गुरुवार, 17 जुलाई 2014

एक लाख करोड़ रुपये से अधिक का कालाधन पकड़ा




कालाधन : एक लाख करोड़ रुपये से अधिक का कालाधन पकड़ा
Bhasha,   जुलाई 16, 2014

नई दिल्ली: सरकार ने पिछले वित्त वर्ष के दौरान एक लाख करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित आय का पता लगाया है। यह आंकड़ा आयकर विभाग द्वारा इससे पिछले वर्ष कालेधन का पता लगाने के लिए मारे गए छापों के दौरान जब्त राशि के मुकाबले दोगुने से भी अधिक है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार आयकर विभाग ने मार्च में समाप्त वित्त वर्ष 2013-14 के दौरान तलाशी अभियान में 10,791.63 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता लगाया जबकि इसी अवधि में देशभर में सर्वे ऑपरेशन में विभाग को 90,390.71 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता चला। आयकर विभाग की यह कार्रवाई व्यक्तियों, व्यावसायिक फर्मों, कंपनियों और अन्य वित्तीय संस्थानों के खिलाफ कर चोरी का पता लगाने के लिए की गई।
विभाग की तलाशी और छापे के अभियान तथा सर्वे ऑपरेशन में कुल मिलाकर 1,01,181 करोड़ रुपये के कालेधन का पता लगाया गया। तलाशी अभियान में आयकर विभाग के अधिकारी किसी कंपनी के कार्यस्थल और आवास दोनों जगह छापा मारते हैं, जबकि सर्वे में अधिकारी केवल व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में ही तलाशी लेते हैं।

इससे पहले 2012-13 में आयकर विभाग ने तलाशी और सर्वे दोनों के जरिये केवल 29,628 करोड़ रुपये का पता लगाया। विभाग ने 2013-14 के दौरान आभूषण, सावधि जमाओं और 807.84 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की।

जहाँ-जहाँ स्वयं प्रगट हुए शिवजी : बारह ज्योतिर्लिंग




हिन्दू धर्म में पुराणों के अनुसार शिवजी जहाँ-जहाँ स्वयं प्रगट हुए उन बारह स्थानों पर स्थित शिवलिंगों को ज्योतिर्लिंगों के रूप में पूजा जाता है। ये संख्या में १२ है।
सौराष्ट्र प्रदेश (काठियावाड़) में श्रीसोमनाथ,
श्रीशैल पर श्रीमल्लिकार्जुन,
उज्जयिनी (उज्जैन) में श्रीमहाकाल,
ॐकारेश्वर अथवा अमलेश्वर,
परली में वैद्यनाथ,
डाकिनी नामक स्थान में श्रीभीमशङ्कर,
सेतुबंध पर श्री रामेश्वर,
दारुकावन में श्रीनागेश्वर,
वाराणसी (काशी) में श्री विश्वनाथ,
गौतमी (गोदावरी) के तट पर श्री त्र्यम्बकेश्वर,
हिमालय पर केदारखंड में श्रीकेदारनाथ और
 शिवालय में श्रीघुश्मेश्वर।
- हिंदुओं में मान्यता है कि जो मनुष्य प्रतिदिन प्रात:काल और संध्या के समय इन बारह ज्योतिर्लिङ्गों का नाम लेता है, उसके सात जन्मों का किया हुआ पाप इन लिंगों के स्मरण मात्र से मिट जाता है।

सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्। :उज्जयिन्यां महाकालमोङ्कारममलेश्वरम्॥1॥
परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमशङ्करम्।:सेतुबन्धे तु रामेशं नागेशं दारुकावने॥2॥
वाराणस्यां तु विश्वेशं त्र्यम्बकं गौतमीतटे।:हिमालये तु केदारं घृष्णेशं च शिवालये॥3॥
एतानि ज्योतिर्लिङ्गानि सायं प्रात: पठेन्नर:।:सप्तजन्मकृतं पापं स्मरणेन विनश्यति॥4॥

