सोमवार, 18 नवंबर 2013

जनता के खजाने पर किसी को 'पंजा' नहीं मारने देंगे: नरेंद्र मोदी




जनता के खजाने पर किसी को 'पंजा' नहीं मारने देंगे: मोदी
ज़ी मीडिया ब्‍यूरो
Monday, November 18, 2013,
छतरपुर/गुना : भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने भरोसा जताया है कि 2014 में लोकसभा चुनाव के बाद देश में उनकी पार्टी की सरकार बनेगी और हम जनता के खजाने की चौकीदारी करेंगे, ताकि उस पर कोई पंजा नहीं मार सके। मोदी ने गुना के दशहरा मैदान पर मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के संदर्भ में एक आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं आपसे वायदा करता हूं कि 2014 में लोकसभा चुनाव के बाद जब हमारी सरकार बनेगी, तो हम वहां चौकीदार की भूमिका निभाएंगे, ताकि आपके खजाने पर कोई पंजा नहीं मार सके। 2014 में केंद्र में सरकार बनने पर गरीबों के पैसे की पूरी सुरक्षा करेंगे। हम किसी `पंजे` को गरीबों का पैसा नहीं छीनने देंगे।

उन्होंने कांग्रेस पर देश को बांटने की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि अब देश में सबको जोड़ने की राजनीति करना पड़ेगी और तोड़ने की राजनीति का युग समाप्त होना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने वोट बैंक की खातिर अंग्रेजों की सीख पर काम करते हुए हमेशा तोड़ने और बांटने की राजनीति की है। उन्होंने (कांग्रेस) देश बांटा, सम्प्रदायों को बांटा, गांव-गांव को बांटा, जिससे उबरने में देश को पसीना आ रहा है। कांग्रेस ने हमेशा ‘टुकड़ा फेंको, वोट बटोरो’ की राजनीति की है। मोदी ने कहा कि वह देश में जब भी चुनाव होते हैं, तो उनका बारीकी से अध्ययन करते हैं और इस बार लग रहा है कि पूरे देश में भाजपा की आंधी चल रही है। हवा का रूख हमारे पक्ष में है। चुनाव में अक्सर ‘एंटी इन्कम्बेंसी’ शब्द का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन मध्य प्रदेश में ‘प्रो इन्कम्बेंसी’ की हवा है।

उन्होंने दावा किया कि जब देश और राज्यों में भाजपा को काम करने का मौका मिला है, तो चुनाव के सारे मानक बदल जाते हैं। सरकार के समर्थन में लोग खड़े हो जाते हैं। मोदी ने राहुल का नाम लिए बिना कहा कि वे सत्ता को जहर बताते हैं, लेकिन फिर भी सत्ता छोड़ने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने आम आदमी के मन में सत्ता को जहर बताकर भ्रम फैलाने का प्रयास किया है, ताकि आम आदमी सत्ता से डरे और उसका सपना नहीं देख सके। वे कहते हैं, सत्ता तो जहर है, जो चखेगा, मौत को न्यौता देगा।

उन्होंने कहा कि अब देश में हर चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ा जाना चाहिए। जाति, सम्प्रदाय, बिरादरी और इलाके के नाम पर पचास सालों तक चुनाव हो चुके, अब विकास का मुद्दा होना चाहिए। आम आदमी अपना विकास चाहता है और विकास के बिना देश का भविष्य नहीं है। देश की 65 प्रतिशत आबादी युवाओं की है, जो 35 साल से कम उम्र के हैं। हम दुनिया के सबसे युवा देश हैं और यहां युवाओं को मौका मिले, तो वह देश का भाग्य बदल सकता है। मोदी ने कहा कि चुनाव में कांग्रेस के नेता लुभावने वायदे करने में माहिर होते हैं, वे कल्पना से परे वायदे करते हैं। कांग्रेस ने पिछले लोकसभा चुनाव में 100 दिन में महंगाई घटाने का वायदा किया था, लेकिन उसने लोगों से धोखा किया, उसने हर साल एक करोड़ नौजवानों को रोजगार देने का वायदा किया और धोखा दिया। जिन लोगों ने नौजवानों को राजनीति का हथकंडा बनाया और उनके भाग्य के साथ खिलवाड़ किया, क्या उन्हें माफ किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली से कांग्रेस के नेता मध्य प्रदेश आकर कहते हैं, हमने प्रदेश को इतने रूपये दिए, तो क्या उन्होंने अपने जेब से रुपये दिए। यह रुपया तो जनता का है, उनका अपना नहीं। विकास के लिए पैसे, मोदी और शिवराज के जेब से नहीं आते, वह तो जनता के खजाने के होते हैं, हम तो ‘ट्रस्टी’ मात्र हैं।

