सोमवार, 12 मई 2014

चाणक्य सर्वे के अनुसार, भाजपा प्लस 340 सीटें लेकर जबरदस्त बड़त की ओर



चाणक्य सर्वे के अनुसार , भाजपा प्लस 340 सीटें लेकर जबरदस्त बड़त की ओर ,
और यूपीए 70 पर सिमट रही है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/lok-sabha-2014/exit-poll-2014-nda-likely-to-get-majority-in-ls-poll/election2014articleshow/35028882.cms

एग्जिट पोल 2014: अबकी बार मोदी सरकार
12 May 2014 नई दिल्ली

16वीं लोकसभा के लिए अंतिम चरण की वोटिंग समाप्त होते ही न्यूज चैनलों के जरिए सामने आए एग्जिट पोल सर्वेक्षणों में यूपीए सरकार के 10 साल के शासन की विदाई धुन बजती नजर आई। सर्वे में यूपीए के खिलाफ ऐंटि इनकंबेंसी मूड और मोदी लहर ने कांग्रेस को दहाई में समेट दिया। अगर 16 मई को आने वाले नतीजे इसी लाइन पर आए तो आजादी के बाद यह कांग्रेस की सबसे करारी और ऐतिहासिक हार होगी और केंद्र में अगली सरकार नरेंद्र मोदी की अगुवाई में एनडीए की बन जाएगी।

वोटिंग से पहले ओपिनियन पोल भी एनडीए को सबसे आगे बता रहे थे, लेकिन सिर्फ एक सर्वे ने उसे बहुमत दिया था। ताजा एग्जिट पोल में ज्यादातर इस बात पर एकमत हैं कि एनडीए अपने बूते बहुमत पा लेगा। हालांकि इससे पहले 2004 और 2009 के लोकसभा चुनावों में भी ज्यादातर सर्वे बीजेपी की ताकत को ज्यादा आंक रहे थे, लेकिन इस बार नतीजे एग्जिट पोल के मुताबिक हुए तो यह बीजेपी की अब तक की सबसे बड़ी जीत हो सकती है। खास तौर से दिल्ली, यूपी और बिहार जैसे राज्यों में बीजेपी को भारी मात्रा में सीटें मिलने जा रही हैं। मध्य प्रदेश और गुजरात में भी मोदी का जादू जमकर चलेगा।

टाइम्स नाउ+ORG के एग्जिट पोल में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को 249 सीटें मिलनी की संभावना जताई गई है। इसमें कांग्रेस को 148 सीटें और अन्य को 146 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है। इंडिया टुडे+CICERO के एग्जिट पोल में एनडीए को बहुमत मिलता बताया गया है। इसके मुताबिक एनडीए को 261 से 283 सीटें मिलती दिख रही हैं। कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए का बुरा हाल दिख रहा है। यूपीए को 110-120 सीटें मिल सकती हैं। 150 से 162 सीटें अन्य के खातों में जा सकती है।

इंडिया टीवी+सी वोटर के एग्जिट पोल में एनडीए को 289 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। यूपीए मुश्किल से 100 के पार जाता दिखाई दे रहा है। अन्य के खाते में 153 सीटें जा सकती हैं।

न्यूज़ चैनल              बीजेपी+ (NDA)       कांग्रेस+ (UPA)     अन्य
टाइम्स नाउ+ORG                249                         148                     146

इंडिया टुडे+CICERO        261-283                 110-120             150-162

एबीपी न्यूज+नीलसन           281                         97                     165

सीएनएन-आईबीएन+CSDS 270-282                92-102             159-181

इंडिया टीवी+CVoter          289                         101                     153