स्थल

१२ ज्योतिर्लिंगों के नाम शिव पुराण अनुसार (शतरुद्र संहिता,अध्याय ४२/२-४) हैं।
क्रम.ज्योतिर्लिंगचित्रराज्यस्थितिवर्णन
सोमनाथSomanatha view-II.JPGगुजरातप्रभास पाटन,सौराष्ट्रश्री सोमनाथ सौराष्ट्र, (गुजरात) के प्रभास क्षेत्र में विराजमान है। इस प्रसिद्ध मंदिर को अतीत में छह बार ध्वस्त एवं निर्मित किया गया है। १०२२ ई में इसकी समृद्धि को महमूद गजनवी के हमले से सार्वाधिक नुकसान पहुँचा था।
मल्लिकार्जुनSrisailam-temple-entrance.jpgआंध्र प्रदेशकुर्नूलआन्ध्र प्रदेश प्रांत के कृष्णा जिले में कृष्णा नदी के तटपर श्रीशैल पर्वत परश्रीमल्लिकार्जुन विराजमान हैं। इसे दक्षिण का कैलाश कहते हैं।
महाकालेश्वरMahakal Temple Ujjain.JPGमध्य प्रदेशमहाकाल,उज्जैनश्री महाकालेश्वर (मध्यप्रदेश) के मालवा क्षेत्र में क्षिप्रा नदी के तटपर पवित्रउज्जैन नगर में विराजमान है। उज्जैन को प्राचीनकाल में अवंतिकापुरी कहते थे।
ॐकारेश्वरOmkareshwar.JPGमध्य प्रदेशनर्मदा नदीमें एक द्वीप परमालवा क्षेत्र में श्रीॐकारेश्वर स्थान नर्मदा नदी के बीच स्थित द्वीप पर है। उज्जैन से खण्डवा जाने वाली रेलवे लाइन पर मोरटक्का नामक स्टेशन है, वहां से यह स्थान 10 मील दूर है। यहां ॐकारेश्वर और मामलेश्वर दो पृथक-पृथक लिङ्ग हैं, परन्तु ये एक ही लिङ्ग के दो स्वरूप हैं। श्रीॐकारेश्वर लिंग को स्वयंभू समझा जाता है।
केदारनाथKedarnath Temple.jpgउत्तराखंडकेदारनाथश्री केदारनाथ हिमालय के केदार नामक श्रृङ्गपर स्थित हैं। शिखर के पूर्व की ओर अलकनन्दा के तट पर श्री बदरीनाथ अवस्थित हैं और पश्चिम मेंमन्दाकिनी के किनारे श्री केदारनाथ हैं। यह स्थान हरिद्वार से 150 मील औरऋषिकेश से 132 मील दूर उत्तरांचल राज्य में है।
भीमाशंकरBhimashankar.jpgमहाराष्ट्रभीमाशंकरश्री भीमशङ्कर का स्थान मुंबई से पूर्व और पूना से उत्तर भीमा नदी के किनारे सह्याद्रि पर्वत पर है। यह स्थान नासिक से लगभग 120 मील दूर है। सह्याद्रि पर्वत के एक शिखर का नाम डाकिनी है। शिवपुराण की एक कथा के आधार पर भीमशङ्कर ज्योतिर्लिङ्ग को असम के कामरूप जिले में गुवाहाटी के पास ब्रह्मपुर पहाड़ी पर स्थित बतलाया जाता है। कुछ लोग मानते हैं कि नैनीताल जिले के काशीपुर नामक स्थान में स्थित विशाल शिवमंदिर भीमशंकर का स्थान है।
काशी विश्वनाथKashivishwnath.jpgउत्तर प्रदेशवाराणसीवाराणसी (उत्तर प्रदेश) स्थित काशी के श्रीविश्वनाथजी सबसे प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में एक हैं। गंगा तट स्थित काशी विश्वनाथ शिवलिंग दर्शन हिंदुओं के लिए सबसे पवित्र है।
त्रयम्बकेश्वरTrimbakeshwar Shiva Temple, Trimbak, Nashik district.jpgमहाराष्ट्रत्रयम्बकेश्वर, निकटनासिकश्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिङ्ग महाराष्ट्र प्रांत के नासिक जिले में पंचवटी से 18 मील की दूरी पर ब्रह्मगिरि के निकट गोदावरी के किनारे है। इस स्थान पर पवित्र गोदावरी नदी का उद्गम भी है।
वैद्यनाथBaba-baidyanath-dham-temple.jpgझारखंडदेवघर जिलाशिवपुराण में 'वैद्यनाथं चिताभूमौ' ऐसा पाठ है, इसके अनुसार (झारखंड) राज्य के संथाल परगना क्षेत्र में जसीडीह स्टेशन के पास देवघर (वैद्यनाथधाम) नामक स्थान पर श्रीवैद्यनाथ ज्योतिर्लिङ्ग सिद्ध होता है, क्योंकि यही चिताभूमि है। महाराष्ट्र में पासे परभनी नामक जंक्शन है, वहां सेपरली तक एक ब्रांच लाइन गयी है, इस परली स्टेशन से थोड़ी दूर पर परली ग्राम के निकट श्रीवैद्यनाथ को भी ज्योतिर्लिङ्ग माना जाता है। परंपरा और पौराणिक कथाओं से देवघर स्थित श्रीवैद्यनाथ ज्योतिर्लिङ्ग को ही प्रमाणिक मान्यता है।
१०नागेश्वरNageshwar Temple.jpgगुजरातदारुकावन,द्वारकाश्रीनागेश्वर ज्योतिर्लिङ्ग बड़ौदा क्षेत्रांतर्गत गोमती द्वारका से ईशानकोण में बारह-तेरह मील की दूरी पर है। निजाम हैदराबाद राज्य के अन्तर्गत औढ़ा ग्राम में स्थित शिवलिङ्ग को ही कोई-कोई नागेश्वर ज्योतिर्लिङ्ग मानते हैं। कुछ लोगों के मत से अल्मोड़ा से 17 मील उत्तर-पूर्व में यागेश (जागेश्वर) शिवलिङ्ग ही नागेश ज्योतिर्लिङ्ग है।
११रामेश्वरRamanathar-temple.jpgतमिल नाडुरामेश्वरमश्रीरामेश्वर तीर्थ तमिलनाडु प्रांत के रामनाड जिले में है। यहाँ लंका विजय के पश्चात भगवान श्रीराम ने अपने अराध्यदेव शंकर की पूजा की थी। ज्योतिर्लिंग को श्रीरामेश्वर या श्रीरामलिंगेश्वर के नाम से जाना जाता है।.[3]
१२घृष्णेश्वरGrishneshwar Temple.jpgमहाराष्ट्रनिकटएल्लोरा,औरंगाबाद जिलाश्रीघुश्मेश्वर (गिरीश्नेश्वर) ज्योतिर्लिंग को घुसृणेश्वर या घृष्णेश्वर भी कहते हैं। इनका स्थान महाराष्ट्र प्रांत में दौलताबाद स्टेशन से बारह मील दूर बेरूलगांव के पास है।

