शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2016

अरुण जेटली : क्या हम ऐसे लोगों को समर्थन दे रहे हैं, जिनकी सोच ही इस देश के टुकड़े करने की है




क्या हम ऐसे लोगों का समर्थन कर रहे हैं जिनकी सोच देश के टुकड़े करने की है : जेटली
http://khabar.ndtv.com/arun-jaitley
NDTVKhabar.com team , Last Updated: गुरुवार फ़रवरी 25, 2016
http://khabar.ndtv.com/news
नई दिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली और माकपा नेता सीताराम येचुरी ने गुरुवार को राज्यसभा में जेएनयू विवाद और हैदराबाद में रिसर्च स्कॉलर रोहित वेमुला की खुदकुशी के मामले में बहस में भाग लिया।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राष्ट्रवाद पर हुई बहस में सवाल किया कि क्या हम ऐसे लोगों को समर्थन दे रहे हैं, जिनकी सोच ही इस देश के टुकड़े करने की है। क्या कोई कह सकता है कि मकबूल बट और अफजल गुरु को फांसी दिए जाने वाले दिन को याद करते हुए उनका शहीदी दिवस मनाया जाए। एचसीयू और जेएनयू में जिस तरह के कार्यक्रम आयोजित किए गए, हमें उन्हें लेकर अपनी सोच स्पष्ट करनी चाहिए।

जेटली ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए कहा, जेएनयू जाने से पहले आपको सोचना चाहिए था, आप तो काफी समय तक सत्ता में रहे हैं। हम तो नए-नए आए हैं। आपके दो नेताओं को आतंकवादियों ने मारा है, आपको इस मामले में हमसे ज्यादा संवेदशील होना चाहिए।

जेटली के एक आरोप पर जवाब देते हुए सीताराम येचुरी ने कहा- मंत्री ने देश के टुकड़े करने की बात करने वालों के समर्थन की बात कही, जबकि हमने अल्ट्रा लेफ्टिज्म को मेन स्ट्रीम में लाने में मदद की।

कुछ गुंडे देशभक्ति सिखा रहे हैं : डीपी त्रिपाठी
एनसीपी नेता डीपी त्रिपाठी ने संसद में हुई बहस के दौरान कहा, मेरी नजर में रोहित वेमुला की मौत संस्थागत हत्या है। एक केंद्रीय मंत्री लिखते हैं कि वह विश्वविद्यालय देश विरोधी गतिविधियों का अड्डा बन चुका है। राष्ट्रीय एकता और भारत की संप्रभुता के लिए पूरी तरह से सहमत होते हुए कहना चाहता हूं कि भय, नफरत और कहल के माहौल के कारण ही ऐसी समस्याएं शुरू होती हैं।

उन्होंने कहा, 'एबीवीपी की रैली में क्या हुआ? दिल्ली विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के अध्यक्ष जो एबीवीपी सदस्य हैं ने कहा कि हम उस कैंपस में घुसकर धोखेबाजों को गोली मारेंगे। क्या यह नफरत फैलाने वाला बयान नहीं है?' त्रिपाठी ने आगे कहा, 'आज हम ऐसी स्थिति में पहुंच गए हैं, जहां अपराधी देशभक्ति सिखा रहे हैं और उनका सम्मान भी हो रहा है।'

जेएनयू की छवि को धूमिल करने की कोशिश हो रही है...
त्रिपाठी ने कहा, 'जेएनयू ने हमेशा से सांप्रदायिक और फासीवादी विचारधारा का विरोध किया है। सत्ता पक्ष के लोग 9 फरवरी की घटना को संस्थान की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। जब बीजेपी एकता और राष्ट्रवाद की बात करती है तो ऐसा लगता है, जैसे कालनेमी हनुमान चालिसा पढ़ रहा हो।'

जेएनयू से केवल राष्ट्रविरोधी खबरें ही क्यों आती हैं?
बीजेपी सांसद तरुण विजय ने कहा, 'ऐसे समय में जब देश में सभी की आंखें सियाचिन में अपनी जान गंवाने वाले वीर सैनिकों के लिए नम थी, तब जेएनयू में कुछ लोगों के ग्रुप ने राष्ट्रविरोधी नारे लगाए। मैं पूछना चाहता हूं कि जेएनयू जब भी सुर्खियों में आता है तो सिर्फ राष्ट्र विरोधी हरकतों के लिए क्यों आता है। न्यायपालिका पर हमला करना उनकी परंपरा बन गई है।'

