सोमवार, 10 मार्च 2014

'मीडिया फिक्सिंग' विडियो पर घिरे केजरीवाल



लिंक -
www.youtube.com
'मीडिया फिक्सिंग' विडियो पर घिरे केजरीवाल
10 Mar 2014,  नवभारतटाइम्स.कॉम
नई दिल्ली
आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल मीडिया से 'सेटिंग-गेटिंग' वाले विडियो को लेकर बुरी तरह घिर गए हैं। मीडिया पर पक्षपात का आरोप लगाने वाले केजरीवाल इस विडियो में टीवी एंकर से इंटरव्यू के खास हिस्सों को दिखाने की सेटिंग करते दिख रहे हैं। बीजेपी ने विडियो के सामने आने पर केजरीवाल पर जमकर निशाना साधा है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने 'जब पुण्य और पाप मिले' ब्लॉग के जरिए केजरीवाल पर कटाक्ष किया है।

    बीजेपी ने कहा कि बड़ी-बड़ी बातें करने वाले आप के नेता अरविंद केजरीवाल को एक न्यूज चैनल को इंटरव्यू देने के बाद उसके प्रसारण के समय किन बातों को उभारने और किन को दबाने की बात करते हुए रंगे हाथ पकड़े जाने ने 'पुण्य' के 'पाप' से मिलन की पोल खोल दी है। जेटली ने ब्लॉग में केजरीवाल के इस इंटरव्यू का जिक्र करते हुए कहा है कि अपनी एक खास इमेज बनाए रखना आम आदमी पार्टी की रणनीति रही है। विडियो से यह साफ तौर पर दिखता है कि पार्टी और उसके नेता अपनी छवि चमकाने के लिए कैसा छल करते हैं। वे अपनी छद्म छवि को प्रोजेक्ट करते हैं। जब पुण्य पाप से मिलता है तो साजिश की गुंजाइश नहीं रहती है।

     राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि लगता है कि आम आदमी पार्टी के साथ मीडिया का हनीमून खत्म हो चुका है। जेटली ने दावा किया कि मीडिया से आप का हनीमून खत्म हो गया, वहीं जनता में भी उसकी साख तेजी से गिर रही है। इसके उदाहरण के रूप में उन्होंने उसके कुछ लोकसभा उम्मीदवारों द्वारा नामांकन वापस किए जाने का उल्लेख किया। उन्होंने कहा, 'ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया कि सार्वजनिक रूप से पार्टी द्वारा उम्मीदवारी की घोषणा कर दिए जाने के बाद प्रत्याशी उसे ठुकरा दें। ऐसा केवल तभी होता है जब उम्मीदवार को लगता है कि ऐसी पार्टी के टिकट से जीतना असंभव है।

   उधर, आम आदमी पार्टी इस विडियो के बाद बैकफुट पर है। पार्टी की नेता शाजिया इल्मी ने कहा कि विडियो में विवाद वाली कोई बात नहीं है। उन्होंने इंटरव्यू में साठगांठ की खबरों को खारिज कर दिया।
   न्यूज चैनल की सफाईः उधर, टीवी चैनल 'आज तक' ने इस विडियो पर सफाई दी है। चैनल ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि विडियो को चैनल की छवि खराब करने के लिए सर्कुलेट किया जा रहा है। चैनल के मुताबिक केजरीवाल का इंटरव्यू 14 फरवरी को प्रसारित किया गया था। चैनल का दावा है कि इंटरव्यू के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की गई थी और पूरे इंटरव्यू को लाइव टेलिकास्ट किया गया था।

    सामने आया केजरीवाल की 'मीडिया से सेटिंग' का विडियो

नवभारतटाइम्स.कॉम  की इस खबर पर पाठकों की कुछ प्रतिक्रियाएॅ यहाँ यथावत हैं -----

- प्रसून बाजपेई ने स्टिंग कर के केजरीवाल की मिट्टी पलीद कर दी . गया बेचारा काम से. देश के प्रधान मंत्री का सपना देख रहा था,

- आज तक दुनिया को आइना दिखा रहा था, जब खुद के सामने आइना आया तो बंदर की सूरत नजर आई. वाह रे केजरीवाल . तुम तो खोटे सिक्के निकले. बहुत उम्मीद थी जनता को लेकिन सब कुछ मिट्टी मे मिला दिया.

