक्र से मुक्ति दिलाये। विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नरेन्द्र मोदी की गहरी दिलचस्पी है। उन्होंने गुजरात को ई-गवर्न्ड राज्य बना दिया है और प्रौद्योगिकी के कई नवोन्मेषी प्रयोग सुनिश्चित किये हैं। ‘स्वागत ऑनलाइन’ और ‘टेलि फरियाद’ जैसे नवीनतम प्रयासों से ई-पारदर्शिता आई है, जिसमें आम नागरिक सीधा प्रशासन के उच्चतम कार्यालय का संपर्क कर सकता है। जनशक्ति में अखण्ड विश्वास रखने वाले नरेन्द्र मोदी ने बखूबी क़रीब पाँच लाख कर्मचारियों की मज़बूत टीम की रचना की है। नरेन्द्र मोदी यथार्थवादी होने के साथ ही आदर्शवादी भी हैं। उनमें आशावाद कूटकूट कर भरा है। उनकी हमेशा एक उदात्त धारणा रही है कि असफलता नहीं, बल्कि उदेश्य का अनुदात्त होना अपराध है। वे मानते हैं कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफलता के लिए स्पष्ट दृष्टि, उद्देश्य या लक्ष्य का परिज्ञान और कठोर अध्यवसाय अत्यंत ही आवश्यक गुण हैं।
पुरस्कार

मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कार्यकाल के दौरान राज्य के पृथक-पृथक क्षेत्रों में 60 से अधिक पुरस्कार प्राप्त किये हैं। उनमें से कुछ का उल्लेख नीचे किया जा रहा है-
दिनांक पुरस्कार
16-10-2003 आपदा प्रबंधन और ख़तरा टालने की दिशा में संयुक्त राष्ट्र की ओर से सासाकावा पुरस्कार।
अक्टूबर-2004 प्रबंधन में नवीनता लाने के लिए ‘कॉमनवेल्थ एसोसिएशन्स’ की ओर से CAPAM गोल्ड पुरस्कार।
27-11-2004 ‘इन्डिया इन्टरनेशनल ट्रेड फेयर-2004 में इन्डिया ट्रेड प्रमोशन ऑर्गेनाइज़ेशन फॉर गुजरात्स एक्सेलन्स’ की ओर से ‘स्पेशल कमेन्डेशन गोल्ड मेडल’ दिया गया।
24-02-2005 भारत सरकार की ओर से गुजरात के राजकोट ज़िले में सेनिटेशन सुविधाओं के लिए ‘निर्मल ग्राम’ पुरस्कार दिया गया।
25-04-2005 भारत सरकार के सूचना और तकनीकी मंत्रालय और विज्ञान-तकनीकी मंत्रालय द्वारा ‘भास्कराचार्य इन्स्टिट्यूट ऑफ स्पेस एप्लिकेशन’ और ‘जिओ-इन्फर्मेटिक्स’, गुजरात सरकार को "PRAGATI" के लिए ‘एलिटेक्स’ पुरस्कार दिया गया।
21-05-2005 राजीव गांधी फाउन्डेशन नई दिल्ली की ओर से आयोजित सर्वेक्षण में देश के सभी राज्यों में गुजरात को श्रेष्ठ राज्य का पुरस्कार मिला।
01-06-2005 भूकंप के दौरान क्षतिग्रस्त हुए गुरुद्वारा के पुनःस्थापन के लिए यूनेस्को द्वारा ‘एशिया पेसिफिक हेरिटेज’ अवार्ड दिया गया।
05-08-2005 ‘इन्डिया टुडे’ द्वारा श्रेष्ठ निवेश पर्यावरण पुरस्कार दिया गया।
05-08-2005 ‘इन्डिया टुडे’ द्वारा सर्वाधिक आर्थिक स्वातंत्र्य पुरस्कार दिया गया।
27-11-2005 नई दिल्ली में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में गुजरात पेविलियन को प्रथम पुरस्कार मिला।
14-10-2005 गुजराती साप्ताहिक चित्रलेखा के पाठकों ने श्री नरेन्द्र मोदी को ‘पर्सन ओफ द इयर’ चुना। इस में टेनिस स्टार सानिया मिर्ज़ा दूसरे क्रम पर और सुपरस्टार अमिताभ बच्चन तीसरे स्थान पर रहे। ये पुरस्कार दिनांक 18-05-2006 को दिये गये।
12-11-2005 इन्डिया टेक फाउन्डेशन की ओर से ऊर्जा क्षेत्र में सुधार और नवीनता के लिए इन्डिया टेक्नोलोजी एक्सेलन्स अवार्ड दिया गया।
30-01-2006 इन्डिया टुडे द्वारा देश व्यापी स्तर पर कराये गये सर्वेक्षण में श्री नरेन्द्र मोदी देश के सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री चुने गये।
23-03-2006 सेनिटेशन सुविधाओं के लिए केन्द्र सरकार द्वारा गुजरात के कुछ गाँवों को निर्मल ग्राम पुरस्कार दिये गये।
31-07-2006 बीस सूत्रीय कार्यक्रम के अमलीकरण में गुजरात एक बार फिर प्रथम स्थान पर रहा।
02-08-2006 सर्व शिक्षा अभियान में गुजरात देश के 35 राज्यों में सबसे प्रथम क्रमांक पर रहा।
12-09-2006 अहल्याबाई नेशनल अवार्ड फंक्शन, इन्दौर की ओर से पुरस्कार।
30-10-2006 चिरंजीवी योजना के लिए ‘वोल स्ट्रीट जर्नल’ और ‘फाइनान्सियल एक्सप्रेस’ की ओर से (प्रसूति समय जच्चा-बच्चा मृत्यु दर कम करने ले लिए) सिंगापुर में ‘एशियन इन्नोवेशन अवार्ड’ दिया गया।
04-11-2006 भू-रिकार्ड्स के कम्प्यूटराइजेशन के लिए चल रही ई-धरा योजना के लिए ई-गवर्नन्स पुरस्कार।
10-01-2007 देश के सबसे श्रेष्ठ ई-गवर्न्ड राज्य का ELITEX 2007- पुरस्कार भारत की केन्द्र सरकार की ओर से प्राप्त।
05-02-2007 इन्डिया टुडे-ओआरजी मार्ग के देशव्यापी सर्वेक्षण में तीसरी बार श्रेष्ट मुख्यमंत्री चुने गये। पाँच साल के कार्यकाल में किसी भी मुख्यमंत्री के लिए यह अनोखी सिद्धि थी।
---------------
स्वतन्त्रता दिवस पर नयी परम्परा की शुरुआत

