गुरुवार, 10 जुलाई 2014

'नमामि गंगे' मिशन : मानो तो में गंगा माँ हूँ न मानो तो बहता पानी

भारतियों  की आस्था और पवित्रता की आदी - अनादी - अनंत प्रवाह
मानो तो में गंगा माँ हूँ न मानो तो बहता पानी






गंगा को निर्मल बनाने को चलेगा 'नमामि गंगे' मिशन
Thursday,Jul 10,2014
http://www.jagran.com

नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी वादे को पूरा करते हुए सरकार गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए 'नमामि गंगे' मिशन शुरू करेगी। मोदी सरकार ने आम बजट 2014-15 में इसके लिए भारी भरकम राशि (2,037 करोड़ रुपये) का प्रावधान किया है। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को मोदी सरकार का पहला आम बजट 2014-15 पेश करते हुए समन्वित गंगा संरक्षण मिशन 'नमामि गंगा' शुरू करने की घोषणा की।
जेटली ने कहा कि गंगा के संरक्षण और सुधार पर अब तक काफी धनराशि खर्च हो चुकी है लेकिन वांछित परिणाम नहीं निकले हैं। इसलिए 'नमामि गंगा' मिशन शुरू किया जाएगा। मिशन के लिए आवंटित धनराशि में 1500 करोड़ रुपये राष्ट्रीय स्वच्छ ऊर्जा फंड से आएंगे, जबकि 537 करोड़ रुपये मौजूदा राष्ट्रीय नदी संरक्षण योजना के तहत खर्च किए जाएंगे।
जेटली ने गंगा को निर्मल बनाने के लिए जरूरी धनराशि जुटाने के लिए एनआरआइ गंगा फंड बनाने का एलान भी किया। जेटली ने कहा कि अनिवासी भारतीयों ने देश में शिक्षा, स्वास्थ्य और संस्कृति के संरक्षण के लिए अहम योगदान किया है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए गंगा के लिए एनआरआइ फंड शुरू किया जाएगा। इस फंड में एकत्रित होने वाली धनराशि से गंगा को निर्मल बनाने की विशेष परियोजनाएं शुरू की जाएंगी।
उल्लेखनीय है कि मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था- न मुझे किसी ने भेजा है, न मैं आया हूं, मुझे तो मां गंगा ने बुलाया है। 16 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के एक दिन बाद वाराणसी में गंगा आरती के दौरान भी मोदी ने गंगा की मौजूदा स्थिति पर चिंता जताई थी। मोदी ने कहा था कि गंगा को निर्मल बनाने का काम उनके हाथों से ही होगा।
गंगा के संबंध में किए गए अपने वादे को पूरा करने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए मोदी सरकार गंगा के लिए अलग मंत्रालय का गठन पहले ही कर चुकी है। गंगा को अविरल और निर्मल बनाने की व्यापक योजना बनाने के लिए सरकार गंगा मंथन कार्यक्रम भी आयोजित कर चुकी है।

वि‍त्‍त मंत्री जेटली के पहले बजट की 6 बड़ी घोषणाएं




ये हैं जेटली के पहले बजट की 6 बड़ी घोषणाएं और उनके असर
POLICY TEAM|Jul 10, 2014
http://money.bhaskar.com/article

वि‍त्‍त मंत्री अरुण जेटली के अपने पहले बजट में  लोगों को वोट देने के लि‍ए धन्‍यवाद दि‍या है। आइए  खास बातों पर गौर करते हैं जि‍नका असर लोगों और उद्योग जगत पर दिख सकता है।

1. आयकर में मामूली रि‍यायत
इनकम टैक्स से छूट की सीमा दो लाख रुपए से बढ़ा कर 2.5 लाख रुपए की गई। इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80 सी के तहत छूट की सीमा 1.5 लाख रुपए की गई।

