बुधवार, 27 मई 2015

दुनिया को मोदी जैसे और नेताओं की जरूरत : वर्ल्ड बैंक प्रमुख


दुनिया को मोदी जैसे और नेताओं की जरूरतः वर्ल्ड बैंक प्रमुख
एजेंसियां| May 27, 2015

नई दिल्ली
केंद्र में सरकार का एक साल पूरा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जबर्दस्त तारीफ मिली है। यह तारीफ की है विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम यॉन्ग किम ने। किम ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनकी सरकार के कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर बधाई देते हुए कहा कि दुनिया को 'आपके जैसे और नेताओं की जरूरत है।' किम ने प्रधानमंत्री को एक साल में गरीबी समाप्त करने के लिए उठाए गए दूरदृष्टि वाले कदमों के लिए बधाई दी।
विश्व बैंक प्रमुख ने ट्वीट किया, 'भारत में गरीबी समाप्त करने के लिए एक साल के दूरदृष्टि वाले कदमों के लिए बधाई। दुनिया को आप जैसे और नेताओं की जरूरत है।'

मोदी ने उनके इस संदेश पर धन्यवाद दिया। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, 'जिम किम को धन्यवाद। हम सभी को दुनिया को रहने के लिए बेहतर स्थान बनाने को मिलकर काम करना होगा। विशेष रूप से गरीबी समाप्त करने के लिए।'

बिजनस लीडर्स ने बांधे मोदी की तारीफों के पुल
इकनॉमिक टाइम्स| Jan 12, 2015
गांधीनगर

वाइब्रेंट गुजरात का मकसद इन्वेस्टर्स से मुलाकात करना है, लेकिन 2003 में समिट की शुरुआत के बाद से बिजनस लीडर्स इस मौके पर नरेंद्र मोदी की तारीफ करते आए हैं। रविवार को सातवां वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन शुरू हुआ और इस बार भी मोदी के मुरीद खुलकर उनकी तारीफ कर रहे हैं।

देश के सबसे अमीर बिजनसमैन मुकेश अंबानी ने कहा, 'कृष्ण, महात्मा गांधी, सरदार पटेल और अब हमारे प्यारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्रभाई मोदी की धरती पर आपका स्वागत है। वह एक वर्ल्ड लीडर हैं, जिन पर भारत को नाज है।' अंबानी ने कहा, 'मोदी की पावरफुल लीडरशिप के चलते दुनिया की जानी-मानी कंपनियां गुजरात आई हैं। उनके 'मेक इन इंडिया' और 'डिजिटल इंडिया' कैंपेन ने भारत और यहां की कंपनियों में जान डाल दी है।'


वहीं, आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमारमंगलम बिड़ला ने कहा कि गुजरात आज भारत में इन्वेस्टमेंट के लिए सबसे पसंदीदा जगह है। उन्होंने बताया, 'हम गुजरात सरकार के प्रो-ऐक्टिव अप्रोच से खुश हैं...मेरा इसके प्रति खास लगाव है।' उन्होंने कहा कि राज्य ने नरेंद्र मोदी की लीडरशिप में 15 साल तक तरक्की की। पॉजिटिव पॉलिसी और गवर्नेंस फ्रेमवर्क बनाने में उनका अहम रोल रहा। मुख्यमंत्री रहने के दौरान मोदी ने स्पष्ट नीतियां बनाईं और प्रॉजेक्ट्स को तेजी से मंजूरियां दिलाईं।

वहीं, वर्ल्ड बैंक के प्रेजिडेंट जिम यंग किम ने कहा कि भारत की जीडीपी ग्रोथ 2015 में 6.4 पर्सेंट रह सकती है। किम ने कहा, 'नरेंद्र मोदी सरकार ने जो कदम उठाए हैं, उनसे देश की इकनॉमिक ग्रोथ तेज होगी।' उन्होंने कहा कि दुनिया के कई देश मुश्किलों का सामना कर रहे हैं और उनके बीच भारत ने उम्मीद की रोशनी दिखाई है।