स्वतन्त्र भारत के इतिहास में शायद यह पहली बार हुआ है कि जहाँ एक ओर प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने पन्द्रह अगस्त को स्वतन्त्रता दिवस पर परम्परागत तरीके से दिल्ली के लाल किले से देश को सम्बोधित किया वहीं दूसरी ओर भुज प्रान्त में लालन कालेज के मैदान से नरेन्द्र मोदी ने अपनी वेदना व्यक्त करते हुए"[38] केन्द्र सरकार पर सीधा आरोप लगाया कि यह सरकार अब केवल एक परिवार का गुणगान करने वाली मशीनरी बनकर रह गयी है। उसे न तो देश के आम आदमी की कोई चिन्ता है और न ही देश की आन्तरिक व बाह्य सुरक्षा की। बीबीसी सम्वाददाता ज़ुबैर अहमद ने तो इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए साफ साफ शब्दों में लिखा-"अगर भारत में अमरीका की तरह राष्ट्रपति शासन प्रणाली होती तो आज नरेन्द्र मोदी अपने भाषण के आधार पर मनमोहन सिंह से बाज़ी मार ले जाते और अगले साल चुनाव के बाद उनके समर्थकों का सपना भी साकार हो जाता। गुजरात के मुख्यमन्त्री का आज का दबंग और अभूतपूर्व कदम अगले साल के लिए एक ड्रेस रिहर्सल कहा जा सकता है।"
यद्यपि मोदी ने इसकी सूचना पहले से ही मीडिया के माध्यम से पूरे देश में प्रसारित कर दी थी लेकिन मोदी के इस दुस्साहस पूर्ण कृत्य का जब मीडिया ने तुलनात्मक तरीके से सीधा प्रसारण किया तो कांग्रेस के कई नेताओं ने जहाँ एक ओर मोदी की तीखी आलोचना की और माफी माँगने तक को कहा  वहीं भाजपा के शीर्षस्थ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने मोदी को संयम बरतने की सीख भी दे डाली।