- नकारातमक सोच और विरोधियो की आलोचना करने से कोई गुणी या विद्वान या ईमानदार नही हो जाता है वरण उसकी नकारात्मक सोच समाज को गर्त मे ले जायेगी.


- बहुत ही घटिया आदमो निकला केजरीवाल.

- केजरीवाल खुद मीडिया सेट करता है और इतना बेशर्म और झुठा है की दूसरों पर इल्जाम लगता है..

- मीडिया का ये सच तो सामने आ गया है, लेकिन जो सामने नही आया है वो कितना खतरनाक होता होगा, भविष्य मे ऐसे ही वीडियो सामने आने चाइये, सोशल मीडिया नही होता तो मीडिया का भंडाफोड़ नही होता!

- आज तक चॅनेल द्वारा किये गये पहले के स्टिंग ऑपरेशन का राज अब समझ आ रहा है. एह सब काम केजरीवाल के इशारे पे हो रहा था. ये पुन्य (पाप) प्रॅशून बाजपयी इन लोगों के साथ मिला हुआ है. लगता है आज तक का मॅनेज्मेंट केजरीवाल पार्टी की पूरी सहायता कर रहा था. अभी भी उनको जॅयैपर से देल्ली लाने के लिये आज तक ने एक चार्टर्ड जहाज के इन्तेजाम किया था. वाह रे गरीबों के झूठे मसीहा.


- केजरीवाल खबरों में रहने के लिये कुछ भी कर सकता है. अन्ना हज़ारे की 13 दिन की भूख हड़ताल के समय केजरीवाल ने स्वामी अग्निवेश को बोला था की अगर अन्ना इस भूख हड़ताल में मर जाते हैं तो बहुत फायदा होगा लेकिन बाद में उन्होने इस बात से मना कर दिया. केजरीवाल का यही असली चेहरा है.

- ध्यान रखिए आजतक उसी इंडिया टुडे मीडिया हाउस का है जिसने जयपुर से दिल्ली की चन्द घंटों की दूरी जल्दी पूरी करवाने के लिये केजरीवाल एंड कम्पनी को चार्टर हवाई जहाज सेवा में पेश किया था.

- जिस ढंग से कुछ मीडिया चॅनेल आम पार्टी की मदद कर रहे हैं सॉफ लगता है कि अरविन्द केजरीवाल की तरफ से आजतक चॅनेल को मोटा पैसा दिया गया है | ये पैसा विदेशी ताकतों द्वारा केजरीवाल को दिया जा रहा है |

- शीला दीक्षित ने केजरीवाल को इसलिये खड़ा किया था कि वह दिल्ली में भाजपा को निपटाने में मदद कर सकें , केजरीवाल ने शीला जी की कॉंग्रेस को नेस्तनाबूद कर दिया , आजतक वाले केजरीवाल की शहादत को भुनाने के लिये दौड़ी-दौड़ी गई थी अब पता चला कि केजरीवाल का ग्राफ़ चढ़ा हो या न चढ़ा हो आजतक की विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह लग गया है.

- आप---मतलब आरोप लगाओ पार्टी के मुखिया श्री श्री 420 - 840 विश्व ईमानदार संगठन के प्रमुख अरविन्द केजरीवाल जी आप पार्टी को सफलता के गर्त तक ले जाने का माद्दा रखते हैं वो कानून से उपर हैं उन्हे चुनाओ आचार संहिता से कोई मतलब नही है वो अगर कानून के खिलफ् कुछ भी करते हैं तो उन्हे करने देना चाहिये नही तो वो किसी पर भी आम आदमी के बिरोधी होने का आरोप लगा सकते हैं

पीएम बनने की चाहत में नीतीश ने, बीजेपी की पीठ में छुरा घोंपा - नरेंद्र मोदी



लोकसभा चुनाव 2014 खबरें

हुंकार रैली में बोले मोदी,
पीएम बनने की चाहत में नीतीश ने घोंपा  बी जे पी की पीठ में छुरा