भगवान विष्णु का दशावतार मंदिर : देवगढ़ उत्तर प्रदेश




भगवान विष्णु का मंदिर
दशावतार मंदिर, देवगढ़, उत्तर प्रदेश

दशावतार मंदिर उत्तरी भारत का सबसे पुराना जाना माना मंदिर है और यह भगवान विष्णु को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि यह गुप्त काल में बना है। यह मंदिर अब बर्बादी की कगार पर है पर यहाँ आप भगवान विष्णु के दस अवतार के दर्शन कर सकते हैं और यही नहीं मंदिर के दरवाज़े पर आप गंगा और यमुना देवियों की नक्काशी की गयी है और वैष्णव पौराणिक कथाओं की पट्टी पर नक्काशी भी की गयी है।
मंदिर में भगवान विष्णु की मूर्ती नर नारायण तपस्या के आकार में है और दूसरी मूर्ती है जिसमें वह एक नाग पर लेटे हैं। यह मंदिर हिन्दू श्रद्धालुओं को पूरे साल खासकर त्यौहार के समय भारी मात्रा में अपनी ओर आकर्षित करता है। उत्तरी भारत में स्थित यह पहला मंदिर है जिसमें शिकारा की सुविधा है जबकि अब काफी कुछ विलुप्त होता जा रहा है।
-----------

देवताओं का गढ़ – देवगढ़ (उत्तर प्रदेश)
ललितपुर से हमें गाड़ी पकड़नी थी जो पाँच घंटे विलंब से आने वाली थी. वहीं बैठे रहते तो रात आठ बजने वाले थे. हम तो दिन के बारह बजे के पहले ही पहुँच गये थे. हमने सोचा कि अब क्या करें. भला हो हमारे ड्राइवर का जो हमारी रुझान से परिचित था. उसी ने कहा चलिए साहब अपन देवगढ़ हो आते हैं. और हम लोग निकल पड़े. ललितपुर, उत्तर प्रदेश (दिल्ली – चेन्नई मुख्य रेल मार्ग पर) से मात्र 33 किलोमीटर दक्षिण मे एक रमणीय स्थल है, देवगढ़. पहाड़ी पर प्राचीन मंदिरों के अतिरिक्त ऊँची चट्टानों के नीचे घूमती हुई बेतवा नदी एक अनोखी छटा प्रस्तुत करती है. इतना मनोरम है कि आप देखते ही रह जाएँगे और आँखें नहीं थकेंगी. इस प्रकार का प्राकृतिक दृश्य हमने केवल एक जगह और देखी है वह है सांची के पास सतधारा जहाँ पहाड़ियों के नीचे से बेस नदी बहती दिखती है.