प्रधानमन्त्री पद के उम्मीदवार

नरेन्द्र मोदी को 13 सितम्बर 2013 को हुई संसदीय बोर्ड की बैठक में आगामी लोकसभा चुनावों के लिये प्रधानमन्त्री पद का उम्मीद्वार घोषित कर दिया गया। इस अवसर पर पार्टी के शीर्षस्थ नेता लालकृष्ण आडवाणी मौजूद नहीं रहे और पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने इसकी घोषणा की। इस अवसर पर मोदी ने कहा कि मुझे बहुत बड़ी जिम्मेदारी मिली है। यह खबर सुनते ही देश भर के भाजपा कार्यकर्ताओं ने जश्न मनाना शुरू कर


सैनिकों का अपमान न करे कांग्रेस सरकार : नरेंद्र मोदी, रेवाड़ी रैली



नरेंद्र मोदी ने रेवाड़ी की रैली में कहा
राज नेता सीखें सेना से सेक्युलेरिज्म
 15 सितम्बर  2013
रेवाड़ी: प्रधानमंत्री पद के लिए बीजेपी उम्मीदवार चुने जाने के बाद नरेंद्र मोदी ने हरियाणा के रेवाड़ी में अपनी पहली रैली को संबोधित किया। मोदी यहां पूर्व सैन्यकर्मियों की एक रैली को संबोधित करने पहुंचे थे, जिसमें पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह भी मौजूद थे। उनके साथ कई सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारियों ने भी रैली में हिस्सा लिया। जैसे ही मोदी मंच से भाषण देने के लिए उठे वहां मौजूद करीब डेढ़ लाख लोगों ने तालियों की जोरदार गड़गड़ाहट से उनका स्वागत किया।

सेना के पूर्व अफसरों और जवानों को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि रिझांग्ला, त्रिशूर या करगिल की लड़ाई हो, भारतीय सेना ने शहादत का शतक लगाया। सैनिक का जीवन किसी ऋषि-मुनि से कम नहीं है।

कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि पूरा एक दशक होने को आया, कोई अच्छी खबर सुनने को नहीं मिली। उन्होंने कहा कि मैं भारत के वैज्ञानिकों का अभिनंदन करता हूं, जिन्होंने अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण किया।

जब सेना में भर्ती होना चाहते थे मोदी

मोदी ने कहा कि पीएम प्रत्याशी घोषित होने पर इतनी खुशी नहीं हुई, जितनी इस कार्यक्रम में शरीक होकर हो रही है। मैं चौथी कक्षा का छात्र था, गरीब था, दो रुपये एक साथ नहीं देखे थे, अखबार में इश्तहार था, सैनिक स्कूल में दाखिले का। दो रुपये जमाकर मैंने पोस्ट ऑफिस के पोस्टमास्टर की मदद से स्कूल का प्रोस्पैक्टस मंगवाया। मैं मानता था कि देश की सेवा करना यानि सेना में जाना। मैंने फार्म जमा किया। पिता जी से टिकट के पैसे मांगें की परीक्षा देनी है, लेकिन पिता जी पैसे का इंतजाम नहीं कर पाए और मैं दाखिला नहीं ले पाया।

मोदी ने आगे कहा, मैं छठी कक्षा का छात्र था, जब चीन युद्ध हुआ, तब मैंने सैनिकों की सेवा की। बाद में भारतीय जनता पार्टी में रहकर सेना के करीब आने का अवसर मिला। उन्होंने कहा कि ईश्वर का संकेत है कि पीएम उम्मीदवारी की घोषणा के बाद मैं पहले से तय इस रैली में आया हूं।

