गुरुवार, 8 मई 2014

मनमोहन सिंह : अपना सामान पैक कर रहे हैं !




अपना सामान पैक कर रहे हैं मनमोहन सिंह
By  एजेंसी, गुरुवार, ०८ मई २०१४

नई दिल्ली. इन दिनों देश के प्रधानमंत्री के सरकारी आवास 7 रेस कोर्स में काफी हलचल है. यह हलचल न तो चल रहे आम चुनाव को लेकर है और न ही उसके आसन्न परिणाम को लेकर. यहां अलग तरह की व्यस्तता है. पीएमओ के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पद छोड़ने के लिए आठ दिन शेष रह जाने को देखते हुए हम पैकिंग में व्यस्त हैं.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस वर्ष के शुरू में ही कह दिया था कि यदि इस बार भी संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) को सरकार बनाने का ही मौका मिलता है तब भी वे अगली सरकार का नेतृत्व नहीं करेंगे और किसी नए व्यक्ति को बागडोर सौंपना चाहेंगे.

किताबें, उपहार एवं अन्य सामान को सावधानी पूर्वक छांटा जा रहा है, सूची बनाई जा रही है और उसे पैक किया जा रहा है. पीएमओ के एक अधिकारी ने अपना नाम जाहिर नहीं होने देने की शर्त पर बताया, "प्रधानमंत्री चाहते हैं कि जब वे पद छोड़ें तो उनके उत्तराधिकारी को सभी चीजें सुव्यवस्थित मिले."

एक दशक तक प्रधानमंत्री का आवास रह चुके 7 रेस कोर्स में परिवार के सदस्य सामान की पैकिंग में व्यस्त हैं ताकि उन्हें सेवानिवृत्ति के बाद मिल रहे आवास 3 मोतीलाल नेहरू मार्ग पहुंचाया जा सके. यह आवास कभी दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को आवंटित था.

प्रधानमंत्री या पीएमओ के सदस्यों को उपहार में मिली पेंटिंग सहित अन्य कलाकृतियों या किताबों की सूची बनाई जा रही है और हटाया जा रहा है. विदेशी हस्तियों से प्रधानमंत्री को मिले उपहारों की सूची तैयार की जा रही है और उन्हें 'तोशखाना' या खजाने में रखा जाएगा.

सामान की सूची विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध होगी.

सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे : नरेन्द्र मोदी



सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे: नरेन्द्र  मोदी

भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के कैंडिडेट सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे: मोदी

भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के कैंडिडेट नरेन्द्र  मोदी ने वाराणसी में अपनी रैली को चुनाव आयोग की ओर से मंजूरी न मिलने पर आयोग पर जमकर भड़ास निकाली. उन्‍होंने कहा कि चुनाव आयोग अब पक्षपात पर उतर आया है.
मोदी ने अपने पूर्वांचल मिशन के तहत गुरुवार को आजमगढ़ में आयोजित एक रैली में कहा कि चुनाव आयोग बीजेपी के साथ पक्षपात कर रहा है. उन्‍होंने कहा कि चुनाव आयोग पिछले तीन चरणों में बेहतर तरीके से चुनाव कराने में पूरी तरह विफल रहा है और इधर उधर की बातें करके वह टाइम बर्बाद कर रहा है.

मोदी ने कहा कि यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल में चुनाव में गड़बड़ियों की खबरें मिली हैं. मोदी ने कहा कि जब किसान मंडी में जाता है तो सरकार का कोई बाबू किसान का माल खरीदने नहीं आता है. यदि हमें देश का भला करना है तो किसानों का भला करना पड़ेगा. मोदी ने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं. इन तीनों में कोई अंतर नहीं है.

उन्‍होंने कांग्रेस सरकार पर बरसते हुए कहा कि पिछले दस साल में किसी का कोई भला नहीं हुआ है. दिल्ली में रिमोट कंट्रोल से चलने वाली सरकार नहीं चाहिए, वहां तो एक मजबूत सरकार चाहिए. लोकसभा चुनाव 125 करोड़ लोगों के लिए एक नई आशा लेकर आया है. ये सभी के लिए एक नई उम्‍मीद है, इनके भविष्‍य की और इनकी सुरक्षा की. मोदी ने वाराणसी में अपनी रैली को चुनाव आयोग की ओर से मंजूरी न मिलने पर आयोग पर जमकर भड़ास निकाली. उन्‍होंने कहा कि चुनाव आयोग अब पक्षपात पर उतर आया है.
मोदी ने अपने पूर्वांचल मिशन के तहत गुरुवार को आजमगढ़ में आयोजित एक रैली में कहा कि चुनाव आयोग बीजेपी के साथ पक्षपात कर रहा है. उन्‍होंने कहा कि चुनाव आयोग पिछले तीन चरणों में बेहतर तरीके से चुनाव कराने में पूरी तरह विफल रहा है और इधर उधर की बातें करके वह टाइम बर्बाद कर रहा है.

मोदी ने कहा कि यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल में चुनाव में गड़बड़ियों की खबरें मिली हैं. मोदी ने कहा कि जब किसान मंडी में जाता है तो सरकार का कोई बाबू किसान का माल खरीदने नहीं आता है. यदि हमें देश का भला करना है तो किसानों का भला करना पड़ेगा. मोदी ने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं. इन तीनों में कोई अंतर नहीं है.

उन्‍होंने कांग्रेस सरकार पर बरसते हुए कहा कि पिछले दस साल में किसी का कोई भला नहीं हुआ है. दिल्ली में रिमोट कंट्रोल से चलने वाली सरकार नहीं चाहिए, वहां तो एक मजबूत सरकार चाहिए. लोकसभा चुनाव 125 करोड़ लोगों के लिए एक नई आशा लेकर आया है. ये सभी के लिए एक नई उम्‍मीद है, इनके भविष्‍य की और इनकी सुरक्षा की.