न्यूज 24+ टुडेज चाणक्य 340 ± 14                70 ± 9             133 ± 11

उत्तर प्रदेश का एग्जिट पोल
कहा जाता है कि केंद्र की सत्ता तक जाने वाला रास्ता यूपी होकर ही गुजरता है। यही वजह है कि बीजीपे के पीएम कैंडिडेट नरेंद्र मोदी गुजरात के अलावा यूपी से भी चुनाव लड़े, जिसका असर एग्जिट पोल सर्वेक्षण के नतीजों पर दिख भी रहा है। एबीपी न्यूज+ नील्सन के एग्जिट पोल में बीजेपी को यूपी में बंपर सीटें मिलती दिख रही हैं। इसके मुताबिक प्रदेश में बीजेपी को 46, कांग्रेस और आरएलडी को 8, बीएसपी को 13 और एसपी को 12 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। एक सीट अन्य के खाते में जाता बताया गया है।

सीएनएन-आईबीएन और सीएसडीएस के एग्जिट पोल के मुताबिक, यूपी में बीजेपी को 45-53 सीटें, कांग्रेस को 03-05 सीटें, एसपी को 13-17 सीटें और बीएसपी को 10-14 सीटें मिलती बताई गई हैं।

इंडिया टीवी+सी वोटर के एग्जिट पोल में बीजेपी को 54 सीटें। समाजवादी पार्टी को 11 सीटें। कांग्रेस को 6 सीटें। बीएसपी को 8 सीटें और अजित सिंह के आरएलडी को 1 सीट पर जीत मिलने की बात कही गई है।


बिहार का एग्जिट पोल
इस बार चुनाव में बिहार अहम था। जेडी (यू) और बीजेपी के अलग होने के बाद दोनों पार्टियां अपनी अहमियत साबित करने के लिए पूरा जोर लगा दी थीं। एबीपी न्यूज के एग्जिट पोल में बीजेपी को 19 सीटें और उसकी सहयोगी पार्टी एलजेपी को 2 साटें मिलने की संभावना जताई गई है। आरजेडी को 10 सीटें और उसकी सहयोगी पार्टी कांग्रेस को 4 सीटें मिलती बताई गई हैं। 5 सीटें जेडी(यू) के खाते में बताई जा रही हैं।

दूसरी तरफ, टाइम्स नाउ+ओआरजी के एग्जिट पोल में बीजेपी को 28 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। कांग्रेस और आरजेडी को 1-1 सीटें मिलने की संभवाना जताई गई हैं। इस एग्जिट पोल के मुताबिक बिहार की सत्ताधारी पार्टी जेडी (यू) को 10 सीटें मिल सकती हैं। सीएनएन-आईबीएन-सीएसडीएस के एग्जिट पोल के मुताबिक, बिहार में बीजेपी गठबंधन को 21-27 सीटें, कांग्रेस-आरजेडी गठबंधन को 11-15 सीटें और जेडी (यू) को 2-4 सीटें मिलने का अनुमान है।


इंडिया टीवी+सी वोटर के एग्जिट पोल में बिहार में बीजेपी को 24 सीटें। बीजेपी की सहयोगी एलजेपी और आरएलएसपी को 1-1 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। इसके मुताबिक, लालू यादव के आरजेडी को 9 सीटें और कांग्रेस को 1 सीट मिलने की उम्मीद है।

दिल्ली का एग्जिट पोल
एग्जिट पोल में दिल्ली में भी बीजेपी की बड़ी बढ़त मिलती दिख रही है। सीएनएन-आईबीएन-सीएसडीएस के एग्जिट पोल के मुताबिक, बीजेपी को 7 में से 5 सीटें मिल सकती हैं। अरविंद केजीरावाल के आम आदमी पार्टी को 2 सीटें मिल सकती हैं। इस एग्जिट पोल के मुताबिक, दिल्ली में कांग्रेस का खाता भी खुलता नहीं दिख रहा है।

इंडिया टीवी+सी वोटर के एग्जिट पोल में दिल्ली में बीजेपी क्लीन स्वीप करती दिख रही है। सातों सीटें बीजेपी को मिलने की संभावना जताई गई है। न्यूज24+टुडेज चाणक्य के एग्जिट पोल में भी दिल्ली में बीजेपी को सातों सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है।