उन्होंने कहा, हरियाणा में स्वामी दयानंद सरस्वती का प्रभाव रहा है। इमरजेंसी के दौरान मोराजी देसाई को हरियाणा की जेल में रखा गया था। चौधरी देवीलाल, चौधरी बंशीलाल के साथ काम करने का मौका मिला। रेवाड़ी में अटल बिहारी वाजपेयी के साथ रैली की थी।

रैली की अपार भीड़ को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह परिवर्तन की पुकार है, दिल्ली की सल्तनत को ललकार है। इस भूमि पर गीता का संदेश भगवान श्रीकृष्ण ने दिया था। देश में भी संकट के समय सैनिक काम आते हैं। गुजरात का विनाशकारी भूकंप हो या उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा, सेना ने हर मुश्किल घड़ी में देश की सेवा की है।

मौजूदा सीमा तनाव पर

नियंत्रण रेखा पर शहीद सैनिकों के बारे में रक्षामंत्री एंटनी के बयान की मोदी ने निंदा की। उन्होंने बिहार की जेडीयू सरकार के एक मंत्री के भी सैनिकों पर दिए गए उस बयान की कड़ी निंदा की, जिसमें मंत्री ने कहा था कि सेना में लोग मरने के लिए ही जाते हैं। मोदी ने कहा, अगर दिवाली मनाने का मौका मिलता है, तो मैं सीमा पर चला जाता हूं। उन्होंने कहा कि 700 किलोमीटर पाइपलाइन डालकर सीमा पर सैनिकों को नर्मदा का साफ पानी पीने के लिए उपलब्ध कराया गया है। सीमा पर काम करने वाले जवान के प्रति सम्मान का भाव होना चाहिए। हमने गुजरात से सटी पाकिस्तान की सीमा पर शहीद स्मारक बनाया है।

सीमा पर चीन और पाकिस्तान की घटनाओं पर उन्होंने कहा कि यह सब सेना की कमजोरी के कारण नहीं हो रहा है। यह सब सीमा की समस्या नहीं है, यह दिल्ली की समस्या है। इस समस्या का समाधान भी दिल्ली से खोजना पड़ेगा। इस समस्या का समाधान दिल्ली में सक्षम, देशभक्त सरकार बनाकर ही हो सकता है।

आतंकवाद और माओवाद

मोदी ने कहा कि भारत ने जितने जवान युद्ध में नहीं गंवाए, उससे ज्यादा आतंकवादियों, विघटनकारी शक्तियों और माओवादियों से लड़ाई में गंवाए हैं। तीसरे विश्वयुद्ध की संभावना को टालने के दम पर मोदी ने कहा कि यूएनओ को गर्व नहीं करना चाहिए। अब देश ज्यादा छद्म युद्ध से परेशान है, जिसका नाम है आतंकवाद और माओवाद। पूरे विश्व में माओवाद और आतंकवाद के खिलाफ जनमत तैयार होना चाहिए। मोदी ने कहा, आतंकवाद मानवता का दुश्मन है। हिंसा मानवता की कब्र खोदती है। गरीब देश के नौजवनों को सुरक्षित करने के लिए शांति पहली जरूरत है।

पाकिस्तान के बारे में

पाकिस्तान के बारे में मोदी ने कहा, पाकिस्तान में चुनी सरकार आई है। उससे अपेक्षा है कि भारत विरोध की नीति छोड़ मित्रता की नीति अपनाए। बम, बंदूक और पिस्तौल ने 60 साल में पाकिस्तान का भला नहीं किया। पहले लड़ाई सीमा पर होती थी, अब निर्दोष नागरिकों को मारने की लड़ाई का खेल चल रह है। यह आतंकवाद किसी देश का भला नहीं करता। पाकिस्तान को सलाह दी कि गरीबी, अशिक्षा और अंधश्रद्धा के खिलाफ लड़ाई करें। विश्वशांति का मकसद लेकर चलना होगा। केवल 10 साल आप पाकिस्तान में आतंकवाद को प्रश्रय न दें, तो विकास की बयार बहेगी और गरीबी दूर होगी।