असर : इसकी वजह से लोग और अधिक बचत कर सकेंगे। इस सेक्शन के तहत ईएलएसएस, एनएससी, यूलिप, ईपीएफ, पीपीएफ, जीपीएफ, एनपीएस आदि में बचत को शामिल किया जाता है। इसका मतलब यह है कि लोग इन विकल्पों में अधिक बचत कर सकेंगे। पहले सेक्शन 80 सी के तहत छूट की सीमा एक लाख रुपए थी। इससे लोगों के हाथों में खर्च के लिए हर साल 50 हजार रुपए अधिक होंगे।

2. शहरों के वि‍कास पर घोषणाएं
सात शहरों में स्मार्ट इंडस्ट्रियल सिटी शहरी नवीनीकरण कार्यक्रम के तहत पीपीपी मॉडल के जरिए काम किया जाएगा।
पीपीपी मॉडल के जरिए कम से कम 500 आदर्श शहर बनाए जाएंगे।
टियर टू और थ्री सिटी में पीपीपी मॉडल से हवाई अड्डों का निर्माण होगा
असर
स्मार्ट औद्योगिक सिटी में वे सारी सुविधा मिलेंगी जो किसी भी उद्योग को जरूरत होती है। उद्योगों को काम करने में आसानी होगी और यह एक बेंचमार्क बनेगा। रोजगार सृजन करने में भी ये शहर योगदान करेंगे। यह घोषणा यह नहीं बताती कि यह लक्ष्य कैसे पूरा किया जाएगा।
शहरों के नि‍र्माण में पीपीपी मॉडल के साथ पिछला अनुभव कुछ खास बेहतर नहीं रहा है। ऐसे में इस घोषणा का क्रियान्वयन संदेह के घेरे में है।
मोदी सरकार छोटे और बड़े शहरों के बीच के अंतर को कम करने के‍ लिए पीपीपी मॉडल से टियर टू और थ्री सिटी में हवाई अड्डों का निर्माण करेगी। अभी यह कहना मुश्किल है कि यह मॉडल कितना सफल होगा है क्योंकि निवेशक छोटे शहरों में पैसा लगाने से कतराएंगे। यदि योजना सफल हुई तो इसका बड़ा असर देखने को मिलेगा।

3. खुलेंगे क्‍लस्‍टर
देश में 6 नए टैक्सटाइल क्लस्टर खुलेंगे

असर : देश में सर्वाधिक रोजगार देने वाली टैक्सटाइल इंडस्ट्री के लिए सरकार ने देश में 6 नए टैक्सटाइल क्लस्टर खोलने का निर्णय लिया है। ये क्लस्टर रायबरेली, सूरत, लखनऊ और तीन अन्य शहरों में स्थापित किए जाएंगे। इससे देश में टैक्सटाइल क्षेत्र में निवेश बढ़ेगा। फिलहाल देश में देश में कपड़े और वस्त्र उत्पादन का 80 फीसदी टैक्सटाइल क्लस्ट‍र के माध्यम से प्राप्त होता है।

4. बनेंगे सस्‍ते मकान
4000 करेाड़ रुपए कम कीमत के घरों के लिए आवंटित।

असर : एसोचैम की रिपोर्ट के अनुसार देश में करीब 2.5 लाख घरों की कमी है, जिसमें से 90 फीसदी घर कम कीमत आय वर्ग को चाहिए। ऐसे में 4000 करोड़ की रकम बहुत ही कम है। इस रकम से मोदी सरकार सभी को घर देने के सपने को पूरा नहीं कर सकती है।

5. एफडीआई के खोले दो क्षेत्र
डिफेंस में 49 प्रतिशत तक एफडीआई लाया जाएगा। बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश 26 फीसदी से बढ़ाकर 49 फीसदी हुआ।