पहाड़ी के ऊपर की समतल भूमि पर अनेकों मंदिर बने हुए हैं. बहुत सारे तो ध्वस्त हो गये हैं. एक तरफ कुछ भग्नावशेष दिखे जिसे वराह का मंदिर बताया गया, इसका केवल चबूतरा बचा हुआ है. यहाँ कहा जाता है कि कुल 40 जैन मंदिर और थे जिनमे से आज भी छोटे बड़े मिलाकर कुल 31 बचे हुए हैं.   शांतीनाथ जी का मंदिर इन सबमें उल्लेखनीय है. यहाँ मनौती के रूप में खंबों का निर्माण करवाए जाने की परंपरा रही है जिन्हें “मनस्थम्भ” कहा जाता है. ऐसे ही मनौती में शिलाखंड (आयपट्ट) दिए जाने की भी प्रथा थी. यहाँ चारों तरफ से दिखने वाली “सर्वतोभद्र” प्रतिमा तथा 1000 जैन मुनियों की आकृति उकेरी हुई “सहस्त्रकूट” खंबे विशिष्‍ट हैं. लगभग 8 वीं से 17 वीं शताब्दी तक यह स्थल जैन मतावलंबियों (दिगंबर) का एक केन्द्र रहा है.  यहाँ चट्टानों को काट कर बनाए गये गुफा मंदिर (सिद्ध की गुफा), राजघाटी, नहरघाटी आदि भी हैं. बेतवा नदी पहाड़ियों के नीचे बहती है और नीचे जाने के लिए पत्थरों को काट कर सीढ़ियाँ बनाई गयी हैं. सीढ़ियों से नीचे उतरते समय बाईं तरफ चट्टानों को तराश कर छोटे छोटे कमरे बना दिए गये हैं जिनमे जैन मुनि एकांत में प्रकृति का आनंद लेते हुए अपनी साधना में निमग्न हुआ करते थे. चट्टानों पर लगभग 8 वीं शताब्दी की ब्राहमी लिपि में कई जगह लेख भी खुदे हैं.

हम नीचे नदी तक जाकर वापस लौट आए. फिर ऊपर के दृश्यों को मन में समेटने का प्रयास किया. पूरा इलाका जंगल की तरह झाड़ झंकाड़ से भरा था. ऊंचे घाँस भी उग आए थे. सारांश यह कि रख रखाव का कही नाम नहीं था. कुछ समय बिताकर हमारी वापसी की यात्रा प्रारम्भ हुई. कुछ ही दूर जाना हुआ था कि एक और मन्दिर दिख पड़ा, बिल्कुल जाना पहचाना. हम रुक गए और अवलोकन किया उस गुप्त कालीन मन्दिर का,  जिसके शिखर के कई पत्थर धराशायी हो चुके थेcolumn.  यहाँ यह बताना उचित होगा कि भारत में प्रारम्भ में देवताओं के लिए आश्रय स्थली के रूप में कंदराओं में जगह दी जाती थी जिसके अच्छे उदहारण हैं बराबर (गया), अजंता और एल्लोरा के गुफा मन्दिर. गांवों में तो पेड़ों के नीचे ही देव प्रतिमाएँ विश्राम करती थी, जो आज भी देखा जा सकता है लेकिन  फ़िर उनपर तरस आ गया. सर्व प्रथम मैदानी भूभाग में देवता के आश्रय स्थल के रूप में मढिया जैसे चौकोन, शिखर विहीन समतल छत वाले मंदिरों का निर्माण हुआ. फ़िर भक्तों का ख्याल आया तो आगे एक छोटा मंडप जोड़ दिया. 3 री 4 थी सदी के मंदिरों की प्रारंभिक अवस्था के  उदाहरण साँची तथा जबलपुर के पास तिगवा में अभी भी विद्यमान हैं. (लिंक पर क्लिक करने पर मन्दिर का चित्र दिखेगा). इसे हम मन्दिर निर्माण कला की शैशव अवस्था कह सकते हैं. तीसरे चरण में मन्दिर को टोपी पहनाई गई. अर्थात छोटे शिखर बनाये जाने लगे. देवगढ़ का यह, लाल बलुआ पत्थर से बना मन्दिर विष्णु को समर्पित है और “दशावतार” मन्दिर  कहलाता है. यह शिखरयुक्त “पंचायतन” शैली में बने मंदिरों में प्राचीनतम है जिसका निर्माण लगभग सन 470 में भारतीय इतिहास के उस स्वर्ण युग में हुआ था.