- आज तक वेब ब्‍यूरो [Edited By: रंजीत सिंह] | पूर्णिया (बिहार), 10 मार्च 2014

बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने बिहार के पूर्णिया में हुंकार रैली को संबोधित करते हुए अपने राजनीतिक विरोधियों पर जमकर जुबानी हमले किए. मोदी ने कहा कि इस समय गठबंधन, भ्रष्‍टबंधन और लठबंधन का दौर चल रहा है. राजद मुखिया लालू प्रसाद पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा, 'बिहार की गाय-भैंसे डर गई हैं कि कहीं इनका (कांग्रेस-राजद) गठबंधन फिर से हमें बिना चारे के तो नहीं रख देगा.
मोदी ने नीतीश का नाम लिए बिना उनपर हमला बोला. सवाल किया, 'बिहार में एनडीए का गठबंधन क्‍यों तोड़ा गया? किसी ने कहा उनकी आदत है पीठ में छुरा घोंपने की. ऐसे कारनामों से जयप्रकाश नारायण, राममनोहर लोहिया को कितनी पीड़ा हुई होगी? चार दिन पहले पता चला गया कि गठबंधन क्‍यों टूटा. पीएम का सपना उन्‍हें सोने नहीं देता था. उनके ख्‍वाब एवरेस्‍ट से भी ऊंचे हैं. कहते हैं कि उनके बिना इस देश में कोई पीएम का योग्‍य उम्‍मीदवार नहीं है.'

बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा देने का वादा करते हुए मोदी ने कहा, 'बाढ़ आपदा के दौरान बिहार की सरकार ने गुजरात सरकार का ऑफर ठुकरा दिया था. इनका अहंकार एवरेस्‍ट से भी ऊंचा है. ऐसे अहंकारी नेताओं को घोषणा करनी होगी तो जब दिल्‍ली में एनडीए की सरकार बनेगी और दिल्‍ली की सरकार बिहार के विकास के लिए कोई योजना बनाती है तो ये नेता ये तो नहीं कहेंगे कि यह मोदी की सरकार की योजना है, इसे हम लागू नहीं करेंगे. बिहार के नागरिकों के हक तो नहीं ठुकराएंगे. और गुजरात का पैसा ठुकरा कर जो पाप किया था, उसके लिए माफी मांगें.'

पूर्व पीएम की टोली है थर्ड फ्रंट
मोदी ने थर्ड फ्रंट पर हमला बोलते हुए इसे पूर्व प्रधानमंत्रियों की टोली करार दिया. उन्‍होंने कहा कि इस फ्रंट में एक दर्जन से ज्‍यादा लोग ऐसे हैं जो पीएम के लिए कपड़े बनवाकर बैठे हैं. उन्‍होंने सवाल किया कि जब गुजरात में प्राकृतिक आपदा आई थी तब यह फ्रंट कहां था. जब असम में दंगे हुए तब थर्ड फ्रंट कहा था. जब सेना के जवानों के सिर काट लिए गए, तब यह थर्ड फ्रंट कहा था. यूपी में साल भर में 150 दंगे हुए, तब यह थर्ड फ्रंट कहां था. जब चुनाव का बिगुल बजता है तभी इनकी नींद टूटती है और फिर सो जाते हैं.'

मोदी ने केंद्र में कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश के लोगों को दिल्‍ली में मरी हुई सरकार, बाहरी ऑक्सीजन से चलने वाली सरकार से मुक्ति चाहिए. उन्‍होंने कहा, 'पहले बिहार में जंगलराज था, आज देशभर में जंगलराज है. वोट बैंक में डूबे हुए राजनेताओं की जमात आने वाली पीढियों को भी तबाह करने का पाप कर रही है. बिहार के लोग इस जंगलराज से मुक्ति का रास्‍ता दिखा सकते हैं.'