असर : रक्षा क्षेत्र के लिए विदेशी निवेश खोला जाना बढ़ा फैसला है। इससे देश में ज्यादा विदेशी मुद्रा आ सकेगी। देश की रक्षा क्षेत्र के लिए आयात पर निर्भरता कम होगी। देश में रोजगार की संभावना बढ़ेगी। रक्षा क्षेत्र की कंपनियों के लिए अच्छी खबर। विदेशी मुद्रा आने से शेयर बाजार के लिए अच्छी खबर।
बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश की सीमा बढ़ने से विदेशी कंपनियां का रुझान देश में बढ़ सकेगा। इससे पहले 26 फीसदी से ज्यादा निवेश नहीं कर सकती थी कंपनियां। बीमा क्षेत्र में कंपटीशन बढ़ेगा जिससे ग्राहकों के लिए बेहतर प्रोडेक्ट बाजार में आ सकेंगे। बीमा क्षेत्र से जुड़ी कंपनियां जैसे रिलायंस कैपिटल, आदित्य बिरला नुवो, मैक्स इंडिया को फायदा होगा।

6. छोटे कारोबारि‍यों के लि‍ए कुछ खास
छोटे कारोबारि‍यों के 10 हजार करोड़ रुपए का फंड

असर : रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और युवा उद्यमि‍यों को कारोबार करने के लि‍ए प्रोत्‍साहन मि‍लेगा।

आचार्य रघुवीर : संस्कृति के उन्नायक



आचार्य रघुवीर : संस्कृति के उन्नायक

जन्म-30 दिसम्बर, 1902 ई., निधन- 14 मई, 1963 ई.

भारतीय संस्कृति, प्राचीन धरोहर तथा शब्द सम्पदा के उन्नयन के लिए जिन मनीषियों ने पूर्ण समर्पण भाव से कार्य किया उनमें आचार्य रघुवीर का नाम अग्रणी है।

आचार्य रघुवीर का जन्म 30 दिसम्बर, 1902 को पश्चिमी पंजाब के रावलपिण्डी नगर में एक प्रतिष्ठित अग्रवाल परिवार में हुआ था। उनके पिता लाला मुंशीराम एक आदर्श शिक्षक थे। उन्हीं के संस्कारों से प्रेरित श्री रघुवीर ने युवावस्था में ही हिन्दी, संस्कृत, अंग्रेजी तथा बंगला आदि का अध्ययन किया और अपना लक्ष्य भारतीय संस्कृति का प्रचार-प्रसार निर्धारित कर लिया था। पंजाब वि·श्वविद्यालय से पी.एच.डी. करने के बाद उन्होंने प्रचलित अंग्रेजी तथा उर्दू-फारसी के शब्दों की जगह हिन्दी शब्दों के निर्माण का संकल्प लिया।

स्वाधीनता प्राप्ति के बाद जब हिन्दी में पारिभाषिक शब्दों के निर्माण का प्रश्न आया तो आचार्य रघुवीर ने इस चुनौती को स्वीकार किया। उन्होंने कहा "हिन्दी का मूल संस्कृत में है और संस्कृत इतनी समृद्ध भाषा है कि उसकी धातुओं और उपसर्गों के सहयोग से अनन्त शब्दों का निर्माण हो सकता है।' आचार्य रघुवीर ने सन् 1955 में "ए काम्प्रहेसिव- इंगलिश-हिन्दी डिक्शनरी' का निर्माण किया। उन्होंने चार लाख शब्दों का निर्माण कर हिन्दी भाषा को समृद्ध किया। इससे संस्कृत और हिन्दी भाषा की क्षमता का पूरे संसार में दबदबा स्थापित हो सका। हिन्दी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाएं भी इस शब्दावली से समृद्ध हुईं।

आचार्य रघुवीर ने दिल्ली में "अन्तरराष्ट्रीय सांस्कृतिक अकादमी' की स्थापना की। भारतीय संस्कृति के स्रोतों का अन्वेषण करने के उद्देश्य से उन्होंने इण्डोनेशिया, बाली, सुमात्रा, जावा, लाओस, वियतनाम, चीन, जापान, मंगोलिया आदि देशों की सांस्कृतिक यात्रा कर ऐसी प्रचुर सामग्री प्राप्त की जिनसे यह सिद्ध किया जा सका कि भारतीय संस्कृति का वि·श्व-व्यापी प्रभाव रहा है। वे इन देशों से दुर्लभ ग्रंथ, प्राचीन मूर्तियां तथा दस्तावेज लाए। आज भी नई दिल्ली (हौज खास) स्थित "सरस्वती विहार' के संग्रहालय में यह दुर्लभ सामग्री संग्रहीत है।

