मंगलवार, 19 नवंबर 2013

मेरे नाम का इस्तेमाल न करें केजरीवाल: अन्ना हजारे



मेरे नाम का इस्तेमाल न करें केजरीवाल: अन्ना
आईबीएन-7 | Nov 19, 2013
नई दिल्ली। दिल्ली में सोमवार के स्याही कांड के बाद आज अन्ना और केजरीवाल के बीच दूरियां खुलकर सामने आ गई हैं। अन्ना ने केजरीवाल के उन आरोपों को नकार दिया है जिसमें कहा गया था कि अन्ना दूसरों के इशारों पर काम कर रहे हैं। अन्ना ने ये भी कहा केजरीवाल की ईमानदारी पर उन्हें शक नहीं है। अन्ना ने कहा कि हम लोग दुश्मन नहीं हैं और वो केजरीवाल के चरित्र पर शक नहीं करते। लेकिन अन्ना ने साफ किया कि वो नहीं चाहते कि उनके नाम का इस्तेमाल चुनावों के दौरान हो।
AAP ने लगाया बीजेपी पर आरोप
उधर आप पार्टी ने साफ तौर पर ये आरोप लगाया है कि बीजेपी अन्ना और उनके बीच की दूरियां बढ़ा रहे हैं। आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि अन्ना के करीबी उन्हें घेरे रहते हैं और उनसे बात नहीं करने देते। वही आप के ही नेता कुमार विश्वास ने एक पूर्व सांसद और पत्रकार संतोष भरतिया पर आरोप लगाया कि उन्होंने अन्ना पर दबाव डालकर चिट्ठी लिखवाई जिसमें अन्ना ने आप पार्टी से तमाम सवाल पूछे थे, विश्वास का कहना है कि ये सब बीजेपी के इशारे पर किया जा रहा है। इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि अन्ना के करीबी उन्हें घेरे रहते हैं और उनसे बात नहीं करने देते।
अन्ना ने पूछे थे सवाल
दरअसल अन्ना ने कुछ दिनों पहले टीम केजरीवाल से कई सवाल पूछे थे इनका केजरीवाल ने सिलसिलेवार जवाब दिया था। अन्ना ने पूछा था कि रामलीला में मेरे अनशन के दौरान और जंतर-मंतर में जो पैसा जमा हुए, उनका क्या हुआ। मुझे इसके बारे में कुछ पता नहीं है। आंदोलन के नाम पर जो पैसे जुटाए गए उसे चुनाव में खर्च करना सही नहीं है। इस पर केजरीवाल ने जवाब दिया कि अन्ना आपके इस सवाल से मुझे बहुत तकलीफ हुई है। आपकी भेजी गई स्पेशल टीम भी हमारे सभी खातों की जांच कर चुकी है। जांच में संतुष्ट होने के बाद भी सवाल उठता है तो दुख होता है
अन्ना ने पूछा कि आपने मेरे नाम का कार्ड बनाया जिससे पैसे जुटाए गए। मैंने कभी इसकी इजाजत नहीं दी। आप के चुनाव के लिए पैसा जमा करने में मेरे नाम का इस्तेमाल गलत है। केजरीवाल ने बताया कि अन्ना कार्ड से हमारी पार्टी के लिए पैसा जमा करने का सवाल ही नहीं उठता। जब से आपने मना किया है तब से पार्टी ने आपके नाम का इस्तेमाल नहीं किया।
अन्ना ने कहा कि आपने 29 दिसंबर को लोक पाल बिल पास करने का भरोसा दिया है जबकि इसे सिर्फ लोकसभा पास कर सकती है दिल्ली विधानसभा नहीं। केजरीवाल ने जवाब दिया कि 29 दिसंबर को हम वही बिल पास करेंगे जो दिल्ली विधानसभा के अधिकार क्षेत्र में आता है। इसके दायरे में सीएम, मंत्री और विधायक होंगे।
उधर, अन्ना हजारे से मिलकर लौटे कुमार विश्वास का कहना है कि अन्ना और केजरीवाल के बीच जानबूझकर गलतफहमी पैदा करने की कोशिश की गई। विशवास ने कहा कि मुझे पता चला कि वहां कुछ चीजें गलत तरीके से प्रस्तुत की गई हैं। अन्ना ने ये बताया कि मैंने कई बार बात करने की कोशिश की पर हो नहीं पाई। कुमार विश्वास ने कहा कि मैंने भी उन्हें बताया कि हमने भी बात करने की कोशिश की पर हो नहीं पाई। इस पर अन्ना को काफी आश्चर्य हुआ।
विश्वास का कहना है कि नकली पोस्टर छाप कर अन्ना तक पहुंचाए गए। उनके मन में संदेह था। मैंने भी उनके चारो तरफ जिस तरह के लोग है उस बारे में जानकारी दी। हालांकि अन्ना हजारे ने आरोपों को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि वो बात करने को हमेशा तैयार रहे हैं।
---------------------------------
अरविंद से नाराज अन्ना...बोले चरित्र ठीक, पर चाल नहीं
नई दिल्ली, एजेंसी 19-11-13
केजरीवाल से अपनी नाराजगी जाहिर की। उन्‍होंने साथ ही कहा कि उन्‍हें केजरीवाल के चरित्र को लेकर आज भी कोई शक नहीं है।
हालांकि अन्ना ने कहा कि सिम कार्ड से उनका कोई ताल्‍लुक नहीं, फिर भी उन्‍हें आरोपी बनाया गया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह 29 दिसंबर को अन्‍ना का लोकपाल पारित कराने की बात करते हैं। वह मेरे नाम का इस्‍तेमाल क्‍यों कर रहे हैं और लोकपाल को दिल्‍ली में कैसे लागू कर सकते हैं?
अन्ना ने केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर उनसे पूछा कि क्या उन्होंने जनलोकपाल आंदोलन के दौरान जमा पैसे का इस्तेमाल अपनी पार्टी के प्रचार के लिए किया। केजरीवाल ने इस पत्र का जवाब देते हुए कहा कि हम आंदोलन का पैसा चुनाव के लिए इस्तेमाल कर ही नहीं सकते। यह कानून का उल्लंघन होगा।
वहीं, आम आदमी पार्टी के मुखिया केजरीवाल सहित आप के नेताओं पर सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एक व्यक्ति ने काली स्याही फेंक दी। खुद को अन्ना समर्थक व भाजपा कार्यकर्ता बताने वाले इस शख्स ने केजरीवाल पर अन्ना के साथ ठीक न करने का आरोप लगाया।
तो चुनाव छोड़ दूंगा
केजरीवाल ने कहा कि अन्ना जांच करा लें, अगर जनलोकपाल आंदोलन के हिसाब में कोई हेरा-फेरी हुई या फिर आंदोलन के चंदे का पार्टी के लिए इस्तेमाल हुआ, तो मैं दिल्ली विधानसभा चुनाव से अपनी उम्मीदवारी वापस ले लूंगा।
प्रेस कांफ्रेंस में हंगामा
शाम साढ़े पांच बजे अरविंद केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करना शुरू किया। उनके साथ मनीष सिसौदिया, प्रशांत भूषण, संजय सिंह और शशि भूषण भी बैठे थे। करीब 20 मिनट बाद सामने वाले गेट से नचिकेता नामक व्यक्ति नारेबाजी करता हुआ कमरे में घुसा। इससे पहले कि कोई कुछ समझ पाता, उसने काली स्याही से भरी एक छोटी शीशी आप के नेताओं पर फेंक दी। उधर, नई दिल्ली जिले के डीसीपी एसबीएस त्यागी का कहना है कि पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है।