केसी त्यागी ने स्मृति ईरानी को दिया जवाब
जेडीयू नेता केसी त्यागी ने मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी के बुधवार के भाषण पर बोलते हुए कहा, आप कहती हैं आपसे किसी ने आपकी जाति नहीं पूछी। आप सही हैं। किसी ने मुझसे भी नहीं पूछी। डीपी त्रिपाठी, नरेश अग्रवाल और राजीव शुक्ला से भी किसी ने नहीं पूछी। लेकिन अंबेडकर से पूछी गई, जगजीवन राम से पूछी गई, कर्पूरी ठाकुर से भी पूछी गई और पीएल पूनिया व कुमारी शैलजा से पूछी गई। यही नहीं मायावती से भी पूछी गई।
स्मृति ईरानी ने केसी त्यागी को जवाब देते हुए कहा, मैंने कभी जातिवादी बयान नहीं दिया। ये गलत बयान है।


विचारों में इतनी असहनशीलता क्यों दिख रही है
बहस में हस्तक्षेप करते हुए जेटली ने कहा, 'इस बारे में कोई विवाद नहीं है जब आप कहते हैं कि यूनिवर्सिटी में स्वतंत्र विचारों की इजाजत होनी चाहिए लेकिन इसके साथ वैचारिक दृष्टिकोण भी है। इस वैचारिक दृष्टिकोण के तहत इस स्तर की असहनशीलता क्‍यों दिखाई जा रही है।' वे येचुरी के भाषण पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे।

इससे पहले येचुरी ने बहस की शुरुआत करते हुए जेएनयू विवाद में मोदी सरकार पर पक्षपातपूर्ण हस्तक्षेप का आरोप लगाया। यूनिवर्सिटी परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में देश विरोधी नारेबाजी के बाद कुछ छात्रों पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया है। येचुरी ने कहा कि राष्ट्रवाद  के नाम पर यूनिवर्सिटी को दंडित किया जा रहा है। मेरी राय में यह बेहद  दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्‍होंने कहा कि आप हमें देशभक्ति का पाठ नहीं पढ़ाएं।

राजनाथ ने निर्दोष छात्रों को परेशान न करने का दिया भरोसा
इससे पहले राजनाथ सिंह ने बुधवार को लोकसभा में बहस में हिस्‍सा लेते हुए सदन का भरोसा दिलया था कि किसी भी निर्दोष छात्र को प्रताड़ि‍त नहीं किया जाएगा। उन्‍होंने कहा था कि यदि देशद्रोह के आरोप सही हैं तो कोर्ट इसे बरकरार रख सकता है और यदि ये गलत है तो खत्म कर सकता है, लेकिन हमें इस मामले में पहले कोर्ट को राय तो जाहिर करने दीजिये।

स्‍मृति ईरानी ने विपक्ष पर साधा निशाना
मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने दोनों मामलों में विपक्ष पर जवाबी हमला बोला था। उन्‍होंने बुधवार को कहा था, 'अपने कर्तव्य का निर्वाह करने के लिए मैं माफी नहीं मांगूंगी। उन्‍होंने कहा कि 20 माह के अपने कार्यकाल में मैंने बिना किसी भेदभाव के देश की और लोगों की सेवा की है। ईरानी ने कहा कि उन्हें हजारों की संख्या में लोगों से अर्जियां मिली हैं और उन्होंने इसका निपटारा किया और किसी से यह नहीं पूछा कि उनकी जाति या धर्म क्या है।

कांग्रेस के आरोपों पर स्मृति ने कहा कि मुझ पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि हैदराबाद विश्वविद्यालय को पत्र क्यों लिखा। कांग्रेस सांसद हनुमंथ राव के कई पत्र मुझे मिले और इसमें कहा गया कि हैदराबाद विश्वविद्यालय में न्याय होना चाहिए। उनकी नीयत में कोई खोट नहीं थी और इस कारण पत्र लिखा। देशद्रोह के आरोपी जेएनयू के छात्रों के समर्थन के मसले पर उन्होंने कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर निशाना साधा।


करदाता का पैसा, देश के खिलाफ भड़काने के लिए खर्च नहीं किया जा सकता : अनुराग सिंह ठाकुर




