रविवार, 27 अक्तूबर 2013

पटना हुंकार रैली में : विस्फोट से अप्रभावित नरेन्द्र मोदी



पटना में मोदी ने नीतीश को अवसरवादी कहा
पटना, 27-10-13 एजेंसी
http://www.livehindustan.com
रैली स्थल गांधी मैदान के पास विस्फोट से अप्रभावित नरेन्द्र मोदी ने अपने घोर विरोधी नीतीश कुमार पर करारा प्रहार करते हुए उनपर अवसरवादी तथा प्रधानमंत्री बनने का सपना पूरा करने के लिए जयप्रकाश नारायण, राममनोहर लोहिया तथा राज्य के लोगों को धोखा देने का आरोप लगाया।  
राजग गठबंधन में जदयू के साथ रहने तक नीतीश कुमार द्वारा बिहार से दूर रखे जाने के बाद पहली बार बिहार आने पर भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने भाजपा के साथ गठबंधन तोड़ने के लिए नीतीश को बार बार निशाना बनाया और कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री, कांग्रेस के साथ आंख मिचौली खेल रहे हैं जिसके खिलाफ उनके गुरु जयप्रकाश नारायण और लोहिया जीवन भर संघर्ष करते रहे क्योंकि वह प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं।

लोगों से खचाखच भरे गांधी मैदान में हुंकार रैली को संबोधित करते हुए नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जिसने जेपी (जयप्रकाश नारायण) को छोड़ दिया हो, वह बीजेपी को क्यों नहीं छोड़ सकता है। जिस व्यक्ति (जेपी, लोहिया) ने जीवन भर देश को कांग्रेस से मुक्त बनाने के लिए संघर्ष किया और दूसरा (नीतीश) जो
लोहिया का अनुयायी होने का दावा करता हो, उसने पीठ में छुरा घोंपा है और अब वह कांग्रेस के साथ आंख मिचौली खेल रहा है।

मोदी ने कहा कि उनके अनुयायी माफ कर सकते हैं (नीतीश को) लेकिन लोहिया और जेपी की आत्मा उनके कृत्य को कभी माफ नहीं कर सकती। नीतीश का नाम लिए बिना मोदी उन्हें बार बार मेरे मित्र के रूप में संबोधित करते रहे और पिछले विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए नहीं आने देने के लिए निशाना साधते हुए कहा कि वह इसलिए अपमान सहते रहे क्योंकि वह नहीं चाहते थे कि बिहार में जंगल राज दोबारा आए।

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने 40 मिनट के अपने भाषण में भोजपुरी, मैथिली और मगही का भी उपयोग किया जो राज्य की तीन प्रमुख बोलियां हैं। मोदी के संबोधन से पहले पटना में कई विस्फोट हुए जिसमें से पांच रैली स्थल के पास हुए। इसमें पांच व्यक्तियों की मौत हो गई जबकि कई अन्य घायल हो गए। मोदी ने अपने भाषण में विस्फोट का जिक्र नहीं किया लेकिन लोगों से सुरक्षित घर जाने की अपील की।

बिहार के मुख्यमंत्री पर चुटकी लेते हुए मोदी ने एक घटना का जिक्र किया, जब वह उनके साथ दिल्ली में प्रधानमंत्री के समेत टेबल पर बैठे थे और नीतीश खाना नहीं खा रहे थे, असहज थे और इधर उधर देख रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं माजरा समझ गया और उनसे (नीतीश) कहा कि यहां कोई कैमरा नहीं है, आप खाना खा सकते हैं। यह पाखंड की हद है।

गुजरात के मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह सम्प्रदायिकता के नाम पर लोगों को भ्रमित कर रही है। हिन्दू मुस्लिम एकता की वकालत करते हुए मोदी ने कहा कि उनमें से कोई नहीं चाहता है कि हम एक दूसरे से लड़े। गरीबी को समाप्त करने के लिए हम सबको मिलकर लड़ने की जरूरत है।

राहुल को शहजादा संबोधित करने पर कांग्रेस की आपत्ति का जवाब देते हुए भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार कहा कि अगर कांग्रेस वंशवाद को छोड़ दे तब वह राहुल गांधी को शहजादा कहना छोड़ देंगे। मोदी ने यहां हुंकार रैली को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस के मित्र बहुत परेशान है कि मोदी शहजादा क्यों कह रहे हैं। उन्हें नींद नहीं आती है। लेकिन मैं पूछता हूं कि शहजादा कहने की नौबत क्यों आई।

नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जितना कांग्रेस इस वाक्य से अपमानित महसूस कर रही है, उतना ही लोग राजशाही शासन को नापसंद करते हैं। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस वंशवाद को छोड़ने का वायदा करे, तब मैं शहजादा कहना बंद कर दूंगा। मोदी ने कहा कि जयप्रकाश नारायण ने जीवनभर लोकतंत्र के लिए संघर्ष किया और जेल गए। उन्होंने कहा कि आज लोकतंत्र के चार शत्रु हैं- राजशाही राजनीति, जातपात, साम्प्रदायिक राजनीति और अवसरवाद। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि लोकतंत्र के ये चारों शत्रु बिहार की राजनीति और संप्रग में मौजूद हैं।

बिहार के चंपारण से अंग्रेजों को भगाने का आहवान करने के संबंध में महात्मा गांधी को याद करते हुए मोदी ने देश से कांग्रेस और बिहार से जदयू को उखाड़ फेंकने का वादा करने का लोगों से आह्वान किया। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने भ्रष्टाचार, महंगाई, गरीबी तथा विकास नहीं होने और सुरक्षा की खराब स्थिति के लिए संप्रग सरकार पर निशाना साधा।

मोदी ने कहा कि देश बदलाव चाहता है। सभी ओर कीचड़ उछाला गया है। लेकिन मैं आपको बताना चाहता हूं कि जिनता कीचड़ आप उछालेंगे, उतना ही कमल खिलेगा। नीतीश पर हमला जारी रखते हुए उन्होंने कहा कि उनके विचार अच्छे नहीं है। अपने चाटुकारों की सलाह, जिन्होंने उनसे कांग्रेस से हाथ मिलाने को कहा क्योंकि उनके प्रधानमंत्री बनने का मौका था, वह सपना देखने लगे।

मोदी ने उपस्थित लोगों से पूछा, नीतीश ने न केवल भाजपा को धोखा दिया बल्कि बिहार के लोगों को भी धोखा दिया। यह आपसे विश्वासघात है, क्या ऐसा नहीं है लोगों ने हां में जवाब दिया। गुजरात के मुख्यमंत्री ने बताया कि किस तरह से उनकी पार्टी ने 1999 में अधिक विधायक होने के बादजूद जंगल राज के खात्मे के लिए कुमार के पूर्व दल समता पार्टी के पक्ष में मुख्यमंत्री पद का बलिदान किया था।

मोदी ने कहा कि भाजपा ने मेरे मित्र (नीतीश) के पक्ष में बिहार से जंगल राज के खात्मे के लिए सुशील कुमार मोदी को मुख्यमंत्री बनाए जाने के अवसर को कुर्बान कर दिया था। उन्होंने कहा कि बिहार से पार्टी के कई नेताओं के बार बार के आग्रह के बावजूद वह राजग की एकता और राज्य की भलाई के लिए बिहार से दूर रहे और भाजपा ने हमेशा एकजुटता का प्रयास किया।

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने कांग्रेस पर महंगाई का पाप करने का आरोप लगाया जिसके कारण लोगों की कमर टूट गई है। उन्होंने कहा कि योजना आयोग ने रिपोर्ट पेश की है जिसमें कहा गया है कि एक व्यक्ति को 26 रूपये में दो वक्त का खाना मिल सकता है। उन्होंने लोगों से पूछा कि क्या आपको 26 रुपये में दो वक्त का खाना मिल सकता है। 26 रुपये में तो कुछ कप चाय भी नहीं खरीदे जा सकते हैं।

स्वयं को गरीब परिवार से आने का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी के लोगों को गरीबी के बारे में पता ही नहीं है। लेकिन मैं जानता हूं मैं गरीब परिवार में पैदा हुआ हूं, गरीबी देखी है और जिया है, मैंने रेलवे स्टेशन पर, ट्रेनों में चाय बेचा है, जो लोग ट्रेने में चाय बेचते हैं, वे मंत्री से अधिक रेलवे की समस्या समझ सकते हैं।
-------------------
मोदी ने बिहार को दिया स्पेशल आर्थिक पैकेज का आश्वासन
27-10-13 पटना, एजेंसी

पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने लोगों को आश्वस्त किया कि उन्हें स्पेशल आर्थिक पैकेज मिलेगा और इस पैकेज के मिलने में महज 200 दिन बचे हैं।
उन्होंने कहा कि भाजपा बिहार के लिए 50 हजार करोड़ के आर्थिक पैकेज की मांग करती आ रही है और अगर देश में भाजपा की सरकार बनी तो यह पैकेज बिहार को मिलकर रहेगा।

नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ विश्वासघात किया है और इसकी सजा उन्हें मिलेगी। मोदी ने उनपर टिप्पणी करते हुए कहा कि जो आदमी जेपी यानी जयप्रकाश नारायण को छोड़ दिया, वह बीजेपी को क्यों नहीं छोड़ेगा।

मोदी ने कहा कि मुसलमानों को हिंदुओं के खिलाफ नहीं, बल्कि गरीबी के खिलाफ लड़ाई लड़नी चाहिए और ऐसा तब होकर जब मुसलमान और हिंदू दोनों मिलकर चलेंगे और इस दिशा में काम करेंगे।

नीतीश कुमार पर हमला करते हुए मोदी ने भोजपुरी में भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि बिहार के लोग कुछ अपवादों को छोड़कर अवसरवादी नहीं होते।

भोजपुरी के बाद मोदी ने मैथिली में भाषण देते हुए मिथिला की समस्याओं खासकर बाढ़ का जिक्र किया। उन्होंने बिहार के गौरव का जिक्र किया और कहा कि यह राज्य लोकतंत्र की भी जननी है और इस राज्य ने बड़े बड़े शूरमाओं को पैदा किया।

मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी ने भी अपना सत्याग्रह बिहार के चंपारण से ही शुरू किया था।

मोदी ने कहा कि कुछ समय पहले लालू प्रसाद के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद उन्होंने उन्हें फोन किया और कुशलक्षेम पूछा। उन्होंने यादवों को संकेत देते हुए कहा कि कृष्ण के वंशजों का वह खास ख्याल रखेंगे।

उन्होंने कहा कि जिस समय बिहार में नीतीश कुमार की सरकार बनी थी, उस समय भाजपा के पास जदयू की तुलना में दोगुने विधायक थे, लेकिन भाजपा ने नीतीश को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया। ऐसा इसलिए किया गया ताकि बिहार से लालू प्रसार का जंगल राज खत्म करना था।

उन्होंने कहा कि नीतीश और बीजेपी की मिलीजुली सरकार में अगर कुछ मंत्रियों ने राज्य की तरक्की के लिए काम किया, तो वे भाजपा के मंत्री थे।

उन्होंने कहा कि वह भाजपा के स्थानीय नेताओं के आग्रह के बावजूद वह पिछले चुनावों में बिहार आने से मना कर दिया, क्योंकि उन्हें फिक्र इस बात की थी कि कही बिहार में फिर से जंगल राज नहीं आ जाए। वह चाहते थे कि बिहार में सुशासन जारी रहे और नीतीश का नेतृत्व जारी रहे।

मोदी ने कहा कि नीतीश का भाजपा से संबंध तोड़ना विश्वासघात है और इसकी सजा बिहार की जनता उन्हें देगी। उन्होंने लोगों से कहा कि वह इसकी सजा आने वाले चुनाव में संबंधित व्यक्ति को मिलनी चाहिए।


नरेंद्र मोदी की रैली से पहले पटना में सीरियल ब्लास्ट



यह नितीश सरकार की सबसे बड़ी विफलता है !
दूसरे नितीश और कांग्रेस से निष्पक्ष जाँच की आशा नही की जा सकती।
पूरे मामले की जांच न्यायालय की देख रेख में होनी चाहिए ।
- अरविन्द सिसोदिया