आचार्य रघुवीर द्वारा जकार्ता तथा अन्य देशों से प्राप्त असंख्य ग्रंथ तथा जावा, सुमात्रा, इण्डोनेशिया आदि के नागरी लिपि के शिलालेखों के छायाचित्र धरोहर के रूप में विद्यमान हैं। आचार्य रघुवीर द्वारा स्थापित "सरस्वती विहार' के भवन का सन् 1956 में शिलान्यास करते हुए राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद ने कहा था "पूर्व की प्राचीन विचाराधारा तथा ज्ञान भण्डार की खोज कर आचार्य रघुवीर ने भारतीय संस्कृति की महान सेवा की है।'

उन्होंने संविधान सभा के सदस्य के रूप में हिन्दी को राष्ट्रभाषा का गौरव दिलाने के लिए सतत् प्रयास किया। उन्होंने कहा था, हिन्दी का प्रश्न राष्ट्रीयता का प्रश्न है, उसे राष्ट्रभाषा का पद देकर ही हमारा राष्ट्र प्रगति कर सकता है।

आचार्य रघुवीर सन् 1963 में भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोनीत किए गए थे, किन्तु इसी वर्ष 14 मई को एक सड़क दुर्घटना में उनका निधन हो गया। दशिवकुमार गोयल तलपट

तेल एवं प्राकृतिक गैस आयोग (ओ.एन.जी.सी.) ने अपने 15 बड़े क्षेत्रों का पता लगाया है जहां लगभग 80 प्रतिशत भण्डार हैं। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री ने मुम्बई (उत्तरी) उच्च क्षेत्र के पुनर्विकास के लिए जनवरी,2001 में 2900 करोड़ रुपए की योजना की शुरुआत भी की थी। इसके अलावा मुम्बई (दक्षिणी) उच्च क्षेत्र की पुनर्विकास योजना को भी अंतिम रूप दे दिया गया है, जिस पर लगभग 5,200 करोड़ रुपए निवेश के रूप में लगाने की योजना है।
--------------------
आचार्य रघुवीर (३०, दिसम्बर १९०२ - १४ मई, १९६३) महान भाषाविद, प्रख्यात विद्वान्‌ , राजनीतिक नेता तथा भारतीय धरोहर के मनीषी थे। आप महान्‌ कोशकार, शब्दशास्त्री तथा भारतीय संस्कृति के उन्नायक थे। एक ओर आपने कोशों की रचना कर राष्ट्रभाषा हिंदी का शब्दभांडार संपन्न किया, तो दूसरी ओर विश्व में विशेषतः एशिया में फैली हुई भारतीय संस्कृति की खोज कर उसका संग्रह एवं संरक्षण किया। राजनीतिक नेता के रूप में आपकी दूरदर्शिता, निर्भीकता और स्पष्टवादिता कभी विस्मृत नहीं की जा सकती।

वे भारतीय संविधान सभा के सदस्य थे। दो बार (१९५२ व १९५८) राज्य सभा के लिये चुने गये। नेहरू की आत्मघाती चीन-नीति से खिन्न होकर जन संघ के साथ चले गये। भारतीय संस्कृति को जगत्गुरू के पद पर आसीन करने के लिये उन्होने विश्व के अनेक देशों का भ्रमण किया तथा अनेक प्राचीन ग्रन्थों का एकत्रित किया। उन्होने ४ लाख शब्दों वाला अंग्रेजी-हिन्दी तकनीकी शब्दकोश के निर्माण का महान कार्य भी किया।

भारतीय साहित्य, संस्कृति और राजनीति के क्षेत्र में आपकी देन विशिष्ट एवं उल्लेख्य हैं। भारत के आर्थिक विकास के संबंध में भी आपने पुस्तकें लिखी हैं और उनमें यह मत प्रतिपादित किया है कि वस्तु को केंद्र मानकर कार्य आरंभ किया जाना चाहिए।