वाइब्रेंट समिट में जापान से शामिल होने आए मिनिस्टर योसुके टाकागी ने कहा कि पिछले साल मोदी ने जब उनके देश की यात्रा की थी, तब ट्रेड और इकॉनमी मिनिस्ट्री के साथ मीटिंग में उन्होंने एक भारतीय मुहावरे का इस्तेमाल किया था। मोदी ने कहा था- अगर यह देखना है कि चावल पका है या नहीं, तो एक ही दाना काफी होता है। वैसे ही भारत की तरक्की का पता गुजरात की यात्रा करके लग जाता है। इंडस्ट्री और ग्लोबल लीडर्स जब प्रधानमंत्री की तारीफ कर रहे थे, तब उनका चेहरा गंभीर था। वह सिर्फ तभी मुस्कुराए, जब कोई हल्की-फुल्की बात कही गई।
----
2015 में भारत का विकास दर 6.4 प्रतिशत रहने का अनुमान: वर्ल्ड बैंक
भाषा| Jan 11, 2015,

वर्ल्ड बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम ने रविवार को कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बल पर भारत का आर्थिक विकास दर 2015 में 6.4 प्रतिशत रहने और अगले साल इसमें और तेजी आने की संभावना है। वाइब्रेंट गुजरात समिट के दौरान उन्होंने कहा कि वर्ल्ड बैंक भारत की अर्थव्यवस्था को सशक्त बनाने में उत्प्रेरक की भूमिका निभाने को तैयार है और इस संबंध में हमारे पास आशावादी होने के बहुत अधिक कारण हैं।

उन्होंने कहा, 'हमारा अनुमान है कि दुनिया में दूसरे देश जहां औसत दर्जे का प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं भारत का प्रदर्शन शानदार होगा। हमारे अनुमान के मुताबिक, भारत की अर्थव्यवस्था इस साल 6.4 प्रतिशत और अगले साल इससे भी तेज गति से बढ़ेगी।'

वर्ल्ड बैंक के अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार तेज वृद्धि के लिए तेजी से आधार तैयार कर रही है। इसके साथ ही मोदी सरकार राष्ट्रीय नियामकीय ढांचे को दुरुस्त कर रही है और सामाजिक समावेश को प्रोत्साहन भी दे रही है।

पिछले दो वित्त वर्षों के दौरान पांच प्रतिशत से नीचे रहने के बाद अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत आने शुरू हो गए हैं और 2014-15 की दूसरी और तीसरी तिमाहियों में विकास दर क्रमश: 5.7 प्रतिशत व 5.3 प्रतिशत रही।


अगर सिर्फ whatsapp और फेसबुक पे जोक सुन सुन के मोदी जी की विदेश दौरों का पता है तो मुर्ख हो । इन उपलब्दियों के बारे में भी पता होना चाहिए ...

1. मोदी जी ने सऊदी अरब को “On-Time Delivery” प्रीमियम चार्जेज ऑन क्रूड आयल के लिए मना लिया है ।

2. India भूटान में 4 Hydropower stations Dams बनाएगा । जिससे Green energy मिलेगी ।

3. India नेपाल में सबसे बड़ा hydro dam बनाएगा जिस से 83% Green energy इंडिया को मिलेगी। (इसके लिए china कब से लगा हुआ था )

4. जापान के साथ समझोता हुआ. वो भारत में 10 लाख करोड़ invest करेंगे और bullet train चलाने में मदद करेंगे। (कांग्रेस के टाइम में ये समझोता सिर्फ 1000 करोड़ का था)

5. Vietnam के साथ रिश्ते सुधारे हैं और अब भारत को आयल देने और आयल रिफानरी में भारत के लिए मदद करेगा। कोंग्रेश के समय उसने मना कर दिया था।

6. इरान अब डॉलर की जगह रूपये में आयल देने को राजी हो गया है । इस से खाफी बचत होगी ।

