रविवार, 24 जनवरी 2016

99 साल की जगह फ्री होल्ड पट्टे : राजस्थान की श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार का जन हितकारी निर्णय



राजस्थान की श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार का जन हितकारी निर्णय 

99 साल की जगह फ्री होल्ड पट्टे के प्रावधान को कैबिनेट की मंजूरी
Written By Goverdhan Choudhary , Update on 23-01-2016

— शहरी भूमि निष्पादन नियमों में संशोधन के बड़े फैसले
— 99 साल की लीज की जगह प्लॉट फ्री होल्ड करा सकेंगे
— बार— बार लीज जमा कराने के झंझट से मुक्ति
— लीज और फ्री होल्ड दोनों का विकल्प खुला रहेगा
— आवासीय जमीन को लीज राशि का 1.25 गुणा जमा करवाकर फ्री होल्ड करा सकेंगे, कमिर्शयल प्लाट के लिए 1.5 गुणा जमा कराकर फ्री होल्ड
— जिन प्लॉट की पहले लीज राशि जमा है, उनमें आवासीय में .25 फीसदी और कमिर्शयल में .50 फीसदी चार्ज लगेगा फ्री होल्ड का
— विशेष प्रयोजन के लिए आवंटित जमीन को इससे अलग रखा
— शहरी निकायों की आवासीय योजनाओं में प्रशासनिक चार्ज 30 फीसदी से घटाकर 20 फीसदी किया
— अब 1 लाख की जनसंख्या तक वाले शहर में प्लॉट मकान वाले भी सरकारी स्कीम में दूसरे शहरों में प्लॉट ले सकेंगे
— आवासीय योजनाओं में विकलांगों का कोटा 2 से बढ़ाकर 3 फीसदी किया
— सरकारी अवासीय योजनाओं में लिए प्लॉट को अब 5 साल में बेचा जा सकेगा, पहले 10 साल तक नहीं बेचने का प्रावधान था
— शहरी क्षेत्रों में अब अधिकतम प्लॉट साइज 750 वर्ग मीटर से घटाकर 550 वर्गमीटर की, यानी 550 वर्गमीटर से बड़ा प्लॉट आवंटित नहीं होगा
— कांची कामकोटी मेडिकल ट्रस्ट को 8342 वर्गमीटर जमीन आवंटन को मंजूरी
—   ट्रस्ट जयपुर मेें 225 बेडेड आई हॉस्पिटल खोलेगा, 80 फीसदी ग्रामीण मरीजों का इलाज करेगा
— जनता जल योजना को पूरी तरह ग्रामीण विकास विभाग चलाएगा, कैबिनेट ने दी मंजूरी
—  अनुसूचित क्षेत्रों में सभी पदों पर भर्ती के लिए आयु सीमा एक समान होगी, न्यूनतम आयु 18 और अधिकतम 35 साल होगी
— तहसील राजस्व लेखाकार के लिए भी अब कंप्यूटर में डिप्लोमा अनिवार्य होगा
— राज्य कर्मचारियों को अब पंचकर्म क्रिया से इलाज कराने पर भी पुनर्भरण मिलेगा, नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ आयुर्वेद की दरों के हिसाब से पुनर्भरण राशि मिलेगी
जयपुर।  कैबिनेट ने एक बड़ा फैसला करते हुए राजस्थान सुधार न्यास शहरी भूमि निष्पादन नियम 1974 में संशोधन किए हैं, फ्री होल्ड पट्टे के प्रावधान को मंजूरी दी है।  संशोधन के मुताबिक पहले 99 साल की लीज पर पलॅट मिलते थे, अब वन टाइम पैसा जमा करवाकर प्लॉट को फ्री होल्ड करवा कर ताउम्र मालिकाना हक ले सकेंगे।  बार बार लीज मनी जमा कराने से मुक्ति मिलेगी। आवासीय में लीज राशि का 1.25 गुणा और कमिर्शयल में 1.5 गुणा वन टाइम लीज राशि जमा करवाकर फ्री होल्ड करवा सकेंगे। वन टाइम लीज मनी आठ साल की जमा होती है, उसका 1.25 गुणा और 1.5 गुणा पैसाउ जमा होगा। अगर लीज राशि पहले जमा है तो फ्री होल्ड कराने के लिए  आवासीय में .25 फीसदी और कमिर्शयल में .50 फीसदी चार्ज लगेगा।  लेकिन इसमें विशेष प्रयोजन के लिए दी गई जमीनों को अलेग रखा हे। शहरी निकायों की आवासीय योजनाओं की लागत में पहले 30 फीसदी प्रशासनिक खर्च का पैसा शामिल होता था, उसे घटाकर अब 20 फीसदी कर दिया है। शही इलाकोें में अभी 50 हजार की जनसंख्या वाले शहर में प्लॉट होने पर सरकारी स्कीम में दूसा प्लॉट नही मिलता था अब एक लाख तक की जनसंख्या में प्लॉट होने पर भी आवासीय योजना में प्लॉट ले सकेंगे। आवासीय योजनाओं में विकलांगों का कोटा दो से बढाकर तीन फीसदी करने को मंजूरी दी हे। शहरी निकायों में अब अश्धिकतम 550 वर्गमीटर से ज्यदा प्लॉट आवंटित नहीं होगा, पहले यह साइज 750 वर्गमीटर थी।