जीवन वृत्त
आचार्य रघुवीर का जन्म ३० दिसम्बर १९०२ को रावलपिण्डी (पश्चिमी पंजाब) में हुआ था। पंजाब विश्वविद्यालय, लाहौर से एमए करने के उपरान्त उन्होने लन्दन से पी-एचडी किया तथा हालैण्ड से डी लिट किया। सन्‌ १९३१ में आपने डच भाषा में उपनिवेशवाद के विरुद्ध क्रांतिसमर्थक ग्रंथ लिखा, जिससे हिंदेशिया के स्वतंत्रता आंदोलन को विशेष प्रेरणा एवं शक्ति मिली।

इसके बाद उनके आरम्भिक कार्य का केन्द्र लाहौर ही रहा जहाँ वे सनातन धर्म कालेज में संस्कृत विभाग के अध्यक्ष थे। वे अपने आप में एक संस्था थे। उन्होने सन १९३२ में लाहौर के निकट इछरा (Ichhra) में इन्टरनेशनल एकेडमी आफ इण्डियन कल्चर कीस्थापना कर भारतीय संस्कृति के अनुसंधान का कार्य आरंभ किया। इस कार्य के लिए आपने योरोप, सोवियत संघ, चीन तथा दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों की अनेक बार यात्राएँ कीं। इन यात्राओं में आपने भारतीय संस्कृति विषयक अपन विशेष दृष्टि तो रखी ही, साथ ही उन देशों की राजनीतिक विचारधारा तथा भारत पर पड़नेवाले संभावित प्रभावों को भी ध्यान में रखा। अपने तीन यूरोप प्रवासों के समय व उसके बाद वे वहाँ के अधिकांश भारतविदों के सम्पर्क में रहे। १९४६ में वे इसे नागपुर ले आये। फिर १९५६ में उनका यह सरस्वती विहार (International academy of Indian culture) दिल्ली आ गया।

उनके एक पुत्र (डा लोकेश चन्द्र) तथा दो पुत्रियाँ हैं। अपनी मृत्यु के पूर्व ही उन्होने अपने इस महान कार्य में अपने पुत्र, पुत्र-बधु, पुत्रियों एवं दामाद को लगा दिया था ।

मंगोलिया यात्रा
अपने जीवन के अन्तिम दशक में आचार्य रघुवीर मंगोलिया देश की यात्रा पर गए। उस समय उनके अनुसंधान का विषय था- मंगोलिया की भाषा, साहित्य, संस्कृति और धर्म। वह इतिहास जिसमें छठी शताब्दी के उन भारतीय आचार्यों का वर्णन है जो धर्म की ज्योति लिए मंगोल देश में गये, और 6000 संस्कृत ग्रन्थों का मंगोल भाषा में भाषान्तर किया, जिनके द्वारा निर्मित दास लाख मूर्तियां, सात सौ पचास विहारों में सुरक्षित थीं, जिनके द्वारा लिखी अथवा लिखवायी गयीं बत्तीस लाख पाण्डुलिपियां 1940 तक विहारों में सुरक्षित थीं, लाखों प्रभापट थे। आचार्य जी इन सब का अवलोकन करना चाहते थे। मंगोल भाषा में लिखा गया विक्रमादित्य, राजा भोज और कृष्ण की कथाएं वे अपने साथ लाए।

बीसवीं शताब्दी में भारत से मंगोलिया जाने वाले वे पहले आचार्य थे। 1956 में जब वे वहां गए तो वहां की जनता के लिए मानो एक युगप्रवर्तक घटना घटी हो। प्रधानमंत्री से लेकर विद्वान, पत्रकार, जनता-जनार्दन का अपार स्नेह उन्हें मिला। जिस-जिस तम्बू में वे गए, माताओं ने अपने बच्चों को उनकी गोद में बिठा दिया, सब उनका आशीर्वाद पाने को आतुर थे।