राहुल को फिर कहा 'शाहजादा'
कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए मोदी ने उन्‍हें एक बार 'शाहजादा' कहकर संबोधित किया. उन्‍होंने राहुल का नाम लिए बिना कहा, 'इनका अहंकार सातवें आसमान पर है. ऐसे बात करते हैं जैसे मंगल ग्रह से आए हैं. ये कांग्रेस के शहजादे पहले घोषित करें कि दिल्‍ली में आपकी सरकार है या नहीं. यह क्‍या बात हुई कि तालाब से निकलें और शरीर पर पानी की एक बूंद न हो.'

मोदी का राहुल पर निशाना जारी रहा. उन्‍होंने कहा, 'शाहजादे महंगाई, भ्रष्‍टाचार और बेरोजगारी पर जवाब नहीं देते. वो दावा करते हैं कि देश के लोगों को मोबाइल फोन उनकी सरकार ने दिए, लेकिन मैं पूछता हूं कि इस मोबाइल फोन को चार्ज करने के लिए बिजली कहां हैं?' मोदी ने केंद्रीय दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्‍बल को भी नहीं छोड़ा. उन्‍होंने सिब्‍बल का नाम लिए बिना कहा, 'केंद्र के मंत्री ने आकाश टैबलेट लाने का ऐलान किया था. मैं पूछना चाहता हूं कि यह आकाश में से धरती पर कब आएगा? उस पर खर्च किए गए रुपये कहां गए? देश जानना चाहता है.'
सेक्‍युलरिज्‍म पर भी बोले
मोदी ने रैली में भाषण के दौरान गुजरात में बीजेपी सरकार के विकास के आंकड़े पेश किए. उन्‍होंने दावा किया कि गुजरात में असम, हरियाणा जैसे कांग्रेस शासित राज्‍यों की तुलना में कई गुना ज्‍यादा विकास हुआ है. उन्‍होंने कहा कि बिहार में प्रतिभाशाली युवकों की कमी नहीं है लेकिन यहां की सरकार इनकी भलाई के लिए कोई काम नहीं करती. मोदी ने विपक्षी पार्टियों पर हमला बोलते हुए कहा कि वो‍ट बैंक की राजनीति के लिए मुसलमानों को ठगा गया है. उन्‍होंने कहा, 'गुजरात का सेक्‍युलरिज्‍म सच्‍चा सेक्‍युलरिज्‍म है जो सबका विकास करता है. हमारा विकास का मंत्र है विविधता में एकता. हम विविधता का सम्‍मान करने वाले लोग हैं.'

अपने भाषण की शुरुआत में मोदी ने स्‍थानीय बोली (मैथिली) के चंद वाक्‍यों से लोगों को लुभाने की कोशिश की. होली का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि होली का त्‍योहार आने वाला है. पूरे देश में होली की तरफ बीजेपी का भी रंग चढ़ा हुआ है. मोदी ने उम्‍मीद जताई कि बीजेपी में देश में विकास, प्रगति, आत्‍मीयता, सद्भावना और भाईचारे का रंग बिखरेगी. मोदी ने भाषण की शुरुआत में मशहूर साहित्‍यकार फणीश्‍वर नाथ रेणु को भी याद किया. मोदी ने भाषण का समापन करते हुए भी लोगों को होली की शुभकामनाएं दी.

बिहार से लोकसभा चुनाव लड़ने का ऑफर
मोदी के साथ मंच पर बिहार के पूर्व डिप्‍टी सीएम सुशील कुमार मोदी, बीजेपी के स्‍थानीय सांसद उदय सिंह, बीजेपी नेता राजीव प्रताप रूडी, लोजपा नेता रामचंद्र पासवान, बिहार बीजेपी के अध्‍यक्ष मंगल पांडे के अलावा पार्टी के नंद किशोर यादव, सी पी ठाकुर, अश्विनी चौबे, शाहनवाज हुसैन, कीर्ति झा आजाद, रामेश्‍वर चौरसिया और गिरिराज सिंह भी मौजूद रहे. सुशील मोदी ने कहा कि अगर नरेंद्र मोदी बिहार के किसी सीट से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहें तो उनका स्‍वागत है. रामचंद्र पासवान ने मोदी को 'भावी पीएम' तक करार दिया.

बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी से गठजोड़ होने के बाद राज्‍य से बीजेपी की उम्‍मीदें बढ़ गई हैं. मोदी की पूर्णिया रैली का मकसद पूर्वी बिहार के बड़े हिस्से में पार्टी को मजबूती प्रदान करना और बिहार सीमा से सटे पश्चिम बंगाल के वोटरों को रिझाना है.

बिहार में मोदी की पहली रैली पिछले साल अक्‍टूबर में पटना में हुई थी. पटना रैली में बम धमाकों के बाद लंबे समय के लिए मोदी का 'बिहार अभियान' रुक गया था. लेकिन हाल में मुजफ्फरपुर में हुंकार रैली के साथ मोदी ने न सिर्फ नए साथियों के साथ 'मिशन बिहार' का दूसरा चरण शुरू किया, बल्कि अब इसे तेज भी कर दिया है.

'हिदी हार्टलैंड में मोदी के सामने सभी बौने'



-----------------------------
मोदीजी की सरल कथा............जहाँ तक मैने इनके पारिवारिक जीवन के बारे में सुना है मोदीजी के भाई सरकारी नौकर होकर लोग बताते है कि उनके सहकर्मियों के साथ बड़े ही साधारण तरीके से पहले की तरह ही रहते है उनके व्यवहार से किसी को भी कभी नहीं लगाकि वे मुख्यमंत्री के भाई है..........और अब भी बस से ऑफीस जाते हैं, और उनकी मां आज भी उसी छोटे से घर मे रहती हैं....... "सादगी और आदर्शवाद" इस फैमिली का सिदांत हैं और रही बात मोदी की तो मोदीजी वाकई ईमानदार सख्सियत के व्यक्‍ति हैं........... निडर हैं और इन सबसे बडकर वो सच्चे देश भक्त हैं...............इस कहानी को पड़कर भारत का प्रत्येक नागरिक यही कहेगा ...............मेरे देश का प्रधानमंत्री मोदी ही हो.............जय हिन्द जय भारत.
--------------
'हिदी हार्टलैंड में मोदी के सामने सभी बौने'

टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Mar 10, 2014,
नई दिल्ली
16वीं लोकसभा का चुनाव कई मायनों में पहले के चुनावों से अलग हो सकता है। इस बार सामाजिक ताना-बाना बदलने वाला है। बीजेपी इस चुनाव में ओबीसी से लेकर दलितों तक के वोट में सेंध लगा सकती है। दूसरी तरफ, हिंदी हार्टलैंड में बीजेपी के सामने सभी पार्टियां बौनी साबित हो सकती हैं। पेन्सिलवेनिया यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर द अडवांस स्टडी ऑफ इंडिया (सीएएसआई) के साथ लोक फाउंडेशन द्वारा पूरे देश में किए गए सर्वे के नतीजों से इस बात की जानकारी सामने आई है। पिछले साल सितंबर से दिसंबर के बीच लोक फाउंडेशन की ओर से सीएमआईई ने देश के 24 राज्यों के साथ केंद्र शासित प्रदेशों में रैंडमली 68,500 लोगों का फेस टु फेस इंटरव्यू किया।

सर्वे के मुताबिक, 2014 की शुरुआत में ऑल इंडिया लेवल पर एनडीए 31 पर्सेंट वोट पर कब्जा करने की स्थिति में है। यह 2009 के इलेक्शन में एनडीए के परफॉर्मेंस के मुकबाले काफी बेहतर स्थिति है। 2009 में एनडीए का वोट शेयर महज 21.5% था। 1996 में बीजेपी का वोट शेयर 25.6% था। कांग्रेस के नेतृत्व वाला यूपीए गठबंधन का वोट शेयर इस बार महज 23% तक सिमट सकता है, जबकि 2009 में यूपीए का वोट शेयर 31.5% था। इस सर्वे के साथ ही पहले भी जितने सर्वे आए हैं उनमें एनडीए को शानदार बढ़त मिली है।