सेक्युलेरिज्म पर

मोदी ने कहा, आज देश में वोट बैंक की राजनीति का खेल इतना घिनौना हो गया है कि समाज को टुकड़े-टुकड़े में बांट दिया गया है। सेक्युलेरिज्म का छाता लेकर पार्टियां लोगों को बांट रही हैं। अगर सच्चा सेक्युलेरिज्म देखना हो, तो सेना एक मिसाल है। राजनेताओं को भारतीय सेना से सीख लेनी चाहिए। 1857 का संग्राम भी सेक्युलेरिज्म की मिसाल है। सेना आज भी परंपरा निभा रही है। देश में सत्ता के भूखे लोगों ने पहली बार यह प्रयास किया है कि सेना में हिन्दू, मुसलमान की गिनती का आदेश दिया है। सेना को भी संप्रदाय में रंगने का काम इस सरकार ने किया है। हम सेना में इस प्रकार की कोई गिनती नहीं होने देंगे।

'वन रैंक, वन पेंशन' पर

किसी भी देश के लिए यह बहुत बड़ी चुनौती है, अगर नौजवान सेना में जाना नहीं चाहते हैं। अब युद्ध सीमा पर नहीं, टेक्नोलॉजी से लड़े जाएंगे। सेना में जाना एक गौरव की बात हो ऐसा माहौल बनाना होगा। वन रैंक वन पेंशन की बात पर मोदी ने भारत सरकार से श्वेत पत्र की मांग की। उन्होंने कहा कि अगर 2004 में वाजपेयी जी की सरकार बनी होती, तब इसका समाधान निकल चुका होता।

हथियारों के आयात पर

उन्होंने हथियारों के आयात पर सवाल उठाते हुए पूछा कि आखिर इससे किसका फायदा हो रहा है। इतने सालों में भारत आत्मनिर्भर नहीं बन पाया। हमने गुजरात में डिफेंस इक्विपमेंट इंजीनियरिंग का कोर्स शुरू किया है। हम भारतीय कंपनियों को प्राथमिकता देंगे।

पटेल की प्रतिमा के बारे में

मैं नौजवानों से मताधिकार प्रयोग करने का आह्वान करता हूं। उन्होंने कहा कि युवा को 18 साल के होने पर बधाई देनी चाहिए। अगर हमें देश को मजबूत बनाना होगा देश के मतदाता को जोड़ना होगा। इस देश को एक करने का काम सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया था। पिछले कई वर्षों से सरदार पटेल को भुला दिया गया है। सरदार पटेल किसान थे, आजादी के समय किसानों को जोड़ने का काम उन्होंने किया था। सरदार पटेल की भव्य प्रतिमा बनानी है, यह प्रतिमा अमेरिका की स्टेच्यु ऑफ लिबर्टी से दो गुनी बड़ी बननी चाहिए। इस प्रतिमा का नाम स्टेच्यू ऑफ युनिटी बनाना रखा गया है। उसके लिए देश हर गांव से लोहा चाहिए। मुझे किसानों के खेत का औजार चाहिए।
----------------------
सैनिकों का अपमान न करे केंद्र सरकार: नरेंद्र मोदी, रेवाड़ी रैली
नवभारतटाइम्स.कॉम | Sep 15, 2013
नई दिल्ली।। पीएम पद के कैंडिडेट घोषित होने के बाद अपनी पहली रैली में नरेंद्र मोदी ने रेवाड़ी से पूर्व सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि सेना की तारीफ की और केंद्र सरकार को अपनी नीतियों के लिए आड़े हाथों लिया। मोदी ने कहा कि सरकार की दिलचस्पी सेना के टेंडर में है न कि सेना के हितों को पूरा करने में। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने सेना का अपमान किया है।