इस यात्रा से वे अपने साथ तीन लाख पृष्ठों के अणु चित्र लाये, पाण्डुलिपियां और प्रभापट लाये। पहली बार कोई भारतीय मंगोलिया से भारत-अनुप्राणित साहित्य और कला-निधियां लेकर आया था।

आचार्य जी स्वतंत्रता का उदय होते ही सर्वप्रथम अवसर की खोज में रहे कि भारत के सांस्कृतिक सखा देशों से पुन: सम्बंध स्थापित कर सकें। आचार्य जी का मंगोलों में जाना क्या था, वे तो आनन्द-विभोर हो उठे कि कई शदियों के उपरान्त भारत के आचार्य के चरण उनकी भूमि पावन कर रहे हैं।

जनवरी 1956 में आचार्य जी सोवियत संघ, साइबेरिया (शिबिर देश) और मंगोल गणराज्य की यात्रा पर गये तो वहां शरीर को जमा देने वाली ठण्ड थी। मास्को में चलने के लिए दो व्यक्तियों का सहारा लेना पड़ता था। गरम बनियान, ऊनी कमीज, कोट, ओवरकोट और उसके ऊपर रुई से भरा चमड़े का कोट पहन कर भी सदीÇ से शरीर की रक्षा नहीं हो पाती थी। वहां उन्होंने चंगेज खां के वंशज़ों के अति दिव्य मन्दिर देखे जो गणेशजी की मूर्तियों से सुशोभित थे। मन्दिरों में भिक्षु उपासना के साथ ढोल और अन्य वाद्य बजा रहे थे। मन्दिरों के बाहर लटकी छोटी-छोटी घÎण्टयां मधुर स्वर गुंजा रही थीं। मन्दिरों के भीतर बोधिवृक्ष को शिशु की भांति पाला-पोसा जाता था। अगुरु और चन्दन से बनी महाघण्टी थी, श्रीवत्स से अंकित वस्त्र से ढके पटल (मेज) थे, मन्दिर के बाहर पीले नेजाबुत्का फूल थे। नेजाबुत्का का अर्थ है: मुझे भूल न जाना। चारों ओर हिम का धवल साम्राज्य था।

यहां से आचार्य जी मंगोल भाषा में अनूदित अनेक ग्रन्थ लाये जिनमें कालिदास का मेघदूत, पाणिनि का व्याकरण, अमरकोश, दण्डी का काव्यादर्श आदि सम्मिलित हैं। इनमें से एक, "गिसन खां" अर्थात् राजाकृष्ण की कथाओं का उनकी सुपुत्री डा. सुषमा लोहिया ने अनुवाद किया है। वे भारतीयों को भारतीयता के गौरव की अनुभूति करवाना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने मंगोल-संस्कृत और संस्कृत-मंगोल कोश भी लिख डाले। उन्होंने मंगोल भाषा का व्याकरण भी लिखा ताकि भावी पीढ़ियां उसका अध्ययन कर सकें।

वहां "आलि-कालि-बीजहारम्" नामक, संस्कृत पढ़ाने की एक पुस्तक आचार्य जी को उपलब्ध हुई। इसमें लाञ्छा और वतुÇल दो लिपियों का प्रयोग किया गया है। भारत में ये लिपियां खो चुकी हैं। मंगोलिया में बौद्ध भिक्षु संस्कृत की धारणियों को लिखने और पढ़ने के लिए इस पुस्तक का अध्ययन किया करते थे। इसमें संस्कृत अक्षरों का तिब्बती और मंगोल लिपियों में लिप्यन्तर कर उन्हीं भाषाओं में वर्णन प्रस्तुत किए गए हैं। और भी आश्चर्य की बात है कि इसकी छपाई चीन में हुई थी। यह पुस्तक मात्र भारत के चीन, मंगोलिया और तिब्बत के साथ सांस्कृतिक सम्बंधों की गाथा ही नहीं सुनाती अपितु नेवारी, देवनागरी तथा बंगाली लिपियों का विकास जानने में भी सहायक है।