श्री अनुराग सिंह ठाकुरः यह कांग्रेस पार्टी को तय करना होगा कि वह जान लेने वालों के साथ हैं
या जान बचाने वालों के साथ हैं। आज देश यही जवाब मांगना चाहता है। जे॰एन॰यू॰ की ग्राण्ट
पिछले डेढ़ साल में कम नहीं हुई। लेकिन देश के करदाता का पैसा किसी को देश के खिलाफ
भड़काने के लिए खर्च नहीं किया जा सकता हैं यदि करदाता पूछता है कि पैसा मेरा काटते हो,
सब्सिडी वहां पर देते हो, लेकिन तिरंगे झंडे को अपमानित करने वाले, देश के सैनिकों को
अपमानित करने वालों को क्या हम वहां इकट्ठा करके रखोगे। यह नहीं चलेगा और यही नहीं, वहां
पर नारे क्या लगे थे, नारे लगे ‘कश्मीर की आजादी तक, जंग रहेगी। भारत की बर्बादी तक, जंग
रहेगी। अगर इसी को अभिव्यक्ति की आजादी कहा जाता है तो दुर्भाग्य है, यह अभिव्यक्ति की
आजादी नहीं है। कोई भी अपने देश को तोड़ने के लिए, ऐसी देशविरोधी ताकतों को आगे आने को
कोई मौका नहीं देंगे। मैं कहना चाहता हूं कि भारत सरकार और भारत में अंतर है। भारत सरकार
की आलोचना कीजिए। हमारी सरकार की नीतियों और हमारे कार्यक्रमों की आलोचना कीजिए
लेकिन हमारे भारत की आलोचना मत कीजिए। वर्ष 2010 में दांतेवाड़ा में सीआरपीएफ के 76
जवान शहीद हुए लेकिन यही डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन और ये बाकी कम्युनिस्ट संगठन पर
जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में इसका जश्न मना रहे थे। क्या यही सहिष्णुता है? आप माओवादी
सोच को, अलगावादी सोच को, जेएनयू में समर्थन करते हैं। आप उन देशद्रोहियों के साथ हो या
देशभक्तों के साथ हो। हम माओवादियों के साथ कभी नहीं हैं। जो आतंकवादी हैं, उसे शहीद का
दर्जा दिया जाता है। कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है लेकिन जेएनयू का छात्रसंघ कहता है कि नहीं
है। उसके साथ जाकर आप खड़े होते हैं। हम सत्ता में सेवा करने के लिए आए है। आप देश के टुकड़े
करने पर आ गए हैं, हमें इस बात का दुःख है।

-------------

लोकसभा: जेएनयू में राष्ट्रद्रोह के नारे पर खूब घमासान मचा

नई दिल्ली। संसद में बजट सत्र के दूसरे दिन बुधवार को राज्यसभा में भारी हंगामे के बाद लोकसभा में भी दलित छात्र रोहित वेमुला खुदकुशी मामला और जेएनयू में राष्ट्रद्रोह के नारे पर खूब घमासान मचा। रोहित वेमुला पर सदन में दोपहर करीब तीन बजे बहस शुरू हुई। कांग्रेस ने रोहित के अलावा जेएनयू के मुद्दे पर भी मोदी सरकार को घेरा। कांग्रेस के आरोपों का भाजपा सांसदों ने जोरदार तरीके से जवाब भी दिया।
भाजपा ने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के लिए परिवार पहले, पार्टी दूसरे एवं देश अंतिम नंबर पर है। साथ ही कहा कि देशद्रोही नारेबाजी करने वाले छात्रों का विरोध करने के बजाय राहुल गांधी द्वारा जेएनयू परिसर में जाकर कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी का विरोध करना उनकी पार्टी की इस विचारधारा को सही साबित करता है। बजट सत्र के दूसरे दिन भाजपा नेता एवं सांसद अनुराग ठाकुर ने बुधवार को लोकसभा में कहा कि जेएनयू उनके दादा एवं देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु के नाम से है लेकिन राहुल गांधी ने जेएनयू परिसर में जाकर देशद्रोही नारेबाजी करने वाले छात्रों के प्रदर्शन को संबोधित कर यह साबित किया है कि कांग्रेस पार्टी के लिए परिवार पहले, पार्टी दूसरे और देश अंतिम ही उनकी प्राथमिकता में है। हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर से सांसद ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष को यह साबित करना होगा कि राहुल और उनकी पार्टी की विचारधारा किस ओर है।  राहुल संसद हमले में फांसी पाए अफजल गुरु के साथ है या संसद एवं लोकतंत्र के साथ। देश उनके इस जवाब का इंतजार कर रहा है।
कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राहुल गांधी की आलोचना वाले भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर पर पलटवार करते हुए केन्द्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सांसद ऐसा कर रिकार्ड को मिटाने की कोशिश कर रहे है। सिंधिया ने केन्द्रीय मंत्री द्वारा जेएनयू जैसे विश्वस्तरीय संस्थान को बंद करने की मांग पर रोष जताते हुए केन्द्र सरकार से पूछा कि संस्थान ने शुरु से ही बुद्दिजीवी वर्ग देश को दिया है, लेकिन सरकार इसे देशद्रोही का केन्द्र बताकर संस्थान को बंद करने की साजिश कर रही है जो कि गलत है।
जेएनयू मामले में आतंकी हाफिज सईद का समर्थन मिलने वाले बयान पर केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह पर निशाना साधते हुए कांग्रेस सांसद ने कहा कि गृह मंत्री को ऐसा बयान देने से पहले पुख्ता सबूत एवं जांच करनी चाहिए थी, जो उन्हें नहीं किया। इससे  साबित होता है कि केन्द्र सरकार देश की सुरक्षा के प्रति सतर्क नहीं है। कांग्रेस सांसदों ने जेएनयू मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा चुप्पी साधे पर भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधा है।