उन्होंने कहा कि जब देश की सुरक्षा के लिए सेना अपने जी-जान से जुटी हुई है तब रक्षा मंत्री यह बयान दे रहे हैं कि सेना में लोग मरने के लिए ही भर्ती होते हैं। चीन और पाकिस्तान की घुसपैठ को केंद्र सरकार की नाकामी से जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि समस्या सीमा पर नहीं, दिल्ली में है। उन्होंने कहा, 'केंद्र सरकार को सेना से धर्मनिरपेक्षता सीखनी चाहिए। सेना को संप्रदाय में रंगने की कोशिश करके केंद्र सरकार ने पाप किया है।'

सेना के हितों की अनदेखी न करे सरकार
मोदी ने कहा कि हिन्दू-मुस्लिम आधार पर सेना में सैनिकों की गिनती करवाने वाली केंद्र सरकार को वन रैंक, वन पेंशन पर वाइट पेपर लाए। उन्होंने कहा, 'सेना को संप्रदाय में बांटने की कोशिश न करे। सेना के लिए छोटा-मोटा पुर्जा भी लाना हो तो विदेशों से लाना पड़ता है।' मोदी ने कहा कि वाजपेयी सरकार होती जरूर रास्ता निकल आता। जबकि, इस सरकार की सेना के टेंडर में ज्यादा रुचि है।

उन्होंने कहा कि देश की युवाशक्ति का उपयोग करते हुए खुद हथियार बनाने चाहिए और बेचने चाहिए। और अब दूसरे देशों से हथियार खरीदने बंद कर दें। उन्होंने कहा कि अब सेना को आधुनिक बनाने की जरूरत है।

पाकिस्तान और चीन को दिए कड़े संदेश

मोदी ने पाकिस्तान सरकार को संदेश दिया कि उनकी प्रगति भारत विरोध के भरोसे नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा, '60 साल से जो गलत रास्ते पर चलते रहे हो, अब गरीबी और अशिक्षा के खिलाफ लड़ाई करो।' पाकिस्तान द्वारा सीजफायर के उल्लंघन और चीन के साथ बढ़ते तनाव पर भी मोदी बोले।

मोदी ने चीन के मसले को भी उठाया। उन्होंने कहा कि चीन अरुणाचल प्रदेश हड़पना चाहता है और नदियों का पानी तक रोकने पर उतारू है। ऐसा सेना की कमजोरी के कारण नहीं हो रहा है। बल्कि दिल्ली के ढुलमुल रैवये के कारण ही चीन की ऐसा करने की हिमाकत हो पा रही है।

'सरकार ने किया सेना का अपमान'

उन्होंने कहा कि सरकार सैनिकों का अपमान करती है जबकि सेना उत्तराखंड में देश की मदद कर रही होती है। मोदी ने अपने चिर परिचित आक्रामक अंदाज में भाषण के शुरुआत में ही कहा कि हार की खबरें सुनकर हमारे काम पक गए हैं और देश को अच्छी खबरें सुनने को नहीं मिल रही हैं। उन्होंने सैनिकों को नमन करते हुए अग्नि 5 के सफल प्रक्षेपण के लिए वैज्ञानिकों को बधाई दी।

मोदी ने इस रैली के साथ 2014 के लोकसभा चुनाव का बिगुल फूंक दिया है। पूर्व सैनिकों की रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम उम्मीदवार बनने से ज्यादा खुशी इस रैली में बोलते हुए हो रही है। भारत माता के जयकारे के साथ उन्होंने अपना भाषण शुरू किया। उन्होंने अपने बचपन का जिक्र करते हुए कहा कि पैसों की तंगी के चलते वह सैनिक स्कूल नहीं जा सके। उन्होंने कहा कि उन्होंने 2 रुपए बचपन में एकसाथ नहीं देखे थे।

31 अक्टूबर से लोहा मांगने का अभियान

मोदी ने भाषण के अंत में लोगों से कहा कि पटले की मूर्ति बनाने के लिए लोहा मांगने का अभियान शुरू किया जाएगा। इसके लिए हरेक किसान से लोहा मांगा जाएगा। उन्होंने कहा कि 31 अक्टूबर से यह व्यापक अभियान शुरू किया जाएगा।