भाषाविद् , हिन्दीसेवी एवं कोशकार
आप महान्‌ कोशकार तथा भाषाविद् थे। डॉ रघुवीर जीवनपर्यन्त अंग्रेजी के एकाधिकार के विरुद्ध सभी भारतीय भाषाओं के संयुक्त मोर्चे के निर्माण की दिशा में कार्यरत रहे। वह केवल हिन्दी भाषा में ही पारंगत नहीं थे वरन संस्कृत, फारसी, अरबी, उर्दू, बांग्ला, मराठी, तमिल, तेलगु, पंजाबी पर भी उनका अधिकार था। इतना ही नहीं, यूरोप की अधिकांश भाषाओं (जिनमें अंग्रेजी भी शामिल है) पर भी उनका अच्छी पकड़ थी।

आपने प्रायः छह लाख शब्दों की रचना की है। आपकी शब्दनिर्माण की पद्धति वैज्ञानिक है। आपने विज्ञान की प्रत्येक शाखा के शब्दों की कोश-रचना की है। सन्‌ १९४३ ई. में आपने आंग्ल-हिंदी पारिभाषिक शब्दकोश का प्रणयन और प्रकाशन किया। सन्‌ १९४६ में मध्यप्रदेश सरकार ने आपको हिंदी और मराठी के वैज्ञानिक ग्रंथों की रचना का कार्य सौपा, जिसे आपने पूर्ण दृढ़ता तथा योग्यता से पूरा किया।

अपने राष्ट्रभाषा हिंदी को प्रतिष्ठित करने का आंदोलन ही नहीं किया अपितु उसके आधार को भी पुष्ट और प्रशस्त किया। संविधान की शब्दावली के कारण आपका यश सारे देश में फैल गया था। आप अनेक वर्षों तक संसदीय हिंदी परिषद् के मंत्री थे।

डॉ. रघुवीर के कोशकार्य की एक ओर अत्यधिक प्रशंसा हुई, दूसरी ओर अत्यधिक आलोचना। वस्तुत: यह प्रशंसनीय कार्य था, जिसको अत्यधिक श्रम से वैज्ञानिक आधार पर प्रस्तुत किया गया। संपूर्णत: संस्कृत पर आधारित होने के कारण इसकी व्यावहारिकता पर संदेह किया जाने लगा। उन्होंने सर्वप्रथम भाषा-निर्माण में यांत्रिकता तथा वैज्ञानिकता को स्थान दिया। उपसर्ग तथा प्रत्ययों के धातुओँ के योग से लाखों शब्द सहज ही बनाये जा सकते हैं:

उपसर्गेण धात्वर्थो बलादन्यत्र नीयते। प्रहार-आहार-संहार-विहार-परिहार वत् ।।
इस प्रक्रिया को कोश की भूमिका में समझाया। यदि मात्र दो संभावित योग लें, मूलांश ४०० और तीन प्रत्यय लें तो ८००० रूप बन सकते हैं, जबकि अभी तक मात्र ३४० योगों का उपयोग किया गया है। यहाँ शब्द-निर्माण की अद्भुत क्षमता उद्घाटित होती है। उन्होंने विस्तार से उदाहरण देकर समझाया कि किस प्रकार 'गम्' धातु मात्र से १८० शब्द सहज ही बन जाते हैं-

प्रगति, परागति, परिगति, प्रतिगति, अनुमति, अधिगति, अपगति, अतिगति, आगति, अवगति, उपगति,
उद्गति, सुगति, संगति, निगति, निर्गति, विगति, दुर्गति, अवगति, अभिगति, गति, गन्तव्य, गम्य, गमनीय, : गमक, जंगम, गम्यमान, गत्वर, गमनिका
आदि कुछ उदाहरण हैं। मात्र 'इ' धातु के साथ विभिन्न एक अथवा दो उपसर्ग जोड़कर १०७ शब्दों का निर्माण संभव है। उन्होंने स्पष्ट किया कि ५२० धातुओं के साथ २० उपसर्गों तथा ८० प्रत्ययों के योग से लाखों शब्दों का निर्माण किया जा सकता है। अगर धातुओं की संख्या बढ़ा ली जाए तो १७०० धातुओं से २३८०० मौलिक तथा ८४,९६,२४००० शब्दों को व्युत्पन्न किया जा सकता है।