इस सर्वे के मुताबिक, एनडीए का देश के पश्चिम और उत्तर में परचम लहराएगा। बिहार में बीजेपी का वोट शेयर 23 पर्सेंट तक पहुंच जाएगा। यूपी में तो बीजेपी को शानदार बढ़त मिलने वाली है। सर्वे के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में बीजेपी का वोट शेयर 29 पर्सेंट की ऊंचाई तक जाएगा। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी से उत्तर प्रदेश में बीजेपी का वोट शेयर 5 से 9 पर्सेंट तक ज्यादा होगा। उत्तर और पश्चिम भारत के उन क्षेत्रों में भी बीजेपी प्रभावी प्रदर्शन कर सकती है, जहां उसका आधार कमजोर रहा है। मुमकिन है कि बिना चुनाव पूर्व अलायंस के बीजेपी के वोट शेयर में बढ़ोतरी ज्यादा सीटों में तब्दील न हो पाए।
बीजेपी ने मोदी को आगे कर चुनाव में रणनीतिक दांव खेला है। इस सर्वे से भी साफ है कि बीजेपी ने मोदी को आगे कर देश में 3 अहम जनसांख्यिकीय पॉइंट्स को बड़े चालाकी से अपनी तरफ आकर्षित किया है। पहला यूथ, दूसरा शहरी आबादी और तीसरा ओबीसी तबका जिससे मोदी ताल्लुक रखते हैं। सर्वे के डेटा से साफ है कि मोदी न सिर्फ इन तबकों को लामबंद कर रहे हैं बल्कि उससे आगे भी जाने में कामयाब हो रहे हैं। आज की तारीख में एनडीए शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक में यूपीए से मजबूत स्थिति में है। एनडीए ग्रामीण से लेकर शहरी इलाकों के साक्षर वोटर्स में लीड कर रहा है। वहीं निरक्षर वोटर्स में दोनों के बीच कड़ी टक्कर है। 18 से 34 साल को वोटर्स के बीच एनडीए काफी लोकप्रिय है, वहीं यूपीए की स्थिति बुजुर्ग वोटर्स के बीच ठीक है। हिंदी हार्टलैंड में बीजेपी का शानदार परफॉर्मेंस रहने का उम्मीद है।

सत्यमेव जयते से पैसे इकट्ठा करके आमिर बनवा रहे हैं मस्जिद, क्या है सच !


कोई भी संस्था जनता के संवैधानिक अधिकारों को कम नहीं कर सकती , आमिर खान को बताना चाहिए कि वे इस कार्यक्रम से जो कमाते हें उसे लगते कहाँ हैं ! पारदर्शिता के लिए उन्हें  ऑन लाईन जबाव देना चाहिए ! पुलिस को अभिव्यक्ती की स्व्तंत्रता  रोकने का अधिकार नहीं है ! 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सत्यमेव जयते से पैसे इकट्ठा करके आमिर बनवा रहे हैं मस्जिद, क्या है सच !


आमिर खान के हिट रियैलिटी शो सत्यमेव जयते ने आमिर के साथ ही उनकी पूरी टीम को मुसीबत में डाल दिया है। लोगों का कहना है कि आमिर खान इस शो के जरिये पैसे इकट्ठा करके एक ऐसे निकाय को दे रहे हैं जो कि मस्जिद बनवाने के कार्य में सहायता करती है और साथ ही मुस्लिम युवाओं को नौकरी दिलवाने का काम भी करती है। जबकि आमिर खान का कहना है कि ये सब झूठ है। आमिर खान ने कहा कि ये गलत है और वो ऐसा कुछ भी नहीं कर रहे हैं। बल्कि वो तो एक ट्रस्ट के जरिये अस्पताल को दान कर रहे हैं। ताकि गरीबों का इलाज हो सके और उन्हें मुफ्त में दवाएं वगैरह उपलब्ध कराई जा सकें।