कैबिनेट ने  कांचीकामकोटी मेडिकल ट्रस्ट को 8342 वर्गमीटर जमीन आवंटन को मंजूरी दी है। यह   ट्रस्ट जयपुर मेें 225 बेडेड आई हॉस्पिटल खोलेगा, 80 फीसदी ग्रामीण मरीजों का इलाज करेगा।  जनता जल योजना को पूरी तरह ग्रामीण विकास विभाग को सौंपने पर कैबिनेट ने मंजूरी दी है। अनुसूचित क्षेत्रों में सभी पदों पर भर्ती के लिए आयु सीमा एक समान होगी, न्यूनतम आयु 18 और अधिकतम 35 साल होगी।

आरपीएससी से होने वाली  तहसील राजस्व लेखाकार की भर्ती के लिए भी अब कंप्यूटर में डिप्लोमा अनिवार्य होगा।  राज्य कर्मचारियों को अब पंचकर्म क्रिया से इलाज कराने पर भी पुनर्भरण मिलेगा, नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ आयुर्वेद की दरों के हिसाब से पुनर्भरण राशि मिलेगी, अभी तक इसका प्रावधान नहीं था।

मुझ पर हर तरफ से हमले हो रहे : नरेंद्र मोदी



आखिरकार बाहर आ ही गई पीएम नरेंद्र मोदी की टीस,
बोले - मुझ पर हर तरफ से हमले हो रहे
Reported by Indo-Asian News Service , Last Updated: शुक्रवार जनवरी 22, 2016

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार सुबह वाराणसी में डीजल रेल इंजन कारखाना (डीरेका) मैदान में 9000 से ज्यादा विकलांगों को उपकरण बांटकर रिकॉर्ड बनाया। मोदी ने खुद कई बच्चों को उपकरण, हाईटेक छड़ी, ट्राइसाइकिलें बांटी। पीएम मोदी ने इस मौके पर यह भी कहा कि उनपर लगातार हमले हो रहे हैं, लेकिन वे विचलित नहीं हैं। पीएम मोदी ने इस मौके पर नई मॉडल रेलगाड़ी महामना एक्सप्रेस को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह रेलगाड़ी वाया लखनऊ हफ्ते में तीन दिन दिल्ली के लिए चलेगी।

पीएम मोदी ने कहा, "जब भी किसी को पुजारी कह कर परिचय कराया जाता है तो उसके चेहरे, उसके तिलक पर नजर जाता है। किसी को विद्वान कहकर परिचय कराया जाता है तो हम उसे एक अगल नजर से देखने लगते हैं।"

प्रधानमंत्री ने कहा, "जब किसी को विकलांग कह कर परिचय कराया जाता है तो नजर उस अंग पर जाती है जो काम नहीं करता। जबकि असलियत यह है कि विकलांग के पास भी ऐसी शक्ति होती है जो आम लोगों के पास नहीं होती। इनके पास दिव्य विशेषता होती है। इनके अंदर जो विशेष शक्ति है, उसे मैं दिव्यांग के रूप में देखता हूं।"

पीएम मोदी ने कहा, "विकलांगों के लिए 1992 से विभाग काम कर रहा है, लेकिन कभी इस तरह का आयोजन नहीं हुआ। इतने साल में बहुत कम लोगों को सहायता दी गई। 22 साल में सौ शिविर भी नहीं लगे, लेकिन एक साल में 1800 शिविर लगाए गए। पहले बिचौलिए फायदा उठाते थे, लेकिन शिविर लगने से बिचौलियों की दुकानें बंद हो गई हैं।"

पीएम मोदी ने कहा कि दो दिन पहले जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अपने देश में काशी और गंगा का गुणगान किया। शिंजो ने आरती के दौरान हुए अनुभव को दिव्य बताया है। ये काशी के लिए गौरव की बात है।

पीएम मोदी ने संबोधन की शुरुआत पूर्व सांसद शंकर प्रसाद जायसवाल और पूर्व विधायक हरिश्चंद्र श्रीवास्तव को श्रद्घांजलि देने के साथ की। इसके बाद सबसे पहले उन्होंने कार्यक्रम में आ रही बस के दुर्घटनाग्रस्त होने पर अफसोस जताया और कहा कि घायलों की पूरी व्यवस्था सरकार की तरफ से होगी।

कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत, मनोज सिन्हा, कलराज मिश्र, विजय सांपला, उप्र सरकार के मंत्री बलराम यादव, सचिव लव वर्मा भी मौजूद रहे।

इससे पूर्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को अपने संसदीय क्षेत्र पहुंचकर महामना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। आरामदायक सीटों वाली सुपरफास्ट रेलगाड़ी, महामना एक्सप्रेस में सफर करने के लिए यात्रियों में जबर्दस्त उत्साह दिखा। गुरुवार को रेलगाड़ी का रिजर्वेशन खुलते ही अगले एक सप्ताह तक के लिए सभी सीटें फुल हो गईं। यह स्थिति तब है, जब इस गाड़ी का किराया अन्य मेल एक्सप्रेस से 15 फीसदी अधिक है।

इस रेलगाड़ी का संचालन 25 जनवरी से शुरू होगा। इसके बाद 22418 नई दिल्ली से सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को और वाराणसी से 22417 मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को जाएगी। गणतंत्र दिवस के मौके पर वाराणसी से नई दिल्ली के लिए पहली यात्रा करने वाली 22417 महामना एक्सप्रेस की शयनयान श्रेणी में अगले छह दिनों के लिए सीटें फुल हो चुकी हैं।

--------------