वीके सिंह और राठौर भी मौजूद

मोदी के रेवाडी़ पहुंचने से पहले पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह अपने भाषण में नाराज नजर आए। उन्होंने कहा कि पिछले 60 सालों में देश को बांट दिया गया है और अपने हित के लिए हमें एकजुट होना होगा। शूटर राज्यवर्धन सिंह राठौर ने मंच से भाषण दिया। उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए मोदी को लाना जरूरी है। मोदी के आने से देश का मनोबल ऊंचा होगा।

मोदी के पहुंचने से आधा घंटा पहले 50 हजार से ज्यादा लोग रैली स्थल पर पहुंच चुके हैं। उत्तराखंड के पूर्व सीएम खंडूरी रैली में हैं। मोदी की रेवाड़ी रैली वैसे तो पहले से ही तय थी, लेकिन उनका नाम पीएम पद के तौर पर औपचारिक तौर पर घोषित होने के बाद इसका महत्व और बढ़ गया है।

रैली के चीफ गेस्ट पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह हैं। रैली में दो दर्जन से ज्यादा रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल और मेजर जनरल स्तर के अधिकारी शामिल हो रहे हैं।

रैली के लिए सुरक्षा चाकचौबंद

करीब साढ़े चार लाख वर्ग फीट के रैली स्थल की साज सज्जा भव्य तरीके से की गई है। बीजेपी की ओर से यह तैयारी भी की गई है कि मोदी का यह भाषण फोन पर सुना जा सके। इसके लिए इस नंबर को डायल किया जा सकता है- 02245014501

बीजेपी का दावा था कि रैली में 2 लाख से अधिक लोग पहुंचेंगे। इस रैली को सफल बनाने के लिए बीजेपी ने जोर-शोर से तैयारी की है। रैली के स्थल पर तीन मंच बनाए गए हैं। एक मंच पर आर्मी के पूर्व अधिकारी होंगे और दूसरी ओर बीजेपी के नेता जबकि तीसरे मंच से नरेंद्र मोदी रैली को संबोधित करेंगे। मोदी के मंच पर पीछे की ओर संसद का बड़ा पोस्टर लगाया गया है।

रेवाड़ी में बीजेपी की रैली की सफलता इसलिए भी मायने रखती है क्योंकि यदि मोदी इन्हें रिझाने में सफल होते हैं तो करोड़ों सैनिकों और पूर्व सैनिकों के वोट वह अपनी झोली में डालने में सफल हो जाएंगे। रैली के संयोजक कैप्टन अभिमन्यु का कहना है कि जहां पहले हम इस रैली में डेढ़ लाख लोगों के आने की उम्मीद जता रहे थे वहीं मोदी के पीएम पद के लिए उम्मीदवार घोषित हो जाने के बाद इसमें बड़ा उछाल आएगा। मोदी की रेवाड़ी रैली को लेकर बीजेपी के कार्यकर्ता रेवाड़ी, झज्जर, भिवानी, महेंद्रगढ़, गुड़गांव व रोहतक के पूर्व सैनिकों और पूर्व अर्ध सैनिक बल के परिवारों से संपर्क किया था।

मोदी विरोध भी जोरों पर

नरेंद्र मोदी की इस रैली को लेकर जहां बीजेपी पक्ष उत्साहित है वहीं मोदी विरोधियों द्वारा विरोध भी खूब किया जा रहा है। इलाके में उनके पोस्टरों पर कालिख पोती गई है। राज्य के ऊर्जा मंत्री अजय सिंह यादव ने सभा करने के लिए उनकी आलोचना भी कर डाली।

गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च किए गए मोदी

नरेंद्र मोदी गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च किए जाने वाले शख्स बन गए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में उन्होंने अमेरिका के प्रेजिडेंट बराक ओबामा को भी पीछे छोड़ दिया है।