एक ऊँचे चबूतरे पर चढ़ कर जब प्रवेश द्वार पर पहुँचते हैं तो हमें द्वार के दोनो ओर बनी गंगा और यमुना की मूर्तियाँ सहज ही आकृष्ट करती है. गर्भगृह के अंदर प्रवेश संभव नहीं था अतः हमें मंदिर की परिक्रमा कर ही संतुष्ट होना पड़ा. मंदिर के चारों ओर पौराणिक कथाओं को अभिव्यक्त करती dancing-ganaमूर्तियों से सजाया गया है. गजेन्द्र मोक्ष, नर नारायण तपस्या तथा शेषासाई विष्णु की प्रतिमाएँ बहुत ही आकर्षक हैं. अचंभित करने वाला फलक विष्णु वाला है. विष्णु जी अपनी चिर परिचित मुद्रा में शेषनाग की शैय्या पर लेटे हुए हैं. ऊपर की ओर कार्तिकेय अपने मयूर पर आरूढ़, ऐरावत पर बैठे इन्द्र, कमल पर ब्रह्माजी तथा नंदी पर उमा महेश्वर बैठे हुए दृष्टिगोचर हो रहे हैं. शैय्या के नीचे पहली बार पॅंच पांडवों को द्रौपदी सहित दर्शाया गया है. इसके पूर्व ऐसा किसी और मंदिर में नहीं हुआ है. 7 वीं या 8 वीं शताब्दी के कुछ शिव मंदिरों में पांडवों को ज़रूर दर्शाया गया है.  यादों को संजोए हम लोग संध्या 6 बजे तक

--------------
देवगढ़ उत्तर प्रदेश राज्य के ललितपुर ज़िले से लगभग 37 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह मध्य रेलवे के जाखलौन से 9 मील (लगभग 14.4 कि.मी.) की दूरी पर पड़ता है। यहाँ के प्राचीन स्मारक बहुत ही उल्लेखनीय हैं। देवगढ़ में दशावतार विष्णु भगवान का मध्ययुगीन मन्दिर है, जो स्थापत्य कला की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण है।

इतिहास
देवगढ़ का इतिहास में बहुत ही ख़ास स्थान रहा है। यह ऐतिहासिक दृष्टि से भी बहुत महत्त्वपूर्ण है। इसके अन्य दर्शनीय स्थलों में मुख्य हैं- सैपुरा ग्राम से 3 मील (लगभग 4.8 कि.मी.) पश्चिम की ओर पहाड़ी पर एक चतुष्कोण कोट, नीचे मैदान में एक भव्य विष्णु का मंदिर, यहाँ से एक फलांग पर वराह मंदिर, पास ही एक विशाल दुर्ग के खंडहर, इसके पश्चात दो और दुर्गों के भग्नावशेष, एक दुर्ग के विशाल घेरे में 31 जैन मंदिरों और अनेक भवनों के खंडहर।

दशावतार विष्णु मंदिर
देवगढ़ में सब मिला कर 300 के लगभग अभिलेख मिले हैं, जो 8वीं शती से लेकर 18वीं शती तक के हैं। इनमें ऋषभदेव की पुत्री ब्राह्मी द्वारा अंकित अठारह लिपियों का अभिलेख तो अद्वितीय ही है। चंदेल नरेशों के अभिलेख भी महत्त्वपूर्ण हैं। देवगढ़ बेतवा नदी के तट पर स्थित है। तट के निकट पहाड़ी पर 24 मंदिरों के अवशेष हैं, जो 7वीं शती ई. से 12वीं शती ई. तक बने थे। देवगढ़ का शायद सर्वोत्कृष्ट स्मारक 'दशावतार का विष्णु मंदिर' है, जो अपनी रमणीय कला के लिए भारत भर के उच्च कोटि के मंदिरों में गिना जाता है। इसका समय छठी शती ई. माना जाता है, जब गुप्त वास्तु कला अपने पूर्ण विकास पर थी। मंदिर का समय भग्नप्राय अवस्था में है, किन्तु यह निश्चित है कि प्रारम्भ में इसमें अन्य गुप्त कालीन देवालयों की भांति ही गर्भगृह के चतुर्दिक पटा हुआ प्रदक्षिणा पथ रहा होगा। इस मंदिर के एक के बजाए चार प्रवेश द्वार थे और उन सबके सामने छोटे-छोटे मंडप तथा सीढ़ियां थीं। चारों कोनों में चार छोटे मंदिर थे। इनके शिखर आमलकों से अलंकृत थे, क्योंकि खंडहरों से अनेक आमलक प्राप्त हुए हैं। प्रत्येक सीढ़ियों की पंक्ति के पास एक गोखा था। मुख्य मंदिर के चतुर्दिक कई छोटे मंदिर थे, जिनकी कुर्सियाँ मुख्य मंदिर की कुर्सी से नीची हैं। ये मुख्य मंदिर के बाद में बने थे। इनमें से एक पर पुष्पावलियों तथा अधोशीर्ष स्तूप का अलंकरण अंकित है। यह अलंकरण देवगढ़ की पहाड़ी की चोटी पर स्थित मध्ययुगीन जैन मंदिरों में भी प्रचुरता से प्रयुक्त है।