इस प्रकार संस्कृत में शब्द निर्माण की अद्भुत क्षमता है, जिसका अभी नाममात्र का ही उपयोग किया जा सका है। अतिवादी दृष्टि से बचकर भी लाखों ऐसे सरल शब्दों को प्रयोग में लाया जा सकता है, जो हिन्दी की प्रवृत्ति के अनुकूल हैं।

राजनीति में
असाधारण विद्वत्ता तथा बहुमुखी प्रतिभा के कारण आप सन्‌ ५२ और ५६ में राज्यसभा के सदस्य चुने गए। इसके पूर्व राष्ट्रीय आंदोलन में भाग लेने के करण सन्‌ १९४१ में अपको कारावास का दंड मिला। राष्ट्र की स्वाधीनता के पश्चात्‌ उसके निर्माण में आपका सदैव सक्रिय सहयोग रहा। राजनीतिक दृष्टि से राष्ट्र के गौरव को बनाए रखने के लिए आपने समय-समय पर कांग्रेस की दलगत नीति की कटु आलोचना की। सरकर की प्रतिरक्षा, चीन, कश्मीर तथा भाषानीति आदि के संबंध में कांग्रेस से आपका मतभेद हो गया और आप कांग्रेस दल से पृथक्‌ हो गए। भारतीय कांग्रेस से अलग हो आप जनसंघ में सम्मिलित हुए और इसके अध्यक्ष चुने गए। सन १९६२ में आपने लोकसभा का चुनाव लड़ा था किंतु पराजित हो गए। भारतीय जनसंघ को आपके नेतृत्व में नवीन शक्ति, प्रेरणा तथा मान प्राप्त हुआ। प्रबल राष्ट्रप्रेम, प्रगाढ़ राष्ट्रभाषा प्रेम तथा भारतीय संस्कृति के पुनरुद्धारक के रूप में डा. रघुवीर सदा सर्वदा श्रद्धापूर्वक स्मरण किए जाएँगे।

मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी है यह बजट : नरेंद्र मोदी



मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी है यह बजट : मोदी
भाषा | Jul 10, 2014

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के पहले आम बजट को 'मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी' करार दिया है। पीएम ने कहा कि उनकी सरकार भारत को संकट से बाहर निकालने के लिए हर संभव कोशिश करेगी और ऐसा करके भी दिखाएगी। उन्होंने कहा कि यह विश्वास उन्हें 125 करोड़ भारतीयों की क्षमता और ताकत की वजह से है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली को उनके पहले बजट के लिए बधाई देते हुए मोदी नेे कहा कि इस बजट ने जनता की उम्मीदों और आकांक्षाओं को विश्वास में बदल दिया है। उन्होंने विश्वास जताया कि यह बजट भारत को तरक्की की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाएगा। इस बजट को उन्होंने गरीबों और समाज के वंचित तबकों के लिए उम्मीद की किरण बताया। उन्होंने कहा, 'मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए यह बजट अंतिम पंक्ति में खड़े आदमी के लिए एक संजीवनी और अरुणोदय के रूप में आया है।'

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह बजट जनभागीदारी और जनशक्ति को बढ़ावा देगा। उन्होंने कहा, 'यह बजट भारत को आधुनिक टेक्नॉलजी यूज करते हुए और ज्यादा डिजिटल बनाने की कोशिश है।' मोदी ने कहा कि विकास को समावेशक, सर्वदेशक और सर्वस्पर्शी होना चाहिए और इसे देश के उन क्षेत्रों तक पहुंचना चाहिए जो अभी तक विकास से अछूते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुश्किल समय के बावजूद सरकार देश के हर तबके को 'सबका साथ, सबका विकास' के मंत्र के साथ हरसंभव सहायता देने के लिए प्रतिबद्ध है।