नरेंद्र मोदी की रैली से पहले पटना में सीरियल ब्लास्ट
Published: October 27, 2013
नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली से पूर्व रेलवे स्टेशन के परिसर में स्थित शौचालय में पहला धमाका हुआ, जहां घायल हुए शख्स ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। रैली के स्थान गांधी मैदान में एक के बाद एक पांच बम धमाके हए। सभी धमाके देसी बम से किए गए।
रविवार को बिहार में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभा से पहले हुए सीरियल बम ब्लास्ट ने प्रशासन में खलबली मचा दी। किसी अनहोनी की आशंका के चलते प्रशासन सतर्क हो गया। क्षेत्राधिकारी राजेश चौधरी के नेतृत्व में रोडवेज बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और शहर के प्रमुख मंदिर, मस्जिदों की चेकिंग कराई गई। मंदिर-मस्जिदों के बाहर पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया।

----------------------------
पटना विस्फोट की जांच एनएसजी, एनआईए के जिम्मे
Bhasha, अक्टूबर 27, 2013

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह ने रविवार को कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टीमें पटना बम विस्फोट की जांच के लिए बिहार की राजधानी रवाना की जा रही हैं।
विस्फोटों को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए मंत्री ने संवाददाताओं से कहा, "गृह मंत्रालय ने विस्फोटों के पूरे परिदृश्य की जांच के लिए एनएसजी और एनआईए के दल बिहार भेजने का फैसला किया है।" उन्होंने कहा कि ये विस्फोट कम तीव्रता वाले थे। सिंह ने बिहार सरकार को भी आश्वासन दिया कि जांच में केंद्र सरकार पूरी मदद करेगी।
सिंह ने कहा कि सरकार के पास इन विस्फोटों के बारे में कोई खुफिया सूचना उपलब्ध नहीं थी, यद्यपि बड़े त्योहारों के समय किसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना की आशंका अवश्य थी। उन्होंने मोदी की रैली में और उसके पहले हुए बम विस्फोटों का राजनीतिकरण न करने का आग्रह किया।

==========

नीतीश ने शृंखलाबद्ध विस्फोटों की निंदा की, साजिश की जताई आशंका
Bhasha, Last Updated: अक्टूबर 27, 2013
पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी की पटना में आयोजित रैली से पूर्व हुए शृंखलाबद्ध विस्फोटों की निंदा की और अपना मुंगेर का निर्धारित दौरा रद्द कर दिया।
यहां जारी एक आधिकारिक वक्तव्य के अनुसार कुमार ने पुलिस को तुरंत मामले की जांच शुरू करने का निर्देश दिया और कहा कि जांच में राष्ट्रीय जांच एजेन्सी (एनआईए) की सहायता ली जाएगी।

मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों के अनुसार कुमार को अंतरराष्ट्रीय योग सम्मेलन के लिए मुंगेर जाना था लेकिन पटना में हुए विस्फोटों को देखते हुए यह यात्रा रद्द कर दी गई। सूत्रों के अनुसार कुमार ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से भी फोन पर बात की और उन्हें विस्फोटों के बारे में जानकारी दी।

सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री का काफिला एक अणे मार्ग पर खड़ा था और उन्हें हवाई अड्डे के लिए रवाना होना था लेकिन उनकी यात्रा रद्द कर दी गई। मुख्यमंत्री को मुंगेर से नालंदा जिले के राजगीर जाना था और वहां सोमवार से शुरू हो रहे जनता दल (यू) के सम्मेलन में भाग लेना था।
---------------------

पीएम ने पटना विस्फोट की निंदा की, नीतीश से कड़ी कार्रवाई करने को कहा
Bhasha, Last Updated: अक्टूबर 27, 2013
नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी की रैली से पहले पटना में हुए सीरियल बम धमाकों की निंदा करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की और राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों की तेजी से पहचान करने और उन्हें दंडित करने को कहा।

प्रधानमंत्री ने विस्फोट के तत्काल बाद नीतीश से बात की और स्थिति के बारे में जानकारी ली, साथ ही इस बारे में तत्काल ठोस कार्रवाई करने की जरूरत बताई।

मनमोहन सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री को विस्फोटों की जांच के सिलसिले में केंद्र की ओर से हर प्रकार की मदद का अश्वासन दिया। प्रधानमंत्री कार्यालय के बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने पटना में विस्फोट की निंदा की है और इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों की पहचान करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा है।

बयान के अनुसार, उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। नीतीश से टेलीफोन पर बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने उनसे तत्काल ठोस कार्रवाई करने को कहा।