मोदी ने एक बार फिर गांधी परिवार पर हमला बोलते हुए कहा कि सत्ता को जहर बताने वाले सामान्य आदमी को डरा रहे हैं मगर खुद सत्ता छोड़ने को तैयार नहीं हैं। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे मोदी ने सोमवार को छतरपुर और गुना में जनसभाओं को संबोधित किया। उन्होंने गुना में कहा कि वोट हासिल करने के लिए उन्होंने संप्रदाय, जातियों, बिरादियों को लड़ाया है। गांव को गांव और बिरादरी को बिरादरी के खिलाफ खड़ा किया है।

उन्होंने आगे कहा कि उन्होंने अपने लाभ के लिए देश में ऐसा जहर घोला कि उससे उबारने में पसीना छूट रहा है। आज देश को तोड़ने नहीं जोड़ने की राजनीति की जरूरत है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक मर्तबा अपनी मां सोनिया गांधी के साथ हुई बातचीत का हवाला देते हुए कहा था कि उनकी मां ने कहा है कि सत्ता जहर है। उस बयान पर मोदी ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में जैसे किसी इमारत से लोगों को डराने के लिए उसे भुतहा बता दिया जाता है, ठीक उसी तरह सत्ता को जहर बताकर सामान्य आदमी को डराया जा रहा है, ताकि वह सत्ता को जहर मानकर उससे दूर रहे। वहीं सत्ता को जहर बताने वाले उसे छोड़ने को तैयार नहीं हैं। ऐसे लोगों को पहचानना होगा।

मोदी ने इससे पहले छतरपुर के बाबूराम चतुर्वेदी स्टेडियम में कहा कि कांग्रेस अथवा उसके किसी नेता पर आरोप लगाओं तो किसी को परेशानी नहीं होती, मगर एक परिवार पर निशाना साधो तो सभी चांव-चांव करने लगते हैं। मोदी ने कहा कि एक परिवार ने देश को बर्बाद कर दिया है, उसके खिलाफ आवाज उठाना उनका धर्म है। यह तो जनता तय करेगी कि वह जुल्म करने वालों अथवा उन्हें चुनौती देने वालों को स्वीकार करती है। मोदी ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा भाजपा को चोर बताए जाने का जवाब उनका नाम लिए बगैर अपने अंदाज में दिया और कहा कि हां हमने चोरी की है और वह है कांग्रेस की नींद चुराने की।

मोदी ने कहा कि शहजादे ने छत्तीसगढ़ में भाजपा को चोर बताया। कांग्रेस वालों हमें आपका आरोप मंजूर है, हमने चोरी की है, पूरी कांग्रेस की नींद की। आपकी नींद हराम कर दी है, हर कोने में एक परिवार को ललकारा जा रहा है जो अपको सहन नहीं हो रहा है। मोदी ने रविवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा भाजपा पर बहस का स्तर गिराने के आरोप का भी जवाब दिया। उन्होंने कहा, "बहस, संसद, प्रधानमंत्री पद का किसने अपमान किया है, यह पूरा देश जानता है, यह काम भाजपा ने तो नहीं किया है।

मोदी ने कहा कि राजनीतिक स्तर गिराने का काम हमने नहीं, उन लोगों ने किया है जिस दल के प्रधानमंत्री होने पर आप गर्व करते हैं। कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष ने नॉनसेंस कहते हुए अध्यादेश की प्रति को तब फाड़ा, जब आप अमेरिका में थे, हम आपके दर्द को समझ सकते हैं, आप भले ही उनके खिलाफ कुछ मत बोलो, मगर आरोप तो हम पर मत लगाओ।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा शालीन भाषा के इस्तेमाल की सलाह का भी मोदी ने जवाब दिया। उनका कहना है कि सदन में जब चोर-चोर की आवाज सुनाई दे रही थी, तब आपने आपत्ति दर्ज कराई थी, मगर आज सार्वजनिक तौर पर प्रमुख विपक्षी दल को चोर कहा जा रहा है, आप ही बताइए कि राजनीतिक चर्चा को नीचे लाने का काम किसने किया है। मोदी ने केंद्र सरकार पर मध्य प्रदेश के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राजमार्ग के सुधार तक के लिए केंद्र राशि नहीं दे रहा है, इन मार्गो की हालत खस्ता है, वहीं राज्य सरकार के मार्ग आमजन को सुगम आवागमन मुहैया करा रहे हैं।

मोदी ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह का नाम लिए बगैर उन्हें बड़बोले झूठ के कारखाने का चेयरमैन बता डाला। मोदी ने कहा कि वे कहीं भी और कुछ भी बोल जाते हैं, मगर उन्हें शर्म नहीं आती।