बाबा निरंजननाथ : मां की मन्नत पूरी करने के लिए बने संन्यासी




मां की मन्नत पूरी करने के लिए बने संन्यासी,
हाईटेक हैं ये पोस्ट ग्रेजुएट बाबा

पंकज वैष्णव |    May 11, 2014,

जब जन्मे और शब्द तक नहीं थे, तब मां ही तो थी जो हमारी हर जरूरत समझती। प्यार ही उसकी बोली और भाषा थी, जिससे वह सब कुछ समझती-समझाती। वही पहली गुरु बनी और वही थी, जिसने हमें स्कूल-कॉलेजों के दूसरे गुरुजन से जोड़ा। कभी प्यार भरी थपकी तो कभी चिंता भरी फटकार। परीक्षा हमारी और रातों को जागने का इम्तिहान उसका। ऐसी ही तो है मां। बच्चों के साथ हरपल। आज (रविवार को) वल्र्ड मदर्स डे है। इस मौके पर दैनिक भास्कर लाया है उन लोगों की कहानी, जिनकी जिंदगी मां ने बदली है...

कोटा के धाकडख़ेड़ी में आश्रम चलाने वाले बाबा निरंजननाथ की कहानी
वह 6 साल का था कि मां चल बसी। उम्र 50 की हुई, तब पिता ने मां की कहानी सुनाई। उन्होंने कहा था कि तेरी मां ने पहले चार बेटे खोए थे। तुम्हारे बड़े भाई ईश्वर सिंह, तुम, वीरेंद्र और सुरेंद्र भी बीमार रहते थे। बेटों को जिंदा रखने की चाह में कई तीर्थ भटकी थी वह और कई देवरे धोगे। एक जगह मन्नत मांग ली। कहा- बड़े बेटे को जिंदा रखना, छोटे बेटों में से एक को संत बनाऊंगी। मां की इस मन्नत को दिलो-दिमाग में रखते हुए वह संन्यासी हो गया। यह कहानी है बाबा निरंजन नाथ की, जो कभी नरेंद्र कुमार मेघ के नाम से जाने जाते थे।

पिछले दिनों उदयपुर प्रवास के दौरान उन्होंने भास्कर से अपने जीवन की कहानी साझा की। कोटा में आश्रम चलाने वाले निरंजन नाथ 20 बच्चों को निशुल्क वेद शिक्षा दे रहे हैं। बाबा निरंजननाथ बताते हैं कि पिता ने 1999 में निधन से पहले कहा था कि दीक्षा ले लो, मां की मन्नत पूरी हो जाएगी। इस पर वे कोटा डैम वाले बाबा बालकनाथ के सानिध्य में 5 साल रहे। फिर 1 जून 2008 को नाथ संप्रदाय की कुंडल दीक्षा ली। यह इस मत की सबसे बड़ी दीक्षा है।

प्रचारक रहते गांव-गांव घूमे
नरेंद्र मेघ उदयपुर में संघ विभाग प्रचारक लक्ष्मण सिंह शेखावत, तत्कालीन जिला प्रचारक हस्तीमल के संपर्क में आए। इनके प्रभाव से 1973 को वल्लभनगर व मावली, 1974 को नाथद्वारा व कांकरोली नगर प्रचारक रहे। आपात काल में 18 दिसंबर 1973 को गिरफ्तार हुए। उदयपुर जेल में 15 महीने रहने के बाद 1975 में जिला प्रचारक रहे। मार्च 1977 तक मीसा में नजरबंद रहे और 1977 में जोधपुर व 1978 में श्रीगंगानगर के नगर प्रचारक बने। उन्हें 15 अगस्त 1983 को कोटा विभाग प्रचारक बनाया गया। 1991 में भारतीय किसान संघ का प्रदेश संघटन मंत्री, 1994 में अखिल भारतीय मंत्री बने। तब से लगातार 20 साल से आवरगढ़ पर महाराणा प्रताप के होली उत्सव में शामिल होते हैं।