7. मोदी जी 28 साल के बाद औस्ट्रेलिया जाने वाले प्रधनमंत्री बने । और वहां दोस्ती के रिश्ते बनाये । अब वहां से Uranium मिलेगा जिससे बिजली बनाने के लिए काफी मदद मिलेगी।

8. मोदी जी इस साल श्री लंका गये और टूटी हुई दोस्ती सुधारी। जो कांग्रेश ने श्री लंका ना जाके बिगाड़ ली थी।

9. China के सामान india में बहुत बिक रहे हैं , इसके लिए बोल दिया की या तो इंडिया में invest करो नही तो गैर क़ानूनी माना जाएगा । अब China $20 billion Invest करेगा।

11. भारत ने North East and around India china border पे रोड बनाना शुरू कर दिया है ताकि हमारी आर्मी को जाने में दिक्कत न हो। कांग्रेश इसे बनाने में डरती रही।

12. India यमन से 4000+ Indians को लाने में सफल रही ।ये सब मोदी और सऊदी अरब किंग की दोस्ती की वजह से संभव हो पाया।

13. India की एयर फ़ोर्स की ताकत कमजोर हो गयी थी। इसके लिए आते ही फ़्रांस से 36 Rafale fighter Jets खरीदने के लिए डील की है।

14. 42 साल के बाद कनाडा भारत को Uranium देने के लिए राजी हो गया है । इस से बिजली की समस्या से निपटने में मदद मिलेगी ।

15. Canada अब भारतीयों को On-Arrival visa देगा।

16. अब तक हम अमेरिक और रूस से ही Nuclear Reactor खरीद सकते थे । मगर अब फ़्रांस भारतीय कम्पनी के साथ यही बनाएगी ।

17. बराक ओबामा से दोस्ती की और अमेरिका अब भारत में 16 Nuclear power plant लगाने में मदद करेगा । जिस से भारत में बिजली की दिक्कत ख़तम हो जाएगी ।

स्मृति ईरानी : राहुल गांधी को घर में घेरा



स्मृति ईरानी ने अमेठी से राहुल गांधी के छुड़ाए पसीने
नवभारतटाइम्स.कॉम |      May 27, 2015

अमेठी
2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को देखते हुए अत्यंत महत्वपूर्ण सीट अमेठी पर राजनीतिक संघर्ष तेज हो गया है। इसकी वजह क्या है? बीजेपी ने 2014 के आम चुनाव में उत्तर प्रदेश में 80 में से 71 सीटों पर जीत दर्ज की थी। अमेठी में राहुल गांधी की जीत में वोटों को अंतर भी कम हुआ था। बीजेपी अमेठी में राहुल के वोट बैंक में सेंध लगाने में कामयाब रही थी।

अमेठी की लड़ाई बीजेपी और कांग्रेस के बीच नाक की बन गई है। स्मृति ईरानी ने गांधी-नेहरू परिवार पर हमला करते हुए मंगलवार को कहा था कि वर्षों के खोखले वादों के बाद अमेठी और रायबरेली में अब विकास दिख रहा है। ईरानी के इस हमले पर प्रियंका गांधी ने जवाबी हमला बोला है। प्रियंका ने पूछा कि अमेठी में आईआईआईटी क्यों नहीं खुल रही। उन्होंने पूछा कि स्मृति ईरानी एचआरडी मंत्री हैं और उन्हें जवाब देना चाहिए। प्रियंका ने कहा कि यहां के युवा समस्याओं से जूझ रहे हैं और ईरानी कुछ नहीं कर रहीं।

2014 लोकसभा इलेक्शन में राहुल गांधी ने अमेठी से बीजेपी की स्मृति ईरानी को 1.07 लाख वोटों से हराया था। राहुल की यह जीत 2009 के मुकाबले बेहद छोटी थी। 2009 में राहुल 3.70 वोटों के अंतर से जीते थे।

केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से अमेठी में एक दूसरे को मात देने का राजनीतिक खेल शिखर पर है। पिछले साल आम चुनाव में कांग्रेस बुरी तरह से हारी थी। तब से ही बीजेपी ने निशाने पर अमेठी है।