सत्यमेव जयते का पिछला सीजन 2012 में टेलीकास्ट हुआ था और काफी सफल रहा था। उसके बाद से लोग इसके दूसरे सीजन का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। 2 मार्च से आमिर ने सत्यमेवज जयते 2 का प्रसारण शुरु किया और पहले ही एपिसोड में आमिर खान ने समाज में लगातार बढ़ रही बालात्कार की घटनाओं को लेकर चर्चा की। अपने हर एक एपिसोड के अंत में आमिर खान दर्शकों को एक ट्रस्ट से जुड़ने और उसके लिए चंदा देने की गुजारिश करते हैं। कुछ लोगों ने इसी बात को लेकर सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर एक अभियान सा चलाते हुए कहा है कि ये ट्रस्ट मुस्लिम लोगों की मदद करता है। यानी कि आमिर खान अप्रत्यक्ष तौर पर मजहबी मदद कर रहे हैं। आमिर ही नहीं सलमान और शाहरुख भी हुए हैं इस तरह के आरोपों के शिकार! ज्ञात हो कि ये आरोप सत्यमेव जयते के पहले भाग से ही आमिर पर लगना शुरु हुआ था। उस वक्त आमिर खान ने इसके खिलाफ आवाज नहीं उठाई थी लेकिन इस बार आमिर खान ने तय किया है कि वो इस आरोप को लेकर अपना मत भी लोगों के सामने रखेंगे। वो नहीं चाहते कि उनकी इमेज पर किसी तरह का खतरा उत्पन्न हो। साथ ही अगर इस अभियान ने और जोर पकड़ा तो आमिर की सुरक्षा भी खतरे में पड़ सकती है। इसलिए आमिर खान ने पुलिस में जाकर शिकायत दर्ज कराना ही बेहतर समझा। आमिर खान के फैंस और उनके शो को चाहने वाले लगातार सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिये इस शो को सपोर्ट कर रहे हैं और उनका मानना है कि आमिर खान हमारे समाज को सुधारने और कुछ बदलाव लाने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन कुछ लोग नहीं चाहते कि हमारा समाज बदले इसलिए बेवजह ही वो आमिर और उनके शो के खिलाफ अभियान चला रहे हैं।

-------------

आमिर खान ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई
Mar 9 2014 12:00AM

मुम्बई: बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान ने मुम्बई पुलिस से शिकायत की है कि उनकी छवि और मुद्दा आधारित उनके शो की छवि बिगाड़ने के लिए सोशल मीडिया पर अभियान चलाया गया है. उनकी शिकायत पर प्राथमिक जांच शुरु की गयी है.पुलिस सूत्रों ने आज यहां कहा कि 48 वर्षीय अभिनेता कल मुम्बई पुलिस मुख्यालय में सदानंद दाते से मिले और उन्हें उनकी तथा उनके कार्यक्रम ‘सत्यमेव जयते’ की छवि खराब करने के लिए फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सअप पर चलाए जा रहे झूठे और दुर्भावनापूर्ण अभियान के बारे में बताया. दाते ने कहा, ‘‘आमिर खान ने हमसे अपने खिलाफ चल रहे कुछ आपत्तिजनक संदेशों के बारे में शिकायत की है. प्राथमिक जांच चल रही है. आमिर कल हमसे और विवरण साझा कर सकते हैं. ’’    इसी बीच अभिनेता ने फेसबुक से उनकी चिंताओं पर ध्यान देने को कहा है.

उन्होंने कहा, ‘‘व्हाट्सअप, फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया नेटवर्कों समेत इलेक्ट्रोनिक मीडिया के माध्यम से झूठे और दुर्भावनापूर्ण संदेश चलाए जा रहे हैं.  उनमें आरोप लगाया गया है कि मेरे टेलीविजन कार्यक्रम ‘सत्यमेव जयते सीजन टू’ में एक निकाय के संबंध में दान मांगे जा रहे है. यह निकाय मस्जिद निर्माण सहायता और इस्लामिक युवाओं को प्लेसमेंट में सहायता के लिए काम करने का दावा करता है.’’      

अभिनेता ने कहा कि ‘सत्यमेव जयते’ सीजन वन पश्चिम बंगाल के हंसपुकार के ह्यूमनिटी ट्रस्ट से जुड़ा था. यह डॉ. अजय मिस्त्री और उनकी मां सुभाषिनी मिस्त्री द्वारा चलाय जाने वाला अस्पताल है, न कि वह जिसका सोशल मीडिया पर जिक्र है.  अभिनेता ने स्पष्ट किया, ‘‘सत्यमेव जयते में मांगे जाने वाला सभी दान पूरी तरह धर्मनिरपेक्ष उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है. ’’