गुप्त वास्तुकला का प्रभाव
दशावतार मंदिर में गुप्त वास्तु कला के प्रारूपिक उदाहरण मिलते हैं, जैसे, विशाल स्तम्भ, जिनके दंड पर अर्ध अथवा तीन चौथाई भाग में अलंकृत गोल पट्टक बने हैं। ऐसे एक स्तम्भ पर छठी शती के अंतिम भाग की गुप्त लिपि में एक अभिलेख पाया गया है, जिससे उपर्युक्त अलंकरण का गुप्त कालीन होना सिद्ध होता है। इस मंदिर की वास्तु कला की दूसरी विशेषता चैत्य वातायनों के घेरों में कई प्रकार के उत्कीर्ण चित्र हैं। इन चित्रों में प्रवेश द्वार या मूर्ति रखने के अवकाश भी प्रदर्शित हैं। इनके अतिरिक्त सारनाथ की मूर्तिकला का विशिष्ट अभिप्राय स्वस्तिकाकार शीर्ष सहित स्तम्भयुग्म भी इस मंदिर के चैत्यवातायनों के घेरों में उत्कीर्ण है। दशावतार मंदिर का शिखर ऐतिहासिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण संरचना है। पूर्व गुप्त कालीन मंदिरों में शिखरों का अभाव है।

देवगढ़ के मंदिर का शिखर भी अधिक ऊँचा नहीं है, वरन् इसमें क्रमिक घुमाव बनाए गए हैं। इस समय शिखर के निचले भाग की गोलाई ही शेष है, किन्तु इससे पूर्ण शिखर का आभास मिल जाता है। शिखर के आधार के चारों ओर प्रदक्षिणा पथ की सपाट छत थी, जिसके किनारे पर बड़ी व छोटी दैत्य खिड़कियाँ थीं, जैसा कि महाबलीपुरम के रथों के किनारों पर हैं। द्वार मंडप दो विशाल स्तम्भों पर आधृत था। प्रवेश द्वार पर पत्थर की चौखट है, जिस पर अनेक देवताओं तथा गंगा और यमुना की मूर्तियाँ उत्कीर्ण हैं। मंदिर की बहिर्भित्तियों के अनेक विशाल पट्टों पर गजेन्द्रमोक्ष, शेषशायी विष्णु आदि के कलात्मक मूर्ति चित्र अंकित हैं। मंदिर की कुर्सी के चारों ओर भी गुप्त कालीन मूर्तिकारी का वैभव अवलोकनीय है। रामायण और कुष्ण लीला से संबंधित दृश्यों का चित्रण बहुत ही कलापूर्ण शैली में प्रदर्शित है।

अन्य स्थल
देवगढ़ के अन्य मंदिरों में गोमटेश्वर, भरत, चक्रेश्वरी, पद्मावती, ज्वालाभालिनी, श्री, ह्री, तथा पंच परमेष्ठी आदि जैन तथा तांत्रिक मूर्तियों का सुंदर प्रदर्शन है। दूसरे दुर्ग से पहाड़ी में नदी तक काटकर बनाई हुई सीढ़ियों द्वारा नाहरघाटी व राजघाटी तक पहुँचा जा सकता है। मार्ग में पांच पांडवों की मूर्तियां, जिन प्रतिमाएं, शैलकृत सिद्ध गुहा तथा गुप्त कालीन अभिलेख मिलते हैं।