फूड पार्क का कैंसल होना
कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने संसद में महत्वाकांक्षी शक्तिमान मेगा फूड पार्क कैंसल करने का मुद्दा उठाया था। इसके बाद केंद्रीय मानव संसाधन और विकास मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी के गांवों में गईं और वहां उन्होंने किसान पंचायत आयोजित की। उन्होंने कहा कि मैं यहां से भले हार गई हूं लेकिन एनडीए सरकार आपके साथ है।

राहुल ने मोदी सरकार पर हमला बोला था और उन्होंने कई मोर्चों पर नाकाम रहने का आरोप लगाया था। बीजेपी ने राहुल को बैकफुट पर लाने के लिए अमेठी की राह को चुना। यह बीजेपी की रणनीतिक चाल है कि राहुल को उनके घर में ही घेरा जाए। राहुल बीजेपी पर अटैक करते हैं तो बीजेपी अमेठी में अपनी गतिविधि तेज कर देती है।

2017 में उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव
किसानों के मुद्दों पर राजनीतिक दलों में हितैषी दिखने की होड़ उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के कारण है। इसकी शुरुआत बीजेपी ने अमेठी से शुरू कर दी है। स्मृति ईरानी का इस महीने दो बार अमेठी जाना महज संयोग नहीं है। अमेठी में बीजेपी के सीनियर नेता उमा शंकर पांडे ने कहा कि ईरानी का दौरा किसानों की समस्याओं पर फोकस है। उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता 2017 के विधानसभा चुनाव को लेकर उत्साह में हैं। 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अमेठी में महज दो विधानसभा सीटों (तिलोई और जगदीशपुर) पर जीत दर्ज कर पाई थी। 2014 के आम चुनाव के बाद से कांग्रेस पार्टी कैडर को संगठित करने में जुटी है।

एक सीनियर कांग्रेस नेता ने कहा, 'फूड पार्क और किसानों की समस्याओं पर राहुल ने आवाज उठाई है। राहुल गांधी लोगों के संपर्क बनाने में कामयाब हो रहे हैं। पार्टी कार्यकर्ता आशावादी हैं। राज्य भर में कांग्रेस लोगों बीच जाकर अपनी बात कह रही है। राहुल गांधी 2017 के विधानसभा चुनाव को लेकर संगठन को मजबूत करने में जुटे हैं।'

स्मृति ईरानी का अमेठी दौरा
हालांकि राहुल ने ईरानी के अमेठी दौरे पर कोई टिप्पणी नहीं की। उन्होंने आशंका जताई कि एनडीए सरकार अमेठी से और प्रॉजेक्ट के दूसरी जगह शिफ्ट कर सकती है। तिलोई से कांग्रेस विधायक मोहम्मद मुस्लिम ने कहा, 'इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ इंन्फर्मेशन टेक्नॉलजी (आईआईआईटी) से डिस्कवरी पार्क को रद्द कराने के पीछे स्मृति ईरानी ही हैं। ईरानी आईआईआईटी को इलाहाबाद शिफ्ट करने की साजिश रच रही हैं।


बीजेपी का राहुल पर हमला
अमेठी के बीजेपी नेता राहुल गांधी पर हमलावर हो गए हैं। ये आरोप लगा रहे हैं कि यूपीए के 10 साल के शासन में अमेठी का विकास नहीं हुआ। बीजेपी नेता उमाशंकर पांडे ने कहा कि राहुल गांधी पर अमेठी के लोगों का भरोसा खत्म हो रहा है। उन्होंने कहा, 'वह पिछले तीन दिनों के दौरे में किसानों की बात करते रहे लेकिन आज तक कुछ किया नहीं। ईरानी अमेठी के हेडक्वॉर्टर गरीगंज के पास कटरा लालगंज में मिट्टी जांच प्रयोगशाल स्थापित करने जा रही हैं। इसके साथ ही उन्होंने अपनी जेब से अमेठी के 25 हजार लोंगों का इंश्योरेंस कराने का फैसला किया है।'