सोमवार, 14 जुलाई 2014

4 महीने के निचले स्तर पर थोक महंगाई दर



http://khabar.ibnlive.in.com/news/123580/5

4 महीने के निचले स्तर पर थोक महंगाई दर

hindi.moneycontrol.com | Jul 14, 2014

नई दिल्ली। महंगाई के मोर्चे पर भी सरकार को राहत मिली है। जून में थोक मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर में 0.5 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है। जून में थोक महंगाई दर घटकर 5.43 फीसदी हो गई है। वहीं मई में थोक महंगाई दर 6.01 फीसदी पर थी।
जून में थोक महंगाई दर 4 महीने के निचले स्तर पर आ गई है। लेकिन अप्रैल की थोक महंगाई दर संशोधित होकर 5.20 फीसदी से बढ़कर 5.55 फीसदी हो गई है। साथ ही महीने दर महीने आधार पर जून में कोर महंगाई दर 3.8 फीसदी से बढ़कर 3.9 फीसदी हो गई है।
महीने दर महीने आधार पर जून में खाने-पीने की महंगाई दर 9.5 फीसदी से घटकर 8.14 फीसदी हो गई है। महीने दर महीने आधार पर जून में प्राइमरी आर्टिकल्स की महंगाई दर 8.58 फीसदी से घटकर 6.84 फीसदी हो गई है। हालांकि महीने दर मही
महंगाई घटी जरूर है लेकिन कमजोर मॉनसून का असर आने वाले दिनों में महंगाई पर पड़ सकता है। सरकार भले खुश हो ले लेकिन आम आदमी की चिंता बरकरार है क्योंकि थोक महंगाई दर में भले ही कमी आई हो, लेकिन बाजार में सामान खरीदने जाइए तो हर चीज महंगी मिलती है।
आलू प्याज के बाद अब टमाटर के दाम में भी आग लग गई है। 10 दिन पहले तक 15 से 20 रुपये प्रति किलो बिक रहा टमाटर अब 40 से 60 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। थोक बाजार में भी टमाटर के दाम में भारी उछाल है। मॉनसून की बेरुखी और सूखे के आसार का असर बाजार में दिखने लगा है। गर्मी से झुलस रही जनता को महंगाई और जलाने लगी है।

शैम शैम : दो फीसदी पादरी यौन शोषण के अपराधी : पोप



http://khabar.ibnlive.in.com/news/123575/2

दो फीसदी पादरी यौन शोषण के अपराधी: पोप

वार्ता | Jul 14, 2014



रोम। ईसाइयों के सर्वोच्च धर्मगुरु पोप फ्रांसिस ने कहा है कि रोम के दो प्रतिशत कैथोलिक पादरी यौन शोषक हैं। इस अपराध ने कुष्ठरोग की तरह चर्च को अपनी गिरफ्त में ले लिया है।
इटली के एक समाचार पत्र ‘ला रिपब्लिक’ में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक पोप ने कहा है कि मेरे बहुत से सहयोगी हैं जो बच्चों के यौन शोषण के खिलाफ मेरे साथ लड़ रहे हैं। उन्होंने मुझे बहुत ही विश्वसनीय आंकड़ा देते हुए बताया है कि चर्च में इस दुष्कर्म को करने वाले मात्र दो प्रतिशत लोग हैं।
उन्होंने कहा कि इस आंकड़े से उन्हें खुशी होनी चाहिए थी लेकिन इससे उन्हें कोई खुशी नहीं होती बल्कि वास्तव में वह इससे चिंतित हैं। वैसे इस तरह के अपराध अधिकतर पारिवारिक माहौल में होते हैं लेकिन यह चर्च में भी एक ही तरह आ गया है। चर्च के आंकड़ों के अनुसार 2012 में पूरी दुनिया में लगभग चार लाख 14 हजार रोमन कैथोलिक पादरी थे।
पोप से हुई बातचीत के आधार पर इटली के प्रसिद्ध पत्रकार ने यह रिपोर्ट प्रकाशित की। लेकिन वेटिकन सिटी के प्रवक्ता ने रिपोर्ट के कुछ हिस्